Info Link Ad

Main Section

Faridabad Assembly

Palwal Assembly

Faridabad Info

Showing posts with label Faridabad News. Show all posts

दोपहर बाद बदल सकता है फरीदाबाद सहित दिल्ली-NCR का मौसम, हो सकती है बारिश


फरीदाबाद: मई का दूसरा हफ्ता लेकिन अब तक फरीदाबाद में पहले जैसी गर्मी का आगमन नहीं हुआ है जिसका कारण है गर्मी बढ़ते ही मौसम में बदलाव आ जाता है और बारिश शुरू हो जाती है। मार्च से ही ऐसे ही चल रहा है। शायद ही कोई हफ्ता ऐसा गया हो जिस हफ्ते में एक दो दिन बारिश न हुई हो। एक दो दिनों से शहर के लोग थोड़ी गर्मी महसूस कर रहे थे लेकिन संभव है आज दोपहर तक कुछ हिस्सों में फिर बारिश हो सकती है। सुबह 10 बजे शहर के तामपान में काफी बढ़ोत्तरी देखी जा सकती है और अधिकतम तापमान 41 डिग्री के पार जा सकता है लेकिन दोपहर एक बजे के बाद मौसम बदल सकता है और कई क्षेत्रों में बारिश हो सकती है। दोपहर का तापमान दो से तीन डिग्री लुढ़क सकता है। 

भारतीय मौसम विभाग  के अनुसार, पश्चिमी विक्षोभ की वजह से 10 मई से 13 मई के बीच दिल्‍ली-एनसीआर में 40-50 किलोमीटर की स्‍पीड से हवाएं चल सकती हैं। 10 से 12 मई के बीच आसमान में बादल छाए रहेंगे। शनिवार को पारा 40 डिग्री पार कर सकता है मगर फिर उसमें 3-4 डिग्री की गिरावट देखने को मिलेगी। शनिवार शाम से मौसम बदलना शुरू हो सकता है। फरीदाबाद ही नहीं दिल्ली एनसीआर सहित कई राज्यों में आज दोपहर के बाद मौसम बदल सकता है और बारिश हो सकती है। 

IAS रानी नागर का स्तीफा नामंजूर, पप्पी ने मोदी के मंत्री कृष्णपाल गुर्जर की जमकर तारीफ की 


फरीदाबाद: आईएएस रानी नागर का स्तीफा कल नामंजूर किया गया जिसके बाद से ही केंद्रीय राज्य मंत्री एवं फरीदाबाद के सांसद कृष्णपाल गुर्जर की देश भर में जमकर तारीफ़ हो रही है। आज भी ट्विटर और फेसबुक पर उनकी तारीफ़ करने वालों की बाढ़ दिखी। फरीदाबाद के भाजपा नेता प्रेमकृष्ण आर्य उर्फ़ पप्पी जो जम्मू-कश्मीर ओबीसी मोर्चा के प्रदेश सह प्रभारी हैं। उन्होंने सोशल मीडिया पर क्या लिखा है पढ़ें। 

     हमारा सांसद, हमाराअभिमान
राम राम जी। 
दोस्तों जैसा कि आपको ज्ञात होगा हमारे पिछड़े वर्ग समाज से  एक बेटी IAS रानी नागर जो कि हरियाणा में कार्यरत हैं। ने किसी परेशानी की वजह से अपने पद से  इस्तीफा सोशल मीडिया के द्वारा मुख्यमंत्री जी को दे दिया था।जिस से पिछड़े वर्ग समाज में काफी रोष व्याप्त हो गया था। तब ही हमारे लोकप्रिय सांसद एवं देश में मंत्री आदरणीय श्री कृष्ण पाल गुर्जर जी ने बड़ी सूझबूझ से इस विषय पर संज्ञान लिया तथा पूरे समाज को आश्वस्त किया कि हम आईएएस रानी नागर के साथ कोई नाइंसाफी नहीं होने देंगे। और उन्होंने कल इसका परिणाम भी दिया है उन्होंने मुख्यमंत्री जी से मिलकर एवं भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से मिलकर इस विषय से अवगत कराया।  तथा मैं समझता हूं कि उनकी मेहनत रंग लाई है। और इस घटना से हमें यह पता लग गया है। कि चौधरी कृष्णपाल गुर्जर ही  पिछड़ा वर्ग समाज के सच्चे हितैषी एवं सर्वमान्य नेता हैं। उनकी कथनी और करनी में नाममात्र भी अंतर नहीं है। कल आईएस रानी नागर जी का इस्तीफा नामंजूर करके उन्हें उनके गृह राज्य में तबादले के लिए आदरणीय मुख्यमंत्री जी ने केंद्र सरकार से सिफारिश की है। हम पिछड़े वर्ग  के वरिष्ठ नेता  एवं गुर्जर समाज के गौरव चौधरी कृष्णपाल गुर्जर जी का एवं हमारे माननीय मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर जी का धन्यवाद करते हैं। 

हमे अपने सांसद पर गर्व है।
चौधरी कृष्णपाल गुर्जर जिंदाबाद।

फरीदाबाद की अदालत की मंदिर में चोरी करने वाले चोरों को पुलिस ने मात्र ढाई घंटे में दबोचा 


फरीदाबाद: अदालत परिसर में बने मंदिर से रुपए चुराने वाले दो आरोपियों को थाना सेंट्रल पुलिस ने दबोच लिया है।  आरोपियों से चोरी किया गया मंदिर का चढ़ावा ₹38570 रुपए बरामद किया गया है।  उच्च अधिकारियों के निर्देश पर कार्य करते हुए  थाना सेंट्रल पुलिस ने फरीदाबाद जिला अदालत में बने मंदिर से रुपए चोरी करने वाले दो आरोपियों को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है।

 गिरफ्तार आरोपी:-

1. रोहित निवासी इंदौर मध्य प्रदेश हाल निवासी गड़ी मोहल्ला ओल्ड।

2. कमल निवासी कपिलवस्तु नेपाल हाल निवासी सरपंच कॉलोनी बडोली ।

आपको बताते चलें कि उपरोक्त दो आरोपियों ने फरीदाबाद अदालत परिसर में बने मंदिर से चढ़ावे के पैसे चोरी कर फरार हो गए थे। मंदिर के पुजारी ने इस बारे में थाना सेंट्रल पुलिस को शिकायत दर्ज कराई जिस पर थाना सेंट्रल में चोरी का मुकदमा दर्ज कर आगामी कार्रवाई शुरू की गई।

एसएचओ थाना सेंट्रल ने बताया कि अदालत परिसर मे मंदिर है जिसमें फरीदाबाद के हजारों वकीलो द्वारा समय-समय पर मंदिर के रखरखाव के लिए चढ़ावा देते रहते हैं। वकीलों के द्वारा मंदिर में दिया गया पिछले 4 साल का चढ़ावा उपरोक्त दो आरोपी लेकर फरार हो गए थे।

पुलिस ने सूत्रों से मिली सूचना एवं पूछताछ के आधार पर उपरोक्त दोनों आरोपियों को मात्र ढाई घंटे में खोज निकाला। थाना प्रभारी महेंद्र पाठक ने बताया कि आरोपियों से चोरी किए हुए 38570 रुपए बरामद कर लिए गए।
आरोपियों को अदालत में पेश कर जिला जेल नीमका भेजा गया है।

फरीदाबाद में 88 पहुँची कोरोना के मरीजों की संख्या, 54 ठीक 30 अस्पताल में


फरीदाबाद, 8 मई---- उप सिविल सर्जन एवं जिला नोडल अधिकारी-कोरोना डा. रामभगत ने बताया कि जिला में अब तक 5857 यात्रियों को सर्विलांस पर लिया जा चुका है, जिनमें से 1518 लोगों का निगरानी में रखने का 28 दिन का पीरियड पूरा हो चुका है। शेष 4337 लोग अंडर सर्विलांस हैं। कुल सर्विलांस में रखे गए लोगों में से 5769 होम आइसोलेशन पर हैं। अब तक 4866 लोगों के सैंपल लैब में भेजे गए थे, जिनमें से 4471 की नेगेटिव रिपोर्ट मिली है तथा 307 की रिपोर्ट आनी शेष है। अब तक 88 लोगों के सैंपल पॉजिटिव मिले हैं, जिनमें से 30 लोगों को अस्पताल में दाखिल किया गया है तथा 2 मरीजों को घर पर ही आइसोलेट किया गया है। इसमें दो मरीजो की मौत भी हो चुकी है। ठीक होने के बाद 54 लोगांे को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया है।

उन्होंने बताया कि सभी मेडिकल और पैरा मेडिकल स्टाफ को कोविड-19 की रोकथाम और प्रबंधन के लिए प्रशिक्षित किया गया है। इसी प्रकार पर्यावरण स्वच्छता और शुद्धीकरण के बारे में सरकारी व निजी विभागों के कर्मचारियों को दैनिक आधार पर प्रशिक्षण दिया जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस के संभावित संक्रमण की पृष्ठभूमि को देखते हुए आम जनता को सरकार द्वारा स्वास्थ्य संबंधी हिदायतों की अनुपालना करने की सलाह दी जाती है। लोगो को ध्यान रखना चाहिए कि खाँसी व छींकते समय रूमाल या तौलिया का उपयोग अवश्य करें, हाथों को बार-बार साबुन व पानी से धोते रहें। जब तक बहुत जरूरी न हो, घर से बाहर न निकलें। सार्वजनिक स्थलों व सभाओं में जाने से बचें। जिन लोगों ने हाल ही में कोरोना प्रभावित देशों की यात्रा की है, उन्हें राष्ट्रीय, राज्य या जिला हेल्पलाइन नंबरों पर सूचना देनी चाहिए, उन्हें भारत में आगमन की तारीख से 28 दिनों के लिए सभी से अलग रहना है और किसी से भी स्पर्श करने से बचना है, भले ही उसमें कोई लक्षण न हों।

लॉकडाउन में फरीदाबाद के गुरूद्वारा कमेटियों ने लाखों जरूरतमंदों तक पहुँचाया भोजन 


फरीदाबाद, 8 मई----कोविड-19 के मद्देनजर लॉकडाउन के दौरान जरूरतमंद व्यक्तियों के लिए पका भोजन के पैकेट्स तैयार करने में गुरूद्वारा कमेटियों की ओर से सहरानीय काम किया है। शहर में अलग-अलग वार्डों व स्थानों पर गुरूद्वारा कमेटियों द्वारा खाना पकाने के लिए बड़ी रसोई चलाई गई तथा पका भोजन तैयार किया। इसके बाद एचएसवीपी के प्रशासक व नोडल अधिकारी फूड वितरण प्रदीप दहिया की देखरेख में जिला प्रशासन के अधिकारियों व वालिंटियर्स की मदद से प्रतिदिन हजारों जरूरतमंदों तक खाना पहुंचाया गया।

इन गुरुद्वारों में मुख्य रूप से  सेक्टर-15 स्थित श्री गुरुद्वारा सिंह सभा में बड़े स्तर पर कार्य हुआ तथा इसके अलावा जवाहर कालोनी गुरूद्वारा, इंदिरा कालोनी गुरूद्वारा, सैनिक कालोनी गुरूद्वारा, सैक्टर-55 गुरूद्वारा, एनआईटी में गुरूग्रंथ गुरूद्वारा और संतो गुरूद्वारा में कमेटियों द्वारा रसोई चलाई गई तथा जरूरतमंद लोगों के लिए भोजन के पैकेट तैयार किए। गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटियों का प्रयास रहा कि सुबह व शाम पका भोजन गरीब व साधनविहीन व्यक्तियों तक पहुंचे। इंदिरा कालोनी स्थित गुरूद्वारा के प्रधान तरसेम सिंह ने बताया कि यहां पर प्रतिदिन 450 से 500 पका खाना के पैकेट्स तैयार किए जा रहे हैं तथा कुछ परिवारों को सूखा राशन भी वितरित किया गया है। 
जवाहर कालोनी स्थित गुरूद्वारा के प्रधान रणजोत सिंह ने बताया कि यहां पर प्रतिदिन करीब 800 पैकेट्स पका खाना के तैयार किए जाते हैं। सेक्टर-55 स्थित गुरूद्वारा के प्रधान सर्वजीत सिंह ने बताया कि यहां पर करीब 250 खाने के पैकेट्स तैयार किए जा रहे हैं। एनआईटी-1 स्थित गुरूग्रंथ गुरूद्वारा के प्रधान गुरमिंद्र सिंह और संतो गुरूद्वारा के प्रधान बीरू तरड़ा ने बताया कि यहां पर करीब 150-150 पैकेट्स खाने के तैयार किए जाते हैं। उन्होंने कहा कि गुरुद्वारों की सारी संगत गुरुनानक देव के दिखाये सत्संग के मार्ग पर चलकर कोरोना जैसी आपात परिस्थिति में गरीबों की मदद को तत्पर है। यह संगत सेवा करने के लिये दिन-रात जुटी हुई है।

पलवल से सुखद अनुभव के साथ गृह जिलों के लिए रवाना हुए प्रवासी श्रमिक


पलवल- मुख्यमंत्री  मनोहर लाल की सार्थक पहल पर पलवल जिला में रह रहे 37 प्रवासी श्रमिकों को शुक्रवार को रोहतक रेलवे स्टेशन से उनके गृह जिला में भेजने की व्यवस्था जिला प्रशासन की ओर से की गई।  पलवल के महाराणा प्रताप भवन से रोडवेज की 2 बसों के माध्यम से उक्त प्रवासी श्रमिकों को रोहतक रेलवे स्टेशन पहुंचाया गया जहां से वे अपने गंतव्य सहरसा (बिहार)की ओर ट्रेन से रवाना होंगे। पलवल से रवाना होने से पहले अनेक प्रवासी श्रमिकों ने हरियाणा सरकार, जिला प्रशासन व पलवल जिला की स्वयंसेवी संस्थाओं का आभार जताया। कोविड-19 वैश्विक महामारी से बचाव के लिए राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन में यहां मिली सुविधाओं का अच्छा अनुभव वे कभी नहीं भूल पाएंगे।

उपायुक्त नरेश नरवाल ने बताया कि विशेष रूप से पहले कृषि क्षेत्र से जुड़े प्रवासी श्रमिकों को हरियाणा सरकार की ओर से उनके घर भेजने की व्यवस्था की गई है, ऐसे में पलवल जिला में प्रारंभिक चरण में शुक्रवार को 37 प्रवासी श्रमिकों को पूरे स्वास्थ्य जांच उपरांत बसों में बिस्किट व पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित करते हुए रोहतक के लिए रवाना किया गया। सुरक्षा की दृष्टिï से श्रमिकों के साथ पुलिस टीम भी रेलवे स्टेशन रोहतक तक भेजी गई। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के तहत चल रहे लॉकडाउन में प्रवासी श्रमिकों को उनके घर पहुंचाने का कार्य मुख्यमंत्री की सकारात्मक सोच का परिणाम है। उन्होंने बताया कि पलवल जिला में प्रवासी श्रमिकों को भेजने के लिए नोडल अधिकारी के रूप में एडीसी वत्सल वशिष्ठ को लगाया गया है। साथ ही जिला के सभी एसडीएम अपने उपमंडल से संबंधित संपूर्ण जानकारी रिकार्ड सहित नोडल अधिकारी को देंगे, ताकि निरंतर प्रवासी श्रमिकों को उनके गृह जिलों तक पहुंचाया जा सके। उपायुक्त ने कहा कि गृह राज्य में जाने के इच्छुक प्रवासी श्रमिक, नागरिक व छात्र आदि सरकार द्वारा जारी किए गए केंद्रीकृत लिंक https://edisha.gov.in/eForms/MigrantService पर अपना पंजीकरण करवाएं ताकि पूरी व्यवस्था व स्वास्थ्य सुरक्षा के तहत उन्हें भेजा जा सके। उन्होंने कहा कि प्रवासी श्रमिक टोल फ्री नंबर 1950 से भी जानकारी ले सकते हैं।
सोशल डिस्टेंसिंग का रखा गया ध्यान : एडीसी
एडीसी वत्सल वशिष्ठ ने बताया कि सोशल डिस्टेंस को ध्यान में रखकर श्रमिकों को बसों में बैठाकर रोहतक रेलवे स्टेशन के लिए भेजा गया है। उन्होंने बताया कि सरकार व प्रशासन में सभी श्रमिकों के लिए हर सुविधाएं मुहैया कराई हैं उन्हें बिना किसी खर्चे के उनके अपनों के बीच भेजा जा रहा है। इतना ही नहीं उनके खाने पीने की व्यवस्था भी प्रशासन सरकार की तरफ से उनकी यात्रा शुरू होने से समाप्ति तक की जा रही है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री स्वयं प्रवासी श्रमिकों को भेजने की पूरी प्रक्रिया की मॉनिटरिंग कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि पलवल जिला के प्रवासी श्रमिकों को भेजने से पूर्व शैल्टर हॉम में बुलाकर उनके स्वास्थ्य की जांच करने सहित अन्य आवश्यक रिकॉर्ड बनाया जाता है और उसके बाद ही उन्हें उनके गृह जिलों में भेजने की प्रक्रिया अमल में लाई जा रही है। उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार की ओर से उन्हें प्रदत्त की गई सेवाओं का वे अच्छा अनुभव लेकर अपने घरों को लौट रहे हैं।

फरीदाबाद के कोरोना के कुल 85 केस, 2 की मौत, 48 ठीक, 33 अस्पताल में


फरीदाबाद, 7 मई। उप सिविल सर्जन एवं जिला नोडल अधिकारी-कोरोना डा. रामभगत ने बताया कि जिला में अब तक 5600 यात्रियों को सर्विलांस पर लिया जा चुका है, जिनमें से 1518 लोगों का निगरानी में रखने का 28 दिन का पीरियड पूरा हो चुका है। शेष 4080 लोग अंडर सर्विलांस हैं। कुल सर्विलांस में रखे गए लोगों में से 5516 होम आइसोलेशन पर हैं। अब तक 4559 लोगों के सैंपल लैब में भेजे गए थे, जिनमें से 4300 की नेगेटिव रिपोर्ट मिली है तथा 175 की रिपोर्ट आनी शेष है। अब तक 85 लोगों के सैंपल पॉजिटिव मिले हैं, जिनमें से 33 लोगों को अस्पताल में दाखिल किया गया है तथा ठीक होने के बाद 48 को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया है।  दो  पॉजिटिव मरीजों को घर पर आइसोलेटेड किया गया है। इसमें दो मरीजो की मौत भी हो गई है।

उन्होंने बताया कि सभी मेडिकल और पैरा मेडिकल स्टाफ को कोविड-19 की रोकथाम और प्रबंधन के लिए प्रशिक्षित किया गया है। इसी प्रकार पर्यावरण स्वच्छता और शुद्धीकरण के बारे में सरकारी व निजी विभागों के कर्मचारियों को दैनिक आधार पर प्रशिक्षण दिया जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस के संभावित संक्रमण की पृष्ठभूमि को देखते हुए आम जनता को सरकार द्वारा स्वास्थ्य संबंधी हिदायतों की अनुपालना करने की सलाह दी जाती है। लोगो को ध्यान रखना चाहिए कि खाँसी व छींकते समय रूमाल या तौलिया का उपयोग अवश्य करें, हाथों को बार-बार साबुन व पानी से धोते रहें। जब तक बहुत जरूरी न हो, घर से बाहर न निकलें। सार्वजनिक स्थलों व सभाओं में जाने से बचें। जिन लोगों ने हाल ही में कोरोना प्रभावित देशों की यात्रा की है, उन्हें राष्ट्रीय, राज्य या जिला हेल्पलाइन नंबरों पर सूचना देनी चाहिए, उन्हें भारत में आगमन की तारीख से 28 दिनों के लिए सभी से अलग रहना है और किसी से भी स्पर्श करने से बचना है, भले ही उसमें कोई लक्षण न हों।

28 दिन बाद घर पहुंचे ESIC अस्पताल में कोरोना के मरीजों का इलाज कर रहे डाक्टर का जोरदार स्वागत


फरीदाबाद: डॉ. यतिंदर सिंह जोकि "ई एस आई सी हस्पताल" फरीदाबाद में कोरोना रोगी वार्ड में कार्यरत है और पिछले 28  दिनों से लगातार कोरोनाग्रस्त मरीजों कि सेवा के बाद कल घर वापस आए। उनका स्वागत "Progressive Residents Organization" सेक्टर-14 संरक्षक  सतीश मलिक , अध्यक्ष  राकेश सिंगला ,गणमान्य सदस्य  राकेश गुप्ता ,  सुभाष अदलक्खा , नरेश गुप्ता , कुकरेजा, सरवागी , कौशल  और अन्य प्रमुख निवासियों ने किया। 

डॉ. यतिंदर सिंह,  वीरेंद्र सिंह तंवर  के पुत्र हैं, जो बडखल क्षेत्र में  में तहसीलदार हैं और इस कारोना समय में प्रशासकीय कार्यों के प्रबंधन के लिए ड्यूटी कर रहे हैं। संस्था के लोगों ने कहा कि हम और समाज पूरे दिल से पिता पुत्र को इस विकट समय में मानवता की सेवा के लिए तहेदिल से धन्यवाद करते हैं।

दिल्ली-हरियाणा के बीच मूवमेंट के लिए अनुमति प्रदान की जाए : राजीव चावला


फरीदाबाद।  आईएमएसएमई ऑफ इंडिया ने हरियाणा व केंद्र सरकार से आग्रह किया है कि लॉक डाउन के दौरान मूवमेंट संबंधी अनुमति का दायरा बढ़ाया जाए और इसे विशेषकर दिल्ली के लिए अधिकृत किया जाए। 

आईएमएसएमई के चेयरमैन श्री राजीव चावला ने बताया कि इस संबंध में मुख्य सचिव व प्रधान सचिव उद्योग विभाग के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस मीटिंग में आग्रह किया गया है कि मूवमैंट के लिए दूसरे प्रदेशों में जाने की अनुमति भी दी जानी चाहिए और कुछ मूवमेंट पास जारी किए जाने चाहिए ताकि हरियाणा बदली के बीच सीमित संख्या में लोग आवाजाही कर सकें। कहा गया है कि इसके बिना उद्योग व व्यापार को चला पाना संभव नहीं हो रहा है।

राजीव  चावला के अनुसार जिस प्रकार सरकार ने लॉक डॉउन के दौरान आर्थिक गतिविधियों को गति देने की प्रक्रिया आरंभ की है, वह सराहनीय है परंतु इसका थोड़ा सा और विस्तार किया जाना चाहिए ताकि इसका लाभ सभी वर्गों को मिल सके। 

श्री चावला ने इसके साथ-साथ उन दुकानों व प्रतिष्ठानों को भी खोलने की अनुमति देने का आग्रह किया है जो उद्योगों को रा मेटेरियल या अन्य सेवाएं उपलब्ध कराते हैं।

आपने सरकार द्वारा 10 श्रमिकों तक के साथ उद्योग में कार्य आरंभ करने की अनुमति देने की जहां सराहना की है, वही श्री चावला ने उद्योग प्रबंधकों से भी आह्वान किया है कि वे बिना अनुमति के कार्य ना करें। आपने इसके साथ-साथ औद्योगिक संस्थानों में स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी निर्देशों की पालना को सुनिश्चित करने का भी आह्वान भी किया है।


फरीदाबाद में अवैध रूप से चल रहे 34 आर.ओ. प्लांट के पानी के कनेक्शन काटे गए


फरीदाबाद, 7 मई। फरीदाबाद नगर निगम के आयुक्त डा. यष गर्ग के आदेष पर निगम कर्मचारियों ने आज यहां अनेकों स्थानों पर अवैध रूप से चल रहे 34 आर.ओ. प्लांट के पानी के कनेक्शन काट दिये।  इनमें से संजय कालोनी सेक्टर-23 में 7, डबुआ कालोनी में 7, एन.एच.1 व एच. 2 में 18 और एन.एच. 5 में 2 कनैक्षनों का काटा गया है। निगमायुक्त ने कहा है कि निगम प्रषासन का यह अभियान निरंतर जारी रहेगा, जिसके लिए सभी कार्यकारी अभियंताओं को  अपने-अपने क्षेत्रों में पानी के इस प्रकार से किये जा रहे दुरूपयोग को रोकने के आदेष पहले ही दिये जा चुके है।  उन्होंने चेतावनी दी है कि निगम के द्वारा एक बार अवैध कनैक्षनों का काटने के बाद यदि कोई व्यक्ति कनैक्षन दोबारा जोड़ लेता है तो संबधित संयुक्त आयुक्तों के द्वारा ऐसे व्यक्तियों के विरूद्ध एफ.आई.आर. दर्ज करवाई जायेगी।

            उन्होंने कहा कि गर्मी के मौसम को देखते हुए जहां निगम प्रषासन का यह भरसक प्रयास है कि षहरवासियों को समुचित जलापूर्ति निर्बाध रूप से मिले वहीं दूसरी ओर कुछ लोग अवैध आर.ओ. प्लांट या इसी प्रकार की अन्य वाणिज्यिक गतिविधियों के लिए पीने के पानी का दुरूपयोग कर रहे हैं, जिसे व्यापक जनहित में बर्दाष्त नहीं किया जा सकता है।  उन्होंने कहा कि जिला प्रषासन व नगर निगम प्रषासन पहले ही कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने और इस संकटकाल में जरूरतमंदों को आवष्यक सहायता पहुंचाने में लगा हुआ है, अतः ऐसी परिस्थितियों में आम नागरिक स्वयं पहलकदमी करते हुए अपने आस-पड़ोस में हो रहे पानी के दुरूपयोग की सूचना निगम प्रषासन को उसके कंट्रौल रूम के फोन नम्बर 0129-2415549 व 0129-2411664 पर दें।  उन्होंने आम नागरिकों  से यह भी अपील की है कि वे जिम्मेदारी का परिचय देते हुए पानी का अनावष्यक प्रयोग न करें, जिससे कि पहले ही कोरोना आपदा से जूझ रहे षहरवासियों के सामने पीने के पानी की समस्या उत्पन्न न होने पाये। 

मास्क बनाने में प्रदेश में अव्वल स्थान पर पहुंचा आईटीआई कुरुक्षेत्र


कुरुक्षेत्र 7 मई-राकेश शर्मा- कोरोना वायरस से संक्रमण से लोगों को बचाने के लिए अब हरियाणा औद्योगिक संस्थानों को अच्छी गुणवता वाले कपड़े के मास्क बनाने का जिम्मा सौंपा है। इस जिम्मेवारी की गम्भीरता को जहन में रखते हुए आईटीआई कुरुक्षेत्र हरियाणा में मास्क बनाने और सेल करने में अव्वल स्थान पर अपनी उपस्थिति दर्ज करवा रहा है। इस संस्थान में विद्यार्थियों ने अब तक 17 हजार 105 सिंगल और टू-लेयर के मास्क तैयार किए है। इनमें से 10 हजार 220 मास्क की सेल भी की जा चुकी है। अहम पहलू यह है कि इस आईटीआई संस्थान ने हरियाणा की मुख्य सचिव को भी टू-लेयर के 1500 मास्क सेल किए है।
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए हरियाणा के आईटीआई संस्थानों को मास्क बनाने के आदेश दिए। इतना ही नहीं सरकार ने आईटीआई संस्थानों को मास्क बेचने की भी अनुमति दी और इसके लिए बकायदा हरियाणा कौशल विकास एवं औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान के माध्यम से मास्क की दरे भी निर्धारित की ताकि इन संस्थानों के माध्यम से निजी और सरकारी महकमे किफायती दरों पर अच्छी गुणवता वाला मास्क ले सके और कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव कर सके। मुख्यमंत्री के आदेशानुसार उपायुक्त धीरेन्द्र खडगटा ने तुरंत प्रभाव से आईटीआई कुरुक्षेत्र के सभी संस्थानों के प्रतिनिधियों की बैठक लेकर अच्छी गुणवता वाले मास्क बनाने की हिदायते भी जारी की है। उपायुक्त की तरफ से जारी हिदायतों के अनुसार आईटीआई कुरुक्षेत्र, आईटीआई कुरुक्षेत्र की महिला विंग, आईटीआई शाहबाद व आईटीआई पिहोवा में विद्यार्थियों के माध्यम से मास्क बनाने का काम शुरु किया है।

आईटीआई उमरी कुरुक्षेत्र के प्राचार्य भूपेन्द्र पाल सिंह ने विशेष बातचीत करते हुए कहा कि राज्य सरकार के आदेशानुसार आईटीआई के चारों संस्थानों में मास्क बनाने का कार्य शुुरु किया। इस कार्य में आईटीआई उमरी में करीब 8 से 10 विद्यार्थी लगे हुए है। इस संस्थान के विद्यार्थियों ने आईटीआई उमरी में 11 हजार 500, वुमैन विंग ने 1600, आईटीआई शाहबाद की महिला विंग ने 3 हजार, आईटीआई पिहोवा ने 1005 सहित कुल 17105 मास्क तैयार कर लिए है। इनमें से 10 हजार 220 मास्क सेल कर दिए गए है। इसमें से 1500 मास्क हरियाणा की मुख्य सचिव, 2 हजार मास्क विधायक सुभाष सुधा, 2 हजार मास्क ज्ञान गंगा संस्थान, 1 हजार मास्क युवराज संस्थान कैथल, 2 हजार मास्क गुरु सिंह सभा गोबिंदगढ़ के साथ-साथ जिला खाद्य एवं आपूर्ति विभाग, एचडीएफसी बैंक सहित कई अन्य संस्थानों ने खरीदे है। इसके अलावा केडीबी के अधिकारियों ने मास्क के नमूने लिए है और कई अन्य संस्थानों ने मास्क बनाने के आर्डर भी दिए है।
प्रिंसीपल भूपेन्द्र पाल सिंह का कहना है कि इन मास्कों में 7 हजार मास्क टू-लेयर के तैयार किए है और इन्सट्रक्टर सुरेन्द्र ने 1625 और निर्मल पनेजा ने भी 1625 मास्क तैयार किए है। बाकी सभी मास्क विद्यार्थियों द्वारा तैयार किए गए है। यह संस्थान हरियाणा प्रदेश में सबसे ज्यादा मास्क बनाने और सेल करने में प्रथम स्थान पर है। उन्होंने कहा कि इस समय 8 से 10 विद्यार्थी उमरी आईटीआई संस्थान में मास्क बनाने का काम कर रहे है और प्रत्येक विद्यार्थी को 3 रुपए प्रति मास्क के हिसाब से दिए जा रहे है। इस योजना से आईटीआई संस्थान को एक विशेष पहचान मिलेगी और कोराना संक्रमण के खिलाफ चल रही लड़ाई में यह संस्थान भी अपना योगदान दे सकेगा और इससे विद्यार्थी भी प्रोत्साहित होंगे।

आईटीआई में बनने वाले मास्क के दाम किए तय
राज्य सरकार की तरफ से आईटीआई में कोविड-19 से बचाव के लिए बनने वाले मास्क के रेट लेयर के हिसाब से तय कर दिए है। हरियाणा कौशल विकास एवं ओद्योगिक प्रशिक्षण विभाग के प्रधान सचिव के आदेशानुसार आईटीआई में कपड़े से बनने वाले मास्क की दरों में संसोधन किया गया है। इन संसोधित दरों में सिंगल लेयर कपड़े मास्क का रेट 10 रुपए, डबल लेयर कॉटन क्लॉथ मास्क का रेट 16 रुपए प्रति मास्क रखा गया है। यह आदेश तुरंत से लागू कर दिए गए है।

फरीदाबाद में किसी राज्य से आने और यहाँ से किसी राज्य में जाने वाले प्रवासी कृपया ध्यान दें


फरीदाबाद, 6 मई। उपायुक्त यशपाल ने लोगों की सुरक्षा के मद्देनजर मूवमेंट करने वाले लोगों के लिए स्टेंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर लागू करने के लिए जिला प्रशासन के अधिकारीयों की ड्यूटी लगाई है।

उन्होंने बताया कि ट्रैफिक पुलिस फरीदाबाद के डीसीपी सुरेश हुड्डा विभिन्न स्थानों पर क्वारंटाइन व सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालना करवाना सुनिश्चित करेंगे। जो व्यक्ति अपने वाहन से जिला में प्रवेश करेगा, उसको उसके गंतव्य स्थान पर मेडिकल परीक्षण के बाद ही जाने दिया जाये। जो व्यक्ति अपने निजी वाहन से यात्रा कर रहा है उसके वाहन को सैनीटाईज करवाया जाए। एसडीएम बडखल पंकज सेतिया को माईग्रेंट सेल का जिला नोडल अधिकारी बनाया गया है। उनके साथ तहसीलदार इलेक्शन दिनेश, नायब तहसीलदार (यूटी) बडखल नवदीप व अध्यापक कृष्ण चन्द्र सहयोगी की भूमिका में रहेंगे। पंजीकरण के लिए पंचायती राज के कार्यकारी अभियंता सुदेश गिल इंचार्ज होंगे। उनके साथ पंचायती राज एसडीओ प्रदीप शर्मा, जेई संजीव नागपाल, राजबीर, अजय पीलवान, संजय कुमार, जगबीर, लेखाकार महेंद्र सिंह आदि बाहर से आने वाले व जाने वाले व्यक्तियों के सम्बन्ध में सूचना एकत्रित करेंगे। मूवमेंट करने वाले लोगों की स्क्रीनिंग की व्यवस्था करने के लिए डॉ. राजेश श्योकंद इंचार्ज होंगे, जो फरीदाबाद में आने व जाने वाले लोगों की स्क्रीनिंग करवाना सुनिश्चित करेंगे तथा कोविड-19 व आईएलआई के लक्षण नहीं दिखने पर ही उसे फरीदाबाद में प्रवेश करने की अनुमति दी जाएगी। 

उनकी टीम व्यक्ति के गंतव्य का पता लगाने के साथ साथ यह भी पता करेगी कि वह हॉटस्पॉट, कन्टेनमेंट जोन, रेड या ऑरेंज जोन से तो नहीं आया है। इसके अलावा वह होम क्वारंटाइन व संस्थागत क्वारंटाइन तथा सैंपल लेकर टेस्टिंग सम्बन्धी कार्य करवाएंगे। प्रवेश करने वाले सभी व्यक्ति के फोन में आरोग्य सेतु एप इनस्टॉल करवाएंगे। ट्रेन से मूवमेंट करने वाले लोगों के लिए जरूरी व्यवस्था करने के लिए एसडीएम अमित गुलिया को ओवरआल इंचार्ज बनाया गया है। इनकी टीम रेलवे विभाग के नोडल अधिकारी से बातचीत कर प्रवासी लोगों के लिए जरूरी व्यवस्था सुनिश्चित करवाएंगे। ये राज्यनुसार व जिलानुसार यात्रियों के नाम व सम्पर्क विवरण तथा रूट मैप व यात्रा प्लान तैयार करना सुनिश्चित करेंगे। इसके अलावा ये टीम सभी लोगो कि मेडिकल स्क्रीनिंग करवाना सुनिश्चित करेंगे। स्क्रीनिंग स्थान पर खाने, पेयजल व शौचालय की व्यवस्था होनी चाहिए, शेल्टर होम के लिए राजकीय मॉडल वरिष्ट माध्यमिक विद्यालय, सराय खवाजा, राजकीय वरिष्ट माध्यमिक विद्यालय झाड़सैतली, पाली व अटाली में सम्बंधित क्षेत्र के थाना अध्यक्ष की मदद से ड्यूटी मजिस्ट्रेट कानून एवं शांति व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे।

उन्होंने बताया की बल्लभगढ़ के एसडीएम त्रिलोक चन्द बस से यात्रा करने वाले यात्रियों के सम्बन्ध में उचित व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए ओवरआल इंचार्ज बनाये गए हैं। इनकी टीम सम्बंधित प्रदेश के प्रवासी लोगों के यातायात के लिए परिवहन विभाग के नोडल अधिकारी से समन्वय स्थापित करेगी। उनके नाम पता विवरण रूट मैप व राज्य व जिला के सम्बन्ध में पूरा विवरण तैयार करेंगे तथा सम्बंधित राज्य के नोडल अधिकारी से समन्वय स्थापित करेंगे। सभी लोगों की मेडिकल स्क्रीनिंग सुनिश्चित करवाएंगे। रोडवेज के महाप्रबंधक राजीव नागपाल यात्रा सम्बन्धी सभी जरुरी व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे। निजी वाहन से यात्रा करने वाले लोगों के सम्बन्ध में जेई हरीश चौहान, जेई संजय, जेई जगपाल, जेई पोहप सिंह अपने वाहन से बाहर जाने व आने वाले लोगों का पंजीकरण ई-दिशा पोर्टल पर करवाना सुनिश्चित करेंगे। यात्रा करने वाले लोगों का वाहन पूरी तरह से सैनीटाईज करवाया जायेगा।

बिना किसी लक्षण के फरीदाबाद में कई लोग कोरोना पॉजिटिव, DC ने कहा सतर्क रहें जिले के लोग 


फरीदाबाद, 6 मई। उपायुक्त यशपाल ने कहा कि सरकार के आदेशानुसार जिला में शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में दुकानें खोली गई हैं। जिला प्रशासन की ओर से शहरी क्षेत्र में सर्वे किया जा रहा है कि दुकान खोलने से किसी क्षेत्र में सोशल डिस्टेंसिंग तो प्रभावित नहीं हो रही या फिर किसी क्षेत्र में बहुत अधिक संख्या में लोग तो बाहर नहीं आ रहे। दुकानें खोलने के बाद इस बात पर विशेष ध्यान दिया जाएगा कि लोग सोशल डिस्टेंसिंग के निमयों को जरूर अपनाएं। जनता को इसके लिए स्वयं भी जागरूक रहना चाहिए तथा केवल जरूरी कार्य या सामान लेने के लिए ही बाहर आएं, अन्यथा अपने घरों में रहें।

उपायुक्त बुधवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के द्वारा ऑनलाइन माध्यम से पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने बताया कि औद्योगिक क्षेत्र भी फरीदाबाद में शुरू हो गए हैं तथा कई क्षेत्रों में जरूरी सामान की दुकानें भी खोली जा रही हैं। उन्होंने कहा कि गत महीने 9 व 10 अप्रैल को बड़े स्तर पर पूरे जिला में घर-घर सर्वे किया गया तथा आईएलआई के मरीज की पहचान की गई। उनकी बाद में चिकित्सा जांच की गई तथा जिन व्यक्तियों में लक्षण अधिक थे, उनकी कोविड-19 जांच भी की गई। इसके अलावा कैमिस्ट की दुकानों, निजी व सरकारी अस्पताल की ओपीडी, आरडब्ल्यूए तथा पंच-सरपंच से भी संदिग्ध मरीजों के संबंध में रिपोर्ट एकत्रित की जाती है तथा उनका मेडिकल चेकअप किया जाता है। इसके बाद अगर डाक्टर्स को लगता है कि कोविड-19 टेस्ट होना चाहिए तो फिर उनका टेस्ट करवाया जाता है। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग की टीमें पूरी सक्रियता से कार्य कर रही हैं। 

उन्होंने बताया कि जिला में अब तक 78 केस सामने आएं, जिनमें से ठीक होने के बाद 45 डिस्चार्ज हो गए तथा 31 लोगों का इलाज किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पॉजिटिव केस में सभी संपर्क लोगों की पहचान कर उन्हें आइसोलेट किया जाता है ताकि बीमारी का फैलाव अधिक न हो। कई मामले ऐसे भी आए हैं, जिनमें किसी प्रकार के भी लक्षण नहीं दिखाई दे रहे थे तथा उनकी पॉजिटिव रिपोर्ट आई है। ऐसे में लोगों को और अधिक सतर्क रहना चाहिए तथा सोशल डिस्टेंसिंग तथा मास्क का हर हालत में उपयोग करना चाहिए। उन्होंने प्रवासी लोगों को उनके प्रदेश में भेजने संबंधी सवाल के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इसके लिए उचित व्यवस्था की जा रही है। एसडीएम बड़खल पंकज सेतिया को नोडल अधिकारी बनाया गया है तथा ई-दिशा पोर्टल पर लिंक https://edisha.gov.in/eForms/MigrantService को मजदूरों के पंजीकरण के लिए खोला गया है। जिस पर वे पंजीकरण करेंगे, उन्हें उनके प्रदेश भेजने की व्यवस्था कर दी जाएगी।

राजस्व प्राप्ति के लिए पलवल में अंतरराज्यीय सीमा पर बढ़ेगी प्रशासन की चौकसी

पलवल, 06 मई। उपायुक्त नरेश नरवाल ने कहा कि पलवल जिला में डिस्टलरी व पड़ोसी राज्य से लगने वाली सीमा पर आबकारी कर के माध्यम से मिलने वाले राजस्व वसूली सुनिश्चित करने के लिए चौकसी बढ़ाई जाएगी। इसके अतिरिक्त शराब के गोदामों पर बीते वित्त वर्ष के क्लोजिंग स्टॉक की जांच व नए वित्त वर्ष में खोली गई शराब की दुकानों पर सोशल डिस्टेंस की पालना के लिए भी जिला प्रशासन द्वारा आवश्यक प्रक्रिया अपनाई जाएगी। उन्होंने यह बात बुधवार को अधिकारियों की एक बैठक के दौरान निर्देश देते हुए कही।
इससे पहले हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने चण्डीगढ़ से वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से पलवल सहित राज्य के सभी जिलों में प्रशासनिक अधिकारियों को संबोधित करते हुए आबकारी, कोविड-19 नियंत्रण कार्य व प्रवासी श्रमिकों को वापस भेजने की तैयारियों को लेकर आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 वैश्विक महामारी पर नियंत्रण, राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के दौरान आवश्यक सेवाओं की आपूॢत व जरूरतमंदों की मदद के लिए हरियाणा को राष्ट्रीय स्तर पर सराहना मिली है। इस सराहना के लिए राज्य के सभी जिलों को श्रेय जाता है।

वीडियो कांफ्रेंस के दौरान पलवल जिला से उपायुक्त नरेश नरवाल, पुलिस अधीक्षक दीपक गहलावत, सीटीएम जितेंद्र कुमार, एसडीएम कंवर सिंह, डीईटीसी स्नेहलता यादव सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित रहें। वीडियो कांफ्रेंस के उपरांत उपायुक्त ने मुख्यमंत्री से मिले निर्देशों की जिला में अनुपालना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।
उपायुक्त ने कहा कि अंतराज्यीय सीमा, डिस्टलरी, शराब के गोदाम व दुकानों पर जिला प्रशासन, पुलिस व आबकारी एवं कराधान विभाग के अधिकारियों की संयुक्त टीम निरंतर कार्य करेगी। साथ ही जिला में रहने वाले दूसरे राज्यों के श्रमिकों व अन्य लोगों को उनके घर भेजने के लिए स्टैण्डर्ड ओपरेटिंग सिस्टम के अनुसार कार्य सुनिश्चित किए जाए। राज्य सरकार से मिलने वाले निर्देशों के अनुसार संबंधित अधिकारी कार्य करें। उपायुक्त ने मुख्यमंत्री को जिला में कोविड नियंत्रण व आबकारी विभाग से संबंधित कार्यों की प्रगति के बारे में भी जानकारी दी।
उन्होंने कहा कि अंतर राज्यीय सीमा व डिस्टलरी की जांच के लिए जिला प्रशासन की संयुक्त टीम शीघ्रता से अपना कार्य आरंभ करेगी। साथ ही शराब की दुकानों पर सोशल डिस्टेंस बनाए रखने के कार्य को लेकर भी ड्यूटी मजिस्ट्रेट व सुपरवाइजरी अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए जा चुके हैं।

फरीदाबाद में तमाम शराब के ठेके खुले लेकिन दिल्ली जैसी मारामारी नहीं 


फरीदाबाद: शहर में लगभग डेढ़ महीने बाद कुछ शराब के ठेके खुल गए हैं। जानकारी के मुताबिक़  सेक्टर 12 वाले ठेके की चाबी नहीं मिल रही है और ताला तोड़ने का जुआड़ चल रहा है जबकि बाटा हाईवे पर चाबी ना मिलने के कारण ठेकेदार ने ताला तोड़ दिया।

एक नंबर तिकोना पार्क के पास का ठेका खुल गया है और कुछ लोग बीयर की पेटी एवं शराब खरीदते दिख रहे हैं लेकिन ज्यादा मारामारी नहीं है। लोग सोशल डिस्टेंस का पालन करने दिख रहे हैं। दिल्ली का हाल देख तमाम ठेकों पर पुलिस शराब खरीददार से पहले पहुँच गई लेकिन अब भी किसी ठेके पर कोई खास भीड़ नहीं दिख रही है जैसे देश के अन्य राज्यों के ठेकों पर दिखी थी। 

हरियाणा में भी कल से शराब के ठेके खोलने के आदेश , थोड़ी मंहगी मिलेगी शराब


चंडीगढ़, 5 मई। हरियाणा के मुख्यमंन्त्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में मंगलवार की रात हुई कैबिनेट बैठक में बुधवार की सुबह से राज्य में शराब ठेके खोलने के प्रस्ताव को हरी झंडी प्रदान के दी गई।
मंत्रिमंडल की बैठक में उपमुख्यमंत्री दुष्यन्त चौटाला ने आबकारी मंत्री होने के नाते नई आबकारी नीति पेश की। जिसके अनुसार  सरकार द्वारा शराब पर ‘कोविड-सेस’ लगा दिया गया है। देसी की बोतल 5 और अंग्रेजी की 10 रुपये महंगी की गई है। कैबिनेट की बैठक में देसी शराब पर 2 से लेकर 5 रुपये तक की बढ़ोतरी की है। देसी का पव्वा 2, अधा 3 और बोतल 5 रुपये महंगी मिलेगी। इसी तरह से अंग्रेजी शराब पर कोविड-सेस लगा है। अंग्रेजी के पव्वे पर 4, अधे पर 6 और बोतल पर 10 रुपये सेस लगाया है। 

कैबिनेट ने आबकारी नीति को 6 मई से लागू करने की मंजूरी दी है। पहली बार आबकारी नीति साल के 11 दिन अधिक यानी 376 दिन लागू रहेगी। यह नीति अब अगले साल 15 मई तक जारी रहेगी। शराब के ठेके सुबह 8 बजे खुलेंगे और शाम को 6 बजकर 45 मिनट पर बंद होंगे। 
यह भी निर्णय लिया गया है कि लॉकडाउन के चलते आगामी आदेशों तक किसी भी शॉपिंग मॉल में शराब की दुकान नहीं खोली जाएगी।
प्रदेश के सभी 22 जिलों में शराब के ठेके खोले जा सकेंगे, लेकिन जिस भी एरिया, मोहल्ले, वार्ड, गली या गांव को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है या किया जाएगा, वहां शराब ठेके नहीं खुलेंगे। शराब ठेकेदारों को राहत देते हुए कैबिनेट ने तय किया है कि जिन लोगों ने अपनी 10 प्रतिशत फीस जमा करवाई हुई है, वे बुधवार से ठेके खोल सकेंगे। 6 से 20 मई तक ठेकेदारों की एक्साइज फीस माफ की गई है। यह समय उन्हें तैयारियों आदि के लिए दिया गया है।
 लॉकडाउन अवधि के दौरान की एक्साइज फीस उनसे नहीं ली जाएगी। सरकार ने 10 प्रतिशत राशि की दूसरी किस्त 15 मई तक जमा करवाने का मौका ठेकेदारों को दिया है।

 एक टाइम में ठेके पर 5 से अधिक ग्राहक इकट्ठे नहीं हो सकेंगे। सेल्समैन और ग्राहक दोनों का मॉस्क लगाना अनिवार्य होगा। सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखना होगा। रोजाना ठेकों को सेनेटाइज किया जाएगा।


दुष्यंत की अध्यक्षता में कैबिनेट सब-कमेटी
कैबिनेट ने डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की अध्यक्षता में कैबिनेट सब-कमेटी का गठन किया है। कमेटी में परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा तथा खेल एवं युवा मामले राज्य मंत्री संदीप सिंह शामिल हैं। यह कमेटी सुनिश्चित करेगी कि ठेकों पर सोशल डिस्टेंसिंग के साथ-साथ एमएचए के दिशा-निर्देशों की सख्ती से पालना हो।

शादी की 46 वीं सालगिरह पर अचानक बुजुर्ग दंपत्ति के घर केक लेकर पहुँची फरीदाबाद पुलिस  


फरीदाबाद। कोरोना के इस संकटकाल में जब सब कुछ थम गया है। लोग जहां हैं, वहीं घरों में कैद होकर रह गए हैं। ऐसे में जब मौका जिंदगी के हिस्से में बची चंद खुशियों को मनाने का हो और उन खुशियों को मनाने वाला कोई ना हो तो यह लॉकडाउन उन परिवारों को जिंदगी भर का दर्द भी दे रहा है। लेकिन फरीदाबाद पुलिस ने मंगलवार दिनांक 5 मई 2020 को एक ऐसे ही परिवार में खुशियां लौटा दी। बुजुर्ग दंपत्ति अपनी शादी की 46 साल पूरे कर चुका था लेकिन जिंदगी के इस महत्वपूर्ण मौके पर ना तो उनके साथ बेटियां थी और ना ही बेटा, ऐसे में शादी की सालगिरह मनती तो कैसे ? लेकिन फरीदाबाद पुलिस इस मौके पर केक लेकर इस बुजुर्ग दंपत्ति के घर पहुंची तो मानो इनकी जिंदगी का यह दिन सबसे खुशनुमा बन गया।

हुआ यूं कि फरीदाबाद के प्रो. डी.के. चुग जोकि मकान नं. 626 सैक्टर-7बी, फरीदाबाद के स्थाई निवासी है और अपनी पत्नी के साथ अकेले रहते हैं और वे प्रिंसिपल आरटीडी गवर्नमेंट कॉलेज फॉर वुमेनफैबड और एक महान सामाजिक कार्यकर्ता हैं जो ईमानदारी से लोगों की सेवा करते हैं। आज प्रो. डी.के. चुग की शादी की 46वीं सालगिरह है। प्रो. चुग के घर पर मंगलवार को जब शाम 5.30 बजे के लगभग अचानक फरीदाबाद  पुलिस  तरफ से फरीदाबाद सैक्टर-8 थाना के एसएचओ विनीत कुमार यादव के निर्देशानुसार चौकी इंचार्ज सुरेंद्र कुमार के नेतृत्व में एसआई राजवीर, एएसआई सुंदर अन्य पुलिसकर्मियों में प्रवीण, दीपक, योगेश, रविंद्र केक लेकर इस बुजुर्ग दंपत्ति के घर के दरवाजे पर पहुंची तो इनकी खुशियों का कोई ठिकाना नहीं था। इस बुजुर्ग दंपत्ति को भरोसा नहीं था कि फरीदाबाद पुलिस आज उनकी शादी की सालगिरह मनाने आई है। पुलिस को प्रोफेसर साहब के गेट पर देखकर पड़ोसी भी बाहर निकल आए और शादी की सालगिरह पर बधाई देने लगे। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए दोनों बुजुर्ग दंपति ने केक काटा, एक दूसरे को खिलाया और पुलिस के इस गिफ्ट के लिए दिल से धन्यवाद दिया। दंपत्ति ने कहा कि फरीदाबाद पुलिस ने उनके लिए आज का दिन सबसे यादगार बना दिया। इस मौके पर परिवार के बीच खुशियों की सौगात लेकर पहुंचे  सभी  पुलिस कमिर्यों ने संयुक्त रूप से कहा कि हम भी समाज का हिस्सा हैं और इस कठिन परिस्थिति में हमें इस परिवार की खुशी बांटने का मौका मिला, जो कि हमारे लिए भी गर्व का विषय है।

फरीदाबाद पुलिस प्रशासन का आभार व्यक्त किया 
श्रीमति सोनिया भाटिया ने बताया कि हीं उनकी तीन बेटियां हैं, बड़ी बेटी प्रिया सहगल पंचकूला में एफडीबी में हैं और मंझली बेटी नीलू मनचंदा व सबसे छोटी बेटी सोनिया भाटिया सैक्टर-21 में रहती है और फरीदाबाद 3 नं. स्थित डीएवी शताब्दी कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर हैं। जो लॉकडाउन के दिशा-निर्देशों का पालन कर रहे हैं और जिसके चलते नहीं जा सकें है। पुलिस प्रशासन से अनुरोध है किया कि वे अपने पिता की 46वीं शादी की साल गिरह की शुभकामना देना चाहाते हैं लेकिन लॉकडाउन के चलते कोई भी बच्चा उनके साथ अपना खास दिन नहीं मना रहा है तब पुलिस प्रशासन द्वारा उन्हें अरश्वासन दिया गया कि यथासंभव उनके इस अनुरोध पर प्रो. साहब को उनकी वर्षगांठ पर शुभकामना जरूर दी जाऐंगी। सोनिया भाटिया, नीलू मनचंदा और प्रिया सहगल ने अपने परिवार के साथ फरीदाबाद जिला पुलिस प्रशासन का आभार व्यक्त किया है।

फरीदाबाद में बाहर दिखते ही शेल्टर होम में भेज दिए जाएंगे प्रवासी मजदूर


फरीदाबाद, 5 मई- उपायुक्त यशपाल ने कहा कि सभी एसडीएम अपने क्षेत्रों में प्रवासी श्रमिकों की मूवमेंट न होने दें। अगर कोई व्यक्ति मूवमेंट करता है तो उसे शैल्टर होम में रखा जाए। सभी श्रमिकों को उचित माध्यम से उनके प्रदेशों में भेजा जाएगा तथा जो भी श्रमिक अपने प्रदेश में जाने का इच्छुक है, उसका ई-दिशा पोर्टल के लिंक ईदिशा.जीओवी.इन/ईफाम्र्स/माइग्रेंटसर्विस पर पंजीकरण करवाएं। फरीदाबाद में औद्योगिक इकाइयां शुरू हो गई हैं, इसलिए यहां अब रोजगार से अवसर आसानी से मिल सकेंगे।

उपायुक्त मंगलवार को आॅनलाइन विडियो कांफे्रंसिंग के माध्यम से जिला प्रशासन के सभी अधिकारियों की मीटिंग ले रहे थे। उन्होंने कहा कि इस समय दूसरे प्रदेशों से बार्डर से लेबर नहीं आनी चाहिए तथा यहां की लेबर बाहर नहीं जानी चाहिए। उन्होंने सिविल सर्जन को निर्देश दिए कि कल से फरीदाबाद में लेबर का दूसरे प्रदेशों से आना-जाना शुरू हो जाएगा, इसलिए डाक्टर्स की टीम बना दें जो आने-जाने वाले श्रमिकों के स्वास्थ्य की जांच करेंगे। अगर किसी श्रमिक में सिम्टम दिखाई देते हैं तो उस पर स्टैंडर्ड आॅपरेटिंग प्रोटोकाॅल लागू किया जाए। इस कार्य में आयुष विभाग के डाक्टर्स की भी मदद ली जाए तथा आयुष विभाग की इम्युनिटी बढ़ाने वाली दवाएं लोगों को दिलाई जाए। सभी अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि बाहर से आने वाले व्यक्तियों को क्वारेंटाइन किया जाए। उन्होंने उद्योग विभाग के महाप्रबंधक को भी निर्देश दिए कि वे नियम   के अनुसार इंडस्ट्री को चलाने की अनुमति दें। 
जो भी अनुमति दी जाए उसे संबंधित एसडीएम द्वारा गठित अधिकारियांे की कमेटी से चेक करवाया जाए। इसके लिए सभी एसडीएम को एसओपी बनाकर भेज दें कि उन्हें क्या-क्या चेक करवाना है। सभी अधिकारी श्रमिकों को भी जानकारी दें कि यहां पर उद्योग शुरू हो गए हैं तथा उन्हें यहां पर अब रोजगार के अवसर मिलने शुरू हो जाएंगे, अगर वे चाहे तो यहां रूक सकते हैं। उपायुक्त ने नगर निगम के संयुक्त आयुक्त विरेंद्र सिंह से सर्वे कार्य की प्रगति की समीक्षा की, जिस पर उन्होंने बताया कि सर्वे का कार्य जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने उप श्रम आयुक्त को निर्देश दिए कि वे शहर में खुल रही दुकानों का उचित सर्वें करें तथा रिपोर्ट दें कि प्रतिदिन कितनी दुकानें खुल रही हैं। इस मींिटंग में एसडीएम फरीदाबाद अमित कुमार, एसडीएम बल्लबगढ़ त्रिलोकचंद, एसडीएम बड़खल पंकज सेतिया, सीटीएम बलिना, जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी राकेश मोर सहित अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

राजीव गांधी स्टडी सर्कल ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर


फरीदाबाद: राजीव गांधी स्टडी सर्कल द्वारा एक हेल्पलाइन नंबर +91 80768 86942 , 95608 07513 ज़िला अध्यक्ष आनंद राजपूत तथा ज़िला उपाध्यक्ष रितिक खटाना ने जारी किया गया जिस हेल्पलाइन नंबर के माध्यम से लोगों को जागरूकता एवं हर संभव मदद की कोशिश करने की शुरुआत है जिसके माध्यम से जिला प्रशासन के आवश्यक नंबर तथा प्रशासन द्वारा जारी की गई हेल्पलाइन लोगों तक पहुँच सके ये हैं हमारा मूल रूप से उद्देश्य है। राज्य सभा सांसद दीपेन्द्र हूडा जी, विधायक नीरज शर्मा जी , पुर्व विधायक ललित नागर जी, विजय प्रताप जी , लखन कुमार सिंगला  जी , तरुण तेवतिया जी, विकास वर्मा एडवोकेट जी , राजेश खाटाना एडवोकेट जी  प्रेरित होकर जनसेवा का कार्य शुरू किया है । 

राजीव गांधी स्टडी सर्कल हमेशा से समाज में रचनात्मक एवं सामाजिक ज़िम्मेदारियों के तहत कार्य करता रहा है हमारा आप सभी से अपील है कि इस कोविड से लड़ने के लिए सोशल दूरी  तथा प्रशासन द्वारा जारी की गई गाइडलाइन का पालन करें और अपने आस पास साफ़ सफ़ाई का ध्यान रखें और लोगों को जागरूक करें ताकि हम लोग इसको  बीमारी से बच सके हैं। 

फरीदाबाद में कोरोना के कुल 76 मरीज, 43 ठीक हुए, 2 की मौत, 31 अस्पताल में


फरीदाबाद, 5 मई । उप सिविल सर्जन एवं जिला नोडल अधिकारी-कोरोना डा. रामभगत ने बताया कि जिला में अब तक 5081 यात्रियों को सर्विलांस पर लिया जा चुका है, जिनमें से 1354 लोगों का निगरानी में रखने का 28 दिन का पीरियड पूरा हो चुका है। शेष 3454 लोग अंडर सर्विलांस हैं। कुल सर्विलांस में रखे गए लोगों में से 5005 होम आइसोलेशन पर हैं। अब तक 3952 लोगों के सैंपल लैब में भेजे गए थे, जिनमें से 3567 की नेगेटिव रिपोर्ट मिली है तथा 309 की रिपोर्ट आनी शेष है। अब तक 76 लोगों के सैंपल पॉजिटिव मिले हैं, जिनमें से 31 लोगों को अस्पताल में दाखिल किया गया है तथा ठीक होने के बाद 43 को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया है। इसमें दो मरीजो की मौत भी हो गई है।

उन्होंने बताया कि सभी मेडिकल और पैरा मेडिकल स्टाफ को कोविड-19 की रोकथाम और प्रबंधन के लिए प्रशिक्षित किया गया है। इसी प्रकार पर्यावरण स्वच्छता और शुद्धीकरण के बारे में सरकारी व निजी विभागों के कर्मचारियों को दैनिक आधार पर प्रशिक्षण दिया जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस के संभावित संक्रमण की पृष्ठभूमि को देखते हुए आम जनता को सरकार द्वारा स्वास्थ्य संबंधी हिदायतों की अनुपालना करने की सलाह दी जाती है। लोगो को ध्यान रखना चाहिए कि खाँसी व छींकते समय रूमाल या तौलिया का उपयोग अवश्य करें, हाथों को बार-बार साबुन व पानी से धोते रहें। जब तक बहुत जरूरी न हो, घर से बाहर न निकलें। सार्वजनिक स्थलों व सभाओं में जाने से बचें। जिन लोगों ने हाल ही में कोरोना प्रभावित देशों की यात्रा की है, उन्हें राष्ट्रीय, राज्य या जिला हेल्पलाइन नंबरों पर सूचना देनी चाहिए, उन्हें भारत में आगमन की तारीख से 28 दिनों के लिए सभी से अलग रहना है और किसी से भी स्पर्श करने से बचना है, भले ही उसमें कोई लक्षण न हों।