Info Link Ad

Faridabad Assembly

Palwal Assembly

Faridabad Info

Showing posts with label India News. Show all posts

लॉकडाउन के डेढ़ महीने बाद हरियाणा के CM को आई गायों और नंदियों की याद


चंडीगढ़, 8 मई- हरियाणा के मुख्यमंत्री  मनोहर लाल ने कहा है कि प्रदेश के सभी निराश्रय पशुओं, विशेषकर गायों और नंदियों को प्रदेश की सभी गौशालाओं में आश्रय प्रदान करने के उद्देश्य से शीघ्र ही प्रदेश के सभी खंडों में 225 पशुधन सर्वेक्षण समितियों का गठन किया जाएगा। 
        मुख्यमंत्री आज यहां वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से उपस्थित उपायुक्तों, प्रदेश के पशुपालन विभाग के सभी उप-निदेशकों, गौ-रक्षक समितियों के प्रतिनिधियों तथा गौ सेवकों के साथ बैठक कर रहे थे। इस अवसर पर वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से कृषि एवं पशुपालन मंत्री श्री जे.पी.दलाल और गीता मनीषी श्री ज्ञानानंद महाराज ने भी बैठक में भाग लिया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्राय: यह देखने में आया है कि सभी गौशालाएं गायों को रखने के लिए तैयार हो जाती हैं परंतु नंदियों को रखने के लिए कोई तैयार नहीं होता। उन्होंने गौशाला संचालकों से आग्रह किया कि वे नंदियों को आश्रय प्रदान करने के लिए अलग से नंदी शालाएं बनाएं।

        मुख्यमंत्री ने कहा कि पांच सदस्यों वाली इन खंड स्तरीय समितियों की अध्यक्षता वेटरनरी सर्जन करेंगे और इसके अन्य सदस्यों में गौ-सेवा आयोग के प्रतिनिधि, क्षेत्र की प्रमुख गौशाला के संचालक और जिला उपायुक्त के स्तर पर दो समाजसेवी शामिल होंगे। उन्होंने कहा कि जिला स्तर पर इन समितियों की निगरानी पशुपालन विभाग के उप-निदेशक करेंगे। और उन्हें सदस्यों की संख्या पांच से छ: करने का भी अधिकार होगा।

        इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग में उपस्थित उपायुक्तों, प्रदेश के पशुपालन विभाग के सभी उप-निदेशकों, गौ-रक्षक समितियों के प्रतिनिधियों तथा गौ सेवकों से बातचीत में गौशालाओं में पशुधन की संख्या व निराश्रय गौधन व नंदियों की संख्या के बारे में जानकारी भी ली। मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों में निराश्रय पशुओं की संख्या, विशेषकर गाय और नंदी काफी संख्या में है, जो सडक़ों पर घूमते हैं और चारे के आभाव में पॉलीथिन व अन्य अपशिष्ट पदार्थ खाकर बीमार हो जाते हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में यह खेतों में घूमकर फसलों को नुकसान पहुंचाते हैं और इनकी वजह से अक्सर सडक़ों पर दुर्घटनाएं भी होती हैं।

  उन्होंने कहा कि प्रदेश में लगभग 600 गौशालाएं हैं। मुख्यमंत्री ने गौ-रक्षक समितियों के प्रतिनिधियों व गौ सेवकों से आग्रह किया कि इन गौशालाओं में निराश्रय पशुओं, विशेषकर गायों और नंदियों को आश्रय प्रदान करने के लिए सरकार के मार्गदर्शन में सुचारू रूप से व्यवस्था बनाने में अपना सहयोग दें। उन्होंने कहा कि सरकार स्वयं गौशाला नहीं चलाएगी बल्कि गौशालाओं का संचालन करने वालों को अनुदान प्रदान करेगी और अपनी तरफ से हर संभव सहायता प्रदान करेगी तथा इसी उद्देश्य के चलते पशुधन सर्वेक्षण समितियों का गठन किया जा रहा है।

        श्री मनोहर लाल ने कहा कि इस कार्य के लिए सरकार द्वारा सभी गौशालाओं को अनुदान राशि प्रदान की जाएगा। उन्होंने कहा कि अनुदान की राशि उपयोगी और अनुपयोगी पशुओं के अनुपात के अनुसार ही प्रदान की जाएगी। उन्होंने कहा कि विधानसभा में पारित प्रस्ताव के अनुसार 33 प्रतिशत से कम अनुपयोगी पशुओं को रखने वाली गौशालाओं को कोई सरकारी अनुदान प्रदान नहीं किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि 33 प्रतिशत से 50 प्रतिशत तक अनुपयोगी पशुओं को रखने वाली गौशालाओं को प्रति वर्ष 100 रुपये प्रति पशुधन दिया जाएगा। 51 प्रतिशत से 75 प्रतिशत तक अनुपयोगी पशुओं को रखने वाली गौशालाओं को प्रति वर्ष 200 रुपये प्रति पशुधन दिया जाएगा। 76 प्रतिशत से 99 प्रतिशत तक अनुपयोगी पशुओं को रखने वाली गौशालाओं को प्रति वर्ष 300 रुपये प्रति पशुधन दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा शत-प्रतिशत यानि 100 प्रतिशत अनुपयोगी पशुओं को रखने वाली गौशालाओं को प्रति वर्ष 400 रुपये प्रति पशुधन दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि केवल नंदियों को ही रखने वाली गौशालाओं/नंदी शालाओं को प्रति वर्ष 500 रुपये प्रति पशुधन दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि नंदी और अनुपयोगी गायों को सम्मलित रूप से रखने वाली गौशालाओं को प्रति वर्ष 400 रुपये प्रति पशुधन दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इन पशुधन सर्वेक्षण समितियों का पहला कार्य अपने-अपने क्षेत्रों में गौशालाओं, गौशालाओं से बाहर निजी तौर पर अपने-अपने घरों में रखे जाने वाले गौधन, विशेषकर गायों और नंदियों की संख्या की गणना तथा उपयोगी व अनुपयोगी मापदंडों को तय करना, गौशालाओं के लिए जमीन की आवश्कता की संभावनाएं तलाशना होगा। उन्होंने कहा कि चारे के लिए गौशालाएं पट्टे पर ग्राम पंचायतों की गौ-चरण भूमि का उपयोग कर सकती हैं, यदि गौशाला उसी ग्राम पंचायत की है तो 5000 रुपये प्रति एकड़ प्रति वर्ष और दूसरी ग्राम पंचायत की है तो 7000 रुपये प्रति एकड़ प्रति वर्ष की दर से देनी होगी। उन्होंने कहा कि जरूरत पडऩे पर शहरी क्षेत्रों में शहरी स्थानीय निकाय विभाग शहर के बाहरी क्षेत्र में तथा पंचायत विभाग ग्रामीण क्षेत्रों में गौशालाओं के लिए जमीन उपलब्ध करवाएगा।

श्री मनोहर लाल ने कहा कि सभी उपयोगी व अनुपयोगी गौधन की अलग-अलग रंग से टैगिंग की जाएगी। उन्होंने कहा कि यह उपयोगी व अनुपयोगी की श्रेणी समय के साथ परिवर्तित की जा सकती है। उन्होंने कहा कि सभी वेटरनरी सर्जन सांझा सेवा केन्द्रों के माध्यम से गौधन का डाटा जुटाकर ऑनलाइन अपडेट करेंगे। उन्होंने कहा कि चाहे कोई गौशाला सरकारी अनुदान ले अथवा न ले, सभी को पशुपालन विभाग के माध्यम से रजिस्ट्रेशन करवाना अनिवार्य होगा।

बैठक में मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव श्री वी. उमाशंकर, पशुपालन एवं डेरी विभाग के प्रधान सचिव श्री राजा शेखर वुंडरू, विकास एवं पंचायत विभाग के प्रधान सचिव श्री सुधीर राजपाल, पशुपालन एवं डेरी विभाग के महानिदेशक डॉ० ओ.पी.छिक्कारा के अलावा अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।

IAS रानी नागर का स्तीफा नामंजूर, देश भर के गुर्जर समाज के लोगों ने कहा Thanks मोदी के मंत्री KPG


फरीदाबाद: मैंने सीएम मनोहर लाल जी से बात की है और बिटिया रानी नागर के साथ कोई नाइंसाफी नहीं होगी और एक दो दिन में जो फैसला आएगा आपके सामने होगा।  ये बात मंगलवार दोपहर केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने हरियाणा अब तक से अपने सेक्टर 28 दफ्तर में कहा था और आज शाम को जब पता चला कि आईएएस रानी नागर का स्तीफा नामंजूर कर दिया गया है तो देश भर में गुर्जर समाज के लोग केंद्रीय राज्य मंत्री एवं फरीदाबाद के सांसद कृष्णपाल गुर्जर धन्यवाद करते दिख रहे हैं। सोशल मीडिया पर मंत्री कृष्णपाल को धन्यवाद बोलने वालों की बाढ़ सी आ गई है। फेसबुक, ट्विटर के अलांवा व्हाट्सएप ग्रुपों में में मंत्री कृष्णपाल गुर्जर को थैंक्स बोला जा रहा है और हरियाणा ही नहीं देश के कई राज्यों के गुर्जर समाज के लोग उन्हें थैंक्स बोल रहे हैं। 

रानी नागर का स्तीफा नामंजूर होने के बाद केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने कई ट्वीट किये जिसमे उन्होंने लिखा है कि हमने पहले भी आश्वस्त किया था कि चूंकि हरियाणा सरकार बेटियों के हितों के लिए संवेदनशील है और रानी नागर बिटिया के हितों पर किसी क़िस्म की आँच नहीं आने दी जाएगी। मेरा आशीर्वाद सदैव बिटिया रानी नागर के साथ है।

उन्होंने आगे लिखा है कि रानी नागर को इंसाफ़ दिलाने के लिए किए जा रही कोशिशें रंग लाई हैं। हमारी कोशिश यही है कि रानी नागर बिटिया के साथ किसी भी क़िस्म की नाइंसाफ़ी ना हो पाए। इसके लिए हरियाणा सरकार में शीर्ष स्तर से लगातार बातचीत की जा रही थी। मैं आप सब से एक ख़ुशी का समाचार सांझा कर रहा हूँ कि हरियाणा कैडर की आईएएस अधिकारी रानी नागर का इस्तीफ़ा माननीय मुख्यमंत्री 
मनोहर लाल  जी ने नामंज़ूर कर दिया है। इस्तीफ़ा नामंज़ूर करने के लिए मैं मुख्यमंत्री मनोहर लाल जी का दिल की गहराइयों से आभार प्रकट करता हूँ। 

हिज्बुल के टॉप कमांडर रियाज नायकू को सेना ने ठोंका, कश्मीर में मचा रहा था आतंक 


नई दिल्ली- जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकियों और सेना के बीच चल रहे एनकाउंटर में सुरक्षाबलों को बड़ी सफलता मिली है। मीडिया रिपोर्ट अनुसार, सेना ने हिज्बुल मुजाहिदीन के टॉप कमांडर रियाज नायकू को ढेर कर दिया है। भारतीय सेना ने रियाज के  सिर पर 12 लाख रुपये का इनाम रखा था। उसने घाटी में लंबे समय से दहशत फैला रखी थी। 

आतंकी सब्जार बट की मौत के बाद रियाज को हिज्बुल का कमांडर बनाया गया था। बुरहान वानी के बाद वह घाटी में आतंंक का नया पोस्टर बॉय बन गया था। रियाज बुरहान वानी के कोर ग्रुप का मेंबर था और बुरहान के मारे जाने के बाद उसे ही टॉप कमांडर बनाए जाने की चर्चा थी। पिछले साल उसने धमकी भरा ऑडियो जारी किया था। वीडियो में उसने घाटी में जेल स्टाफ पर हमले की धमकी दी थी।

जामिया की इस जहरीली नागिन ने हंदवाड़ा के शहीदों को बताया युद्ध अपराधी, भड़के हिन्दुस्तानी 


नई दिल्ली:जामिया मिलिया इस्लामिया हो या जेएनयू यहाँ देश के कुछ जहरीले सांप ही नहीं नागिन भी सरकार के पैसे से मुफ्त पढ़ाई कर रहे हैं और समय-समय पर ये सरकार पर ही अपना फन उठाते रहते हैं। जामिया में पढ़ने वाली  लॉ की छात्रा महूर परवेज को देश की जहरीली नागिन बताया जा रहा है। कल से ही ट्विटर पर उनके नाम का ट्रेंड चल रहा है। इस तथाकथित नागिन को अर्बन नक्सलियों की साथ मिल रहा है जबकि देश के 90 फीसदी लोग इस छात्रा को लताड़ रहे हैं। आपको बता दें कि महूर परवेज  सोशल मीडिया पर हंदवाड़ा में बलिदान हुए 5 भारतीय सैनिकों को ‘वार क्रिमिनल’ यानी ‘युद्ध के अपराधी’ बताया है। परवेज ने अपने सोशल मीडिया पर देश की सुरक्षा में तैनात वीरकर्मियों के वीरगति प्राप्त होने पर उन्हें श्रद्धांजलि मिलता देख रविवार को आश्चर्य जताया और पूछा कि लोग युद्ध अपराधियों का महिमामंडन क्यों कर रहे हैं।

बता दें कि महूर परवेज ने ये पोस्ट अपने इंस्टाग्राम और अन्य सोशल मीडिया साइटों पर शेयर किया। लेकिन जैसे ही ये पोस्ट वायरल होना शुरू हुआ, उसने इसे डिलीट कर दिया। मगर, लोग इसका स्क्रीनशॉट लेकर इस पर टिप्पणी करने लगे।
इस बीच परवेज की इस हरकत की जानकारी मिलते ही Khaitan & Co नाम की कंपनी, जहाँ वो बतौर इंटर्न काम करती थी, उसने उससे दूरी बना ली और स्पष्ट किया कि उसकी टिप्पणी का उनसे कोई लेना-देना नहीं है। वह केवल उनकी लॉ फर्म में बतौर इंटर्न काम कर रही थी, और अब वहाँ नहीं है। देखे देश के लोग कैसे लताड़ रहे हैं जामिया की इस नागिन को 


IAS रानी नागर के स्तीफ़े से हड़कंप


नई दिल्ली: आईएएस रानी  नागर के स्तीफे के बाद हड़कंप मच गया है। गुर्जर समाज के लोगों की तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। रानी नागर ने कई दिन पहले ही स्तीफे का एलान किया था। कुछ देर पहले उन्होंने लिखा कि मैं रानी नागर पुत्री श्री रतन सिंह नागर निवासी ग़ाज़ियाबाद गाँव बादलपुर तहसील दादरी ज़िला गौतमबुद्धनगर आप सभी को सूचित करना चाहती हूँ कि मैंने आज दिनाँक 04 मई 2020 को आई. ए. एस. के पद से इस्तीफ़ा दे दिया है। मैं व मेरी बहन रीमा नागर माननीय सरकार से अनुमति लेकर चंडीगढ से अपने पैतृक शहर ग़ाज़ियाबाद वापस जा रहे हैं। हम आपके आशीर्वाद व साथ के आभारी रहेंगे।🙏 https://www.facebook.com/ias.raninagar/posts/666609844134976

शराब के ठेके खुलते ही ठेकों पर सुबह-सुबह लगी लम्बी लाइनें 


नई दिल्ली- लाकडाउन का आज तीसरा चरण शुरू हो गया है। कई राज्यों में आज सुबह से शराब की दुकानें खुल गईं हैं और शराब के ठेकों पर सुबह से लम्बी कतारें देखी जा रही हैं। लॉकडाउन शुरू होते ही जैसे राशन की दुकानों पर लाइन दिखती थी वैसी ही लाइन शराब के ठेकों पर दिख रही है। सोशल मीडिया पर तरह -तरह के व्यंग चल रहे हैं। लोगों का कहना है कि कुछ ठेकों पर ऐसे लोग लाइन में खड़े हैं जो उन लाइनों में खड़े दीखते थे जब्व कोई राशन बांटता था।
देखें कुछ ट्वीट

BJP में आस्तीन के सांप थे रामायण पर सवाल उठाने वाले यशवंत सिन्हा, मोदी ने पहचाना, पार्टी से भगाया 


नई दिल्ली: 2014 में जब तुम्हे मंत्रिमंडल से बाहर कर दिया गया था तो हमें दुख हुआ था! लेकिन! अब समझ में आया कि PM मोदी आस्तीन के साँपों को बहुत अच्छी तरह पहचानते हैं! समय रहते तुम जैसे हिन्दू विरोधियों को उसकी औक़ात दिखाई,इसके लिए हम PM मोदी के आभारी हैं!
ये कहना है सोशल मीडिया पर तमाम लोगों का पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा के बारे में जिन्होंने एक दिन पहले एक ट्वीट किया था जिसमे उन्होंने लिखा था कि “जो लोग दूरदर्शन को चला रहे हैं उनके लिए अब देश हिंदू राष्ट्र ही है और लॉकडाउन को लेकर मोदी सरकार अपना एजेंडा चला रही है!
आपको बता दें कि अभी हाल ही में वकील प्रशांत भूषण भी रामायण को बंद कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी! लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने उनके इस याचिका को खारिज कर दिया। उन्हें कोर्ट से फटकार भी मिली।  अब यशवंत सिन्हा एक तरह से प्रशांत भूषन की भाषा बोल रहे हैं। यशवंत सिन्हा को कैसे लताड़ पड़ रही है। उनके ट्वीट पर पढ़ें 


CRPF के 127 जवान कोरोना पॉजिटिव, एक की मौत


नई दिल्ली: देश की जनता को कोरोना से बचाते-बचाते देश के दर्जनों पुलिसकर्मी, डाक्टर एवं अन्य सुरक्षाकर्मी कोरोना की चपेट में आ गए और कइयों की जान भी जा चुकी है। हाल में सीआरपीऍफ़ के कई जवान कोरोना की चपेट में आ गए और एक जवान की जान भी चली गई। अब ताजा जानकारी मिल रही है कि 68 और जवानों का कोरोना वायरस टेस्ट पॉजिटिव आया है। 

सभी जवान पूर्वी दिल्ली में एक बटालियन के कैंप से जुड़े हैं। इस बटालियन में पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 122 हो गई है और CRPF में COVID19 के मामलों की संख्या 127 है, जिनमें से 1 जवान ठीक हो चुका है और 1 की मौत हो गई है। सीआरपीएफ की तरह से ये बयान आया है।

कांग्रेसी नेत्री ने पूंछा अमेरिका वाले ट्रंप को पागल मानते हैं, भारत वाले किसे? लोगों ने कहा राहुल गांधी 


नई दिल्ली: हाईकमान की कमजोरी के कारण सोशल मीडिया पर कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ता ऐसी बकलोली करते हैं जिससे पार्टी का ही नुक्सान होता है। हाईकमान कमजोर है इसलिए ऐसे नेताओं पर कोई लगाम नहीं लगाता। इन बक्लोलों में कई ऐसे भी शामिल हैं जिनकी विधानसभा चुनावों में जमानत तक जब्त हो चुकी है। राजस्थान कांग्रेस की जनरल सेक्रेटरी रीना मिमरोत हमेशा सोशल मीडिया पर ऐसा कुछ लिखती है जिससे कांग्रेस की जमकर छीछालेदर होती है। अब उन्होंने एक ट्वीट कर पूंछा कि अमेरिका में 50% जनता ट्रम्प को पागल मानती है..... और आप  इंडिया में किसे मानते हैं........?

उनके सवाल पर सैकड़ों जबाब आ चुके है और 95 फीसदी लोगों का जबाब है कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, कांग्रेस की सोशल मीडिया टीम भी हाईकमान की तरह ही कमजोर है इसलिए ऐसे नेताओं पर ध्यान नहीं दे पा रही है जो पार्टी की फजीहत करवाते हैं। पढ़ें मैडम के सवाल पर कैसी प्रतिक्रियाएं आ रहीं हैं। ऊपर उनका सवाल नीचे जबाब

देश में कोरोना के 35 हजार से ज्यादा मरीज, 17 मई तक लॉकडाउन बढ़ाया गया


नई दिल्ली: अब लोगों को 17 मई तक घरों में ही रहना पड़ेगा क्यू कि सरकार ने दो हफ्ते तक लाकडाउन और बढ़ा दिया है। देश के कई शहरों में अब भी लगातार कोरोना के मरीज मिल रहे हैं और ऐसे में सरकार के पास लॉकडाउन बढ़ाने के अलावा कोई और चारा नहीं था। आज सुबह पीएम की कई केंद्रीय मंत्रियों से इस मुद्दे पर बात हुई थी जिसके बाद अब गृह मंत्रालय ने आदेश जारी कर दिए हैं।
आपको बता दें कि देशभर में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में 1755 नए मामले सामने आए हैं और 77 लोगों की मौत हो गई है। इसके बाद देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 35365 हो गई है, जिसमें 25 से ज्यादा मामले सक्रिय हैं, 9064 लोग स्वस्थ हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और 1152 लोगों की मौत हो चुकी है।  

इरफ़ान खान के बाद अभिनेता ऋषि कपूर के निधन से देश में शोक की लहर


नई दिल्ली: अभिनेता इरफ़ान खान के बाद अब दिग्गज बॉलीवुड एक्टर ऋषि कपूर का बीती रात निधन हो गया है।  खराब तबीयत के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था. महानायक अमिताभ बच्चन ने ऋषि कपूर के निधन की जानकारी दी है। 

अमिताभ बच्चन ने ट्वीट कर लिखा- वो गया. ऋषि कपूर गए. अभी उनका निधन हुआ. मैं टूट गया हूं।  कपूर फैमिली से रणधीर कपूर ने ऋषि के निधन की खबर को कंफर्म किया है। बता दें, ऋषि कपूर को बुधवार उनके परिवार ने एच एन रिलायंस अस्पताल में भर्ती कराया था. उनके भाई रणधीर ने बताया था कि उन्हें सांस लेने में समस्या हो रही थी। 
कल इरफ़ान खान और रात्रि में ऋषि कपूर के निधन से देश में शोक की लहर है। 

लॉकडाउन में सब्जी और राशन लेने गया युवक दूल्हन लेकर लौटा, माँ हैरान, पुलिस परेशान


नई दिल्ली- लॉकडाउन के दौरान तमाम अजीब ख़बरें भी आ रही हैं। अब उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद से एक अजीब खबर आ रही है जहाँ एक युवक लॉकडाउन के दौरान अपनी माँ से बोला कि सब्जी और राशन लेने जा रहा हूँ और कुछ देर बाद घर दुल्हन लेकर पहुँच गया। मामला गाजियाबाद के साहिबाबाद का है जहाँ युवक घर से बाहर निकल अपनी प्रेमिका से शादी कर ली और कुछ देर बाद अपनी दुल्हन को घर लेकर पहुंचा तो माँ के होश उड़ गए। युवक की माँ उसकी नई नवेली पत्नी को घर में रखने को राजी नहीं हुईं और मामला पुलिस तक पहुँच गया। युवक युवती बालिग़ थे और पुलिस को भी समझ में नहीं आया कि ऐसे में क्या करें। काफी देर तक पुलिस सोंचती रही कि क्या करना है।  पुलिस ने युवक की माँ को समझाया जिसके बाद युवक की माँ ने कहा कि इसने लॉकडाउन तोडा है इसलिए घर में नहीं रहने दूंगी। 

युवक की माँ इस शादी को मानने के लिए तैयार नहीं हैं जबकि युवक का कहना है कि उसने अपनी प्रेमिका से मंदिर में शादी की है। पुलिस के काफी कुछ समझाने पर युवक की माँ इस बात पर राजी हुईं कि ये कहीं बाहर किराये पर कमरा ले ले और अपनी दुल्हन को लेकर वहीं रहे। जब लॉकडाउन ख़त्म होगा तो इसे घर में रखने पर विचार करेंगे। बात काफी हद तक बन गई है। युवक किराये के मकान में अपनी दुल्हन को लेकर रहने लगा है। 

उस्तरे में कोरोना लेकर घूम रहा है नाई, 5 पुलिसकर्मी संक्रमित, महकमे में मचा हड़कंप 


नई दिल्ली: वो पैसे के लिए काम कर रहे हैं और वो कहीं भी किसी के भी बुलावे पर जा रहे हैं और अब वो कोरोना फ़ैलाने लगे हैं। हाल में एक नाई ने 6 लोगों में कोरोना फैलाया था तो अब अपने उस्तरे से पांच पुलिसकर्मियों में भी कोरोना फैला दिया है। कहा जा रहा है कि इस नाई ने कई बड़े पुलिस अधिकारियों की भी सेविंग की थी जिसकी जांच पड़ताल चल रही है। 

ये खबर मध्य प्रदेश के जबलपुर की है जहाँ पाँचों पुलिसकर्मियों ने एक नाई से सेविंग करवाई थी और टेस्ट के बाद पाँचों पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं जिससे पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया है। बताया जा रहा है कि कि नाई ने कइयों की सेविंग और कटिंग की थी और वो भी कोरोना संक्रमित हो सकते हैं। 5-6 दिन पहले खरगौन से भी ऐसा ही मामला सामने आया था जब एक नाई ने संक्रमित कपड़े से कई लोगों की कटिंग-शेविंग की थी। इसके बाद एक ही गांव के छह लोग कोरोना पॉजिटिव हो गए थे। 

मनमानी से बाज नहीं आ रहे हैं  स्कूल प्रबंधक, और बढ़ा दी ट्यूशन फीस 


 29 अप्रैल   -हरियाणा अभिभावक एकता मंच ने कहा है कि स्कूल प्रबंधक मनमानी से बाज नहीं आ रहे हैं। वे लिखित व मौखिक रूप से  अभिभावकों पर बढ़ाई गई ट्यूशन फीस व अन्य फंडों में फीस जमा कराने के लिए दबाव डाल रहे हैं। मंच के प्रदेश महासचिव कैलाश शर्मा ने बताया कि डीएवी स्कूल सेक्टर 14,  एमबीएन 17 ,मॉडर्न डीपीएस, मानव रचना ,जी वी एन 21 , सेंट एंथोनी सहित कई स्कूलों ने अभिभावकों  से कहा है कि जो फीस डिटेल उनको भेजी गई है उसके अनुसार 30 अप्रैल तक  फीस जमा कराएं ।जब अभिभावकों ने अप्रैल 19 में जमा कराएगी ट्यूशन फीस और अब मांगी जा रही ट्यूशन फीस का अंतर देखा तो पाया कि स्कूल प्रबंधकों ने 1000 से लेकर 3000 तक ट्यूशन फीस वृद्धि कर दी है इसके अलावा अदर चार्ज के रूप में भी से फीस मांगी जा रही है। मंदी व आर्थिक कारणों से जो अभिभावक मासिक फीस देने में भी असमर्थ हैं उन पर भी फीस जमा कराने के लिए दबाव डाला जा रहा है जो शिक्षा विभाग पंचकूला के 23 अप्रैल को निकाले गए दिशा निर्देश के एकदम विपरीत है ।

 मंच को अभिभावकों ने यह भी बताया कि उन्होंने पांच ,छह महीने पहले अपने बच्चे का नर्सरी ,एलकेजी व अन्य कक्षाओं में दाखिला कराया था जिसकी एवज में स्कूल प्रबंधकों ने अप्रैल मई-जून की फीस के साथ अन्य फंडों में 50000 से सवा लाख रुपए पहले ही  वसूल लिए हैं। जबकि शिक्षा नियमावली का नियम है कि स्कूल  प्रबंधक दाखिला देकर एडवांस में फीस  वसूल नहीं कर सकते हैं सिर्फ रजिस्ट्रेशन के रूप में 500 या 1000 रुपए  टोकन रजिस्ट्रेशन के रूप में ले सकते हैं। नर्सरी, केजी के बच्चे की पढ़ाई अभी शुरू नहीं हुई है और जैसे हालात हैं उसके अनुसार से उनकी पढ़ाई जुलाई में ही संभव है इन छोटे बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई भी नहीं हो सकती है ।  
अभिभावकों ने जब  संबंधित स्कूल प्रबंधक से अग्रिम रूप से अप्रैल मई-जून की वसूली गई तिमाही फीस, डिवाइन पब्लिक स्कूल की तरह आगे एडजेस्ट करने के लिए कहा तो स्कूल प्रबंधकों ने साफ मना कर दिया। मंच ने ऐसी स्कूलों की शिकायत चेयरमैन एफएफआरसी, जिला शिक्षा अधिकारी व जिला उपायुक्त सहित डायरेक्टर शिक्षा पंचकूला को भेजकर ऐसे स्कूलों के खिलाफ उचित कार्रवाई करने  उनकी  एनओसी और मान्यता रद्द करने करने की मांग की है। मंच ने अभिभावकों से कहा है कि वह स्कूलों की प्रत्येक  मनमानी का डटकर विरोध करें, सिर्फ ट्यूशन फीस वह भी बिना बढ़ाई हुई जमा कराएं इसके अलावा अन्य किसी फंड में एक पैसा भी जमा ना करें। ऐसे स्कूलों की शिकायत चेयरमैन एफएफआरसी email id: comm.fbd-hry@gov.in, जिला शिक्षा अधिकारी email id:deosecfbd@gmail.com, उपायुक्त फरीदाबाद email id: dcfbd@hry.nic.in से सोशल मीडिया व मेल के द्वारा करें और इसकी एक प्रति मंच को भी भेजें ।मंच पूरी तरह से उनके साथ है ।अपनी किसी भी समस्या के लिए मंच की हेल्पलाइन 9810499060 पर संपर्क करें।

दिल्ली की आजादपुर मंडी में 11 व्यापारी कोरोना पॉजिटिव, कई दुकानें सील 


नई दिल्ली: जिसका डर था वही हो रहा है। लाख अपीलों के बाद भी देश की तमाम मंडियों में लोग लगातार भीड़ लगा रहे हैं और अब कोरोना वायरस ने कई मंडियों में दस्तक दे दी है। दिल्ली की आजादपुर  सब्जी मंडी से एक बड़ी खबर आ रही है जहाँ  11 व्यापारी कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। व्यापारियों में हड़कंप मच गया है।

कई दुकानों को सील कर दिया गया है।  इसके साथ ही व्यापारियों के संपर्क में आए लोगों को क्वारनटीन किया गया है। इसके पहले आजादपुर मंडी में कोरोना से एक व्यापारी की मौत हो गई थी।  इसके बाद उसके संपर्क में आए व्यापारियों का टेस्ट किया जा रहा है।
कल हरियाणा के फरीदाबाद की सबसे बड़ी मंडी से भी इसी तरह की खबर आई और इसके पहले ओल्ड फरीदाबाद की मंडी में भी एक व्यापारी कोरोना पॉजिटिव मिला था।

बाइक चढाने पर कहासुनी के बाद चला दी गोली, कई घायल


हर्षित सैनी- रोहतक, 28 अप्रैल। मोटरसाइकिल पर सवार युवक द्वारा एक सीमेंट दुकान संचालक के बेटे के पैर पर मोटरसाइकिल चढ़ाने को लेकर हुए विवाद में गोहाना रोड पर दो गुटों आपस में भिड़ गए। इस झगड़े में एक गुट ने गोलियां चला दी, जिसमें कई घायल हो गए। सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने घायलों को अस्पताल में भर्ती करवाया। वहीं मौके पर मौजूद लोगों ने एक आरोपी को हथियार सहित काबू कर पुलिस के हवाले कर दिया गया है। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। घायलों को उपचार हेतु पीजीआई दाखिला करवा दिया गया है।
         जानकारी के अनुसार बिशन नगर का रहने वाला अमन कुमार अपनी दुकान के सामने खड़ा था। इसी दौरान मोटरसाइकिल पर सवार प्रवेश नगर निवासी विक्रम लाठर ने उसके पैर पर बाइक चढ़ा दी, इस पर दोनों में कहासुनी हो गई।
          मौके पर मौजूद अमन के पिता राज सिंह व ताऊ सतनारायण ने दोनों में समझौता करवा दिया लेकिन करीब 10 मिनट बाद ही प्रवीन अपने 6-7 साथियों के साथ आया और अमन, राज सिंह, सतनारायण और उसके बेटे प्रवीण पर लाठी-डंडों से हमला कर गंभीर रूप से घायल कर दिया। इस दौरान एक आरोपी सुमित ने अमन के ताऊ के बेटे प्रवीण की पीठ में गोली मार दी। इससे आसपास के लोग मौके पर पहुंचे और सुमित को पिस्तौल समेत दबोच लिया। इसके बाद पुलिस कंट्रोल रूम में सूचना दी गई।

        इस दौरान एक आरोपी ने गोली चलाई दी तो युवक के ताऊ के बेटे की पीठ में लगी। इस पर आरोपी भाग निकले लेकिन एक आरोपी को आसपास के लोगों की मदद से दबोच लिया। इसके बाद सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और आरोपी को थाने ले गई।
        वहीं घायलों को इलाज के लिए सामान्य अस्पताल में भर्ती कराया गया। सिटी थाना पुलिस ने घायलों के बयान पर आरोपियों के खिलाफ जान से मारने की कोशिश करने की धारा 307 सहित 8 अन्य धाराओं में केस दर्ज कर तलाश शुरू कर दी है।
           सूचना मिलते ही डीएसपी मुख्यालय गोरखपाल राणा, सीआईए वन और टू, सिटी थाना प्रभारी, सुखपुरा चौकी प्रभारी मौके पर पहुंचे। पीड़ितों ने आरोपी सुमित को पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस ने घायलों को उपचार के लिए सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया।
           रोहतक सिटी थाना प्रभारी प्रमोद गौतम ने बताया कि पुलिस वारदात में शामिल अन्य आरोपियों की छानबीन करने में जुटी है। मौके पर गिरफ्तार आरोपी का मेडिकल कराया जा रहा है। मंगलवार को कोर्ट में पेश कर उसे पुलिस रिमांड पर लिया जाएगा। जिसके बाद पूरी वारदात का खुलासा किया जाएगा।

पालघर के बाद अब बुलंदशहर में दो साधुओं की बेरहमी से हत्या से मचा हड़कंप


नई दिल्ली: महाराष्ट्र के पालघर के बाद अब उत्तर प्रदेश के बुलन्दशहर में दो साधुओं की हत्या से हड़कंप मच गया है। स्थानीय लोगों में काफी रोष है। मिली जानकारी के अनुसार बुलंदशहर के अनूपशहर कोतवाली के गांव पगोना में स्थित शिव मंदिर पर पिछले करीब 10 वर्षों से साधु जगनदास (55 वर्ष) और सेवादास (35 वर्ष) रहते थे। दोनों साधु मंदिर में रहकर पूजा-अर्चना में लीन रहते थे। कल देर रात मंदिर परिसर में ही दोनों साधुओं की धारदार हथियारों से प्रहार कर हत्या कर दी गई। 

आज सुबह जब ग्रामीण मंदिर में पहुंचे तो उन्हें साधुओं के खून से लथपथ शव पड़े मिले। इसे देखकर कोहराम मच गया। बड़ी संख्या में ग्रामीण मंदिर के सामने मौजूद हैं। साधुओं की हत्या बहुत ही बेरहमी से की गई है।  पुलिस मामले की जांच करने में जुट गई है। जांच के बाद ही हत्या का कारण पता चलेगा। आपको बता दें कि महाराष्ट्र के पालघर में भी हाल में दो साधुओ और उनके ड्राइवर की बेरहमी से हत्या की गई थी। 

दो साधुओं की हत्या पर चुप्पी, सोनिया के इशारे पर अर्नब गोस्वामी को प्रताड़ित करवा रहे हैं उद्धव ठाकरे?


नई दिल्ली: भारतीय सिस्टम पर राजनीति हावी है और आज मुंबई पुलिस और महाराष्ट्र सरकार की सोशल मीडिया पर छीछालेदर हो रही है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पर की गई टिप्पणी के मामले में पत्रकार अर्नब गोस्वामी से लगभग 10 से पूंछतांछ चल रही है जबकि उन पर और उनकी पत्नी पर हमला करने वालों को जमानत मिल गई है। कहा जा रहा है कि उद्धव ठाकरे ये सब सोनिया गांधी के इशारे पर करवा रहे हैं और उन्ही के कहने से पत्रकार अर्नब गोस्वामी को मुंबई पुलिस प्रताड़ित कर रही है। सोशल मीडिया पर लोग मुंबई पुलिस को जमकर घेर रहे हैं। कुछ लोगों का ये भी कहना है कि पुलिस का कोई कसूर नहीं है ये सब सोनिया गांधी के आदेश पर उद्धव ठाकरे करवा रहे हैं। 

कुछ लोगों का कहना है कि हम में पालघर में महाराष्ट्र पुलिस ने जानबूझकर दो साधुओं को मरवाया और पुलिस चाहती तो साधुओं को बचा सकती थी। लोग वायरल वीडियो का हवाला दे रहे हैं जिसमे पुलिसकर्मी साधुओं का हाथ छोड़ देते हैं और भीड़ साधुओं को बुरी तरह से पीटने लगती है और जान ले लेती है।  लोगों का कहना है कि महाराष्ट्र में उद्धव नहीं कांग्रेस का राज चल रहा है इसलिए सब कुछ उल्टा हो रहा है। पुलिस साधुओं की हत्या करवाती है और एक टिप्पणी पर एक  नामी टीवी चैनल के एडिटर इन चीफ अर्णब गोस्वामी से घंटों पूछताछ की जा रही है। लोग सिस्टम को भ्रष्ट और राजनीति का गुलाम बता रहे हैं। 
कुछ लोगों का ये भी कहना है कि अर्नब ने सोनिया गांधी का इटली वाला नाम लिया था लेकिन कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला तो सैकड़ों बार उत्तर प्रदेश के सीएम योगी को अजय सिंह बिष्ट बोल चुके हैं। अगर अर्नब ने इटली वाला नाम लेकर गुनाह किया है तो सुरजेवाला ये गुनाह कई बार कर चुके हैं। लोगों का कहना है सब कुछ राजनीती से प्रेरित है। महाराष्ट्र पुलिस उद्धव के दबाव में काम कर रही है और उद्धव ठाकरे सोनिया गांधी के दबाव में। पालघर का एक नया वीडियो आया है। तमाम पुलिसकर्मी मौके पर हैं और साधुओं को नहीं बचा सके। इसलिए पुलिस पर सवाल उठ रहे हैं।

सील कर दी जाएँ कोरोना फैलाने वाली निजी अस्पतालें- योगी


नई दिल्ली- देश की कुछ निजी  अस्पतालों पर कोरोना इंफेक्शन फैलाने के आरोप लगने लगे हैं जिसके बाद अब उत्तर प्रदेश सरकार ने ऐसे अस्पतालों पर शिकंजा कसने का आदेश दिया है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  ने कहा है कि  कि जिन निजी अस्पतालों से इन्फेक्शन फैला है, उन्हें सील करें। बिना प्रशिक्षण, पीपीई किट, एन-95 मास्क और अन्य सुरक्षा उपायों के बिना कोई भी अस्पताल शुरू ना किया जाए।
रविवार को अपने आवास पर  कोविड-19 से निपटने के लिए गठित टीम-11 के साथ प्रदेश की स्थिति की समीक्षा करते हुए उन्होंने कहा कि  पूल टेस्ट के माध्यम से अधिक लोगों की जांच करके कोरोना वायरस महामारी पर प्रभावी नियंत्रण किया जा सकता है। अतः पूल टेस्टिंग को बढ़ावा दिया जाए।

योगी ने कहा कि कोविड अस्पतालों में अनिवार्य रूप से सिर्फ कोविड संक्रमण का ही इलाज हो अन्य चिकित्सा गतिविधियां इन अस्पतालों में न की जाएं। अस्पतालों में मौजूद कोरोना से संबंधित तथा अन्य बायोमेडिकल वेस्ट का सुरक्षित डिस्पोजल सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने कहा कि  कोरोना प्रभावित मरीजों के इलाज के लिए प्लाज्मा थेरेपी को बढ़ाने पर विचार करना चाहिए, क्योंकि इसके अच्छे परिणाम मिले हैं। अस्पतालों में सभी आवश्यक संसाधनों की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। सीएम ने एक बार फिर दोहराया कि प्रदेश में 30 जून तक किसी भी सार्वजनिक कार्यक्रम के लिए कोई अनुमति नहीं दी जाएगी।
आपको बता दें कि कुछ अस्पतालों में लोग किसी और बीमारी का इलाज करवाने जाते हैं और उन्हें कोरोना हो जा रहा है ऐसी अस्पतालों पर अब सवाल उठने लगे हैं। हरियाणा के फरीदाबाद में भी एक अस्पताल पर सवाल उठ रहे हैं लेकिन इस राज्य में योगी जैसा सीएम नहीं है। 

फरीदाबाद में कोरोना के कुल 45 मरीजों में से 35 ठीक हो अपनेघर गए, 10 अस्पताल में


फरीदाबाद, 26 अप्रैल। उप सिविल सर्जन एवं जिला नोडल अधिकारी-कोरोना डा. रामभगत ने बताया कि जिला में अब तक 2745 यात्रियों को सर्विलांस पर लिया जा चुका है, जिनमें से 1005 लोगों का निगरानी में रखने का 28 दिन का पीरियड पूरा हो चुका है। शेष 1740 लोग अंडर सर्विलांस हैं। कुल सर्विलांस में रखे गए लोगों में से 2700 होम आइसोलेशन पर हैं। अब तक 2390 लोगों के सैंपल लैब में भेजे गए थे, जिनमें से 2210 की नेगेटिव रिपोर्ट मिली है तथा 135 की रिपोर्ट आनी शेष है। अब तक 45 लोगों के सैंपल पॉजिटिव मिले हैं, जिनमें से 10 लोगों को अस्पताल में दाखिल किया गया है तथा ठीक होने के बाद 35 को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया है। 

उन्होंने बताया कि सभी मेडिकल और पैरा मेडिकल स्टाफ को कोविड-19 की रोकथाम और प्रबंधन के लिए प्रशिक्षित किया गया है। इसी प्रकार पर्यावरण स्वच्छता और शुद्धीकरण के बारे में सरकारी व निजी विभागों के कर्मचारियों को दैनिक आधार पर प्रशिक्षण दिया जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस के संभावित संक्रमण की पृष्ठभूमि को देखते हुए आम जनता को सरकार द्वारा स्वास्थ्य संबंधी हिदायतों की अनुपालना करने की सलाह दी जाती है। लोगो को ध्यान रखना चाहिए कि खाँसी व छींकते समय रूमाल या तौलिया का उपयोग अवश्य करें, हाथों को बार-बार साबुन व पानी से धोते रहें। जब तक बहुत जरूरी न हो, घर से बाहर न निकलें। सार्वजनिक स्थलों व सभाओं में जाने से बचें। जिन लोगों ने हाल ही में कोरोना प्रभावित देशों की यात्रा की है, उन्हें राष्ट्रीय, राज्य या जिला हेल्पलाइन नंबरों पर सूचना देनी चाहिए, उन्हें भारत में आगमन की तारीख से 28 दिनों के लिए सभी से अलग रहना है और किसी से भी स्पर्श करने से बचना है, भले ही उसमें कोई लक्षण न हों।