Info Link Ad

Faridabad Assembly

Palwal Assembly

Faridabad Info

Showing posts with label India News. Show all posts

अच्छे बीते 5 साल, फिर आएंगे केजरीवाल, दिल्ली के लोग लगा रहे हैं ये नारा 


नई दिल्ली-पुष्पेंद्र सिंह राजपूत, हरियाणा अब तक: दिल्ली विधानसभा चुनावों के लिए 8 फरवरी को मतदान होगा और उम्मीदवारों का नामांकन जारी है। आज दिल्ली के सीएम अरविन्द केजरीवाल भी नामांकन दाखिल करने पहुंचे थे लेकिन  लेकिन वह रोड शो के कारण नामांकन के लिए निर्धारित अंतिम वक्त 3.00 बजे तक निर्वाचन अधिकारी के दफ्तर नहीं पहुंच सके।  अब केजरीवाल मंगलवार यानी 21 जनवरी को नामांकन दाखिल करेंगे। आपको बता दें कि पांच साल पहले भी ऐसा ही हुआ था, भीड़ के कारण केजरीवाल को अगले दिन नामांकन भरना पड़ा था। 
 सीएम केजरीवाल दोपहर भगवान् वाल्मीकि मंदिर पहुंचे। वाल्मीकि मंदिर से वह रोड शो करते हुए नामांकन करने के लिए रवाना हुए।  रोड शो के दौरान उमड़ी भारी भीड़ के कारण उनका काफिला निर्धारित अवधि में नामांकन स्थल तक नहीं पहुंच सका। वाल्मीकि मंदिर के चारों तरह लोगों का हुजूम देख लगा कि दिल्ली की जनता इस बार भी केजरीवाल को दिल्ली की कुर्सी पर बैठा सकती है। लगभग दो घंटे हम मंदिर में रहे और एक घंटे मंदिर के आस पास उमड़ी भीड़ से ये जानकारी हासिल करने का प्रयास करते रहे कि कहीं ये भीड़ किराये की तो नहीं है लेकिन हर किसी में मुँह से लगे रहो केजरीवाल ही सुनने को मिला। 

दिल्ली से भाजपा और कांग्रेस को इस चुनाव में भी बड़ी खुशखबरी शायद ही मिले जिसका प्रमुख कारण वही है जो हम बार-बार अपने पाठकों को बता रहे हैं। केजरीवाल ने दिल्ली में शिक्षा, स्वास्थ्य और बिजली, पानी पर लगभग उतना ध्यान दिया है जितना किसी भी प्रदेश की सरकार ने नहीं ध्यान दिया। दिल्ली से सटे हरियाणा की बात करें जहाँ भाजपा की सरकार है और 2014 से है। इस बार जजपा की वैशाखी लेकर खट्टर फिर चंडीगढ़ पहुँच गए। यहाँ प्रदेश के 70 फीसदी लोग शिक्षा और स्वास्थ्य माफियाओं से दुखी हैं। 70 फीसदी में लाखों ग्रामीण और शहर में रहने वाले लोग आते हैं। पीएम की आयुष्मान भारत योजना का लाभ बहुत कम लोग उठा पा रहे हैं। अगर किसी गरीब के दो बच्चे हैं तो उसकी सारी कमाई शिक्षा और स्वास्थ्य माफिया हड़प ले रहे हैं और कमाई का कुछ हिस्सा बचता है तो बिजली का बिल में चला जाता है। उसमे से भी कुछ बचता है तो वो पानी में चला जाता है क्यू कि प्रदेश का लगभग हर दूसरा व्यक्ति पानी खरीदकर पीता है। नलों और ट्यूबबेलों का पानी पीने लायक नहीं होता जबकि बिजली के बिल में दर्जनों टैक्स लगाए जाए हैं। लगभग हरियाणा जैसा हाल कई भाजपा शासित राज्यों में है और कई राज्यों में इन्ही वजहों ने भाजपा को सत्ता से बाहर होना पड़ा। 

कहा जाता है कि दिल्ली की जनता मुफ्तखोर है और मुफ्तखोरी के चक्कर में केजरीवाल का साथ दे रही है। जनता बेचारी क्या करे। देश में बेरोजगारी हद से ज्यादा बढ़ती जा रही है। शिक्षा और स्वास्थ्य माफिया जितना लूट रहे हैं उतना कभी चम्बल के डाकू भी नहीं लूटते थे। भाजपा इस लूट खसूट पर लगाम लगाने में पूरी तरह से असफल रही इसलिए जनता ने कई प्रदेशों में भाजपा को आइना दिखा दिया। 

भाजपा ये भी कहती है कि जनता मुफ्तखोरी पसंद नहीं करेगी साथ में ये भी कहती है कि शाहीन बाग़ में मुफ्त की बिरयानी खाने के लिए भीड़ पहुँच रही है। अगर जनता मुफ्त के लिए वहां पहुँच रही है तो मुफ्त के लिए कुछ भी कर सकती है। 
कांग्रेस की बात करें तो सट्टा बाजार का कहना है कि दिल्ली में कांग्रेस का शायद ही खाता खुले और सट्टा बाजार का दावा है कि चांदनी चौक से कांग्रेस की प्रत्याशी अल्का लाम्बा की इस बार बड़ी हार होने वाली है और जिस दिन नतीजे आएंगे उस दिन सबसे पहले अल्का लाम्बा की ही हार की खबर आएगी। सट्टा बाजार में कांग्रेस का दिल्ली में कोई भाव नहीं है। लगभग एक दर्जन सीटों पर भाजपा के लिए भाव लगाए जा रहे हैं। वहां भी आप का रेट ज्यादा है। 
दिल्ली के सीएम की बात करें तो पिछली बार 67 सीटें पाते ही केजरीवाल राहुल गांधी का विकल्प बनने का प्रयास करने लगे और दिन रात मोदी को घेरने लगे। जिसका उन्हें नगर निगम चुनावों में नुकसान उठाना पड़ा और भाजपा निगम चुनावों में बाजी मार ले गई। निगम चुनाव हारने के बाद से अब तक केजरीवाल ने कोई एंटी मोदी ट्वीट शायद ही किया हो। अब उन्हें इसका फायदा भी मिलता दिख रहा है। सट्टा बाजार का कहना है कि आने वाले कुछ दिनों तक केजरीवाल ने कोई गलती नहीं की तो आम आदमी पार्टी सभी 70 सीटों पर विजय हासिल कर सकती है। कुछ सट्टेबाजों का कहना है कि 60 सीटें तो पक्की हैं और आज भगवान् वाल्मीकि मंदिर में हमने जो देखा उसे देख लगा कि अल्प संख्यकों का वोट कांग्रेस को नहीं आम आदमी पार्टी को मिल सकता है। ये सच भाजपा और कांग्रेस के लोग शायद ही हजम कर सकें लेकिन सच तो सच है। सच कड़वा होता है ये भी हरियाणा अब तक के पाठकों को पता है। 

हमारे दामाद भाजपा के अध्यक्ष बने, हम मध्य प्रदेश वाले प्रसन्न हैं- दिग्विजय सिंह


नई दिल्ली: जगत प्रकाश नड्डा के भाजपा के अध्यक्ष बनने पर देश के सभी भाजपा नेता उन्हें बधाई दे रहे हैं। कुछ नेता उनसे मिलकर उन्हें बधाई दे रहे हैं तो कुछ नेता ट्विटर पर ट्वीट के माध्यम से बधाई दे रहे हैं। वरिष्ठ कांग्रेसी नेता एवं मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने भी उन्हें बधाई दी है।
जेपी नड्डा जी को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चुने जाने पर हार्दिक बधाई। हम मप्र के लोगों को इस बात की प्रसन्नता है कि हमारे दामाद भाजपा के अध्यक्ष बने। श्री मती नड्डा मप्र की भूपू मंत्री श्री मती जयश्री बेनर्जी की पुत्री हैं।

आज नामांकन भरेंगे केजरीवाल, भाजपा, कांग्रेस को अब तक नहीं मिले उम्मीदवार 


नई दिल्ली: दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए नामांकन प्रक्रिया शुरू हो गई है। मुख्य्मंत्री अरविन्द केजरीवाल आज नई दिल्ली विधानसभा सीट से नामांकन भरेंगे। भाजपा केजरीवाल के सामने किसे मैदान में उतारेगी अब तक विचार चल रहा है। कांग्रेस की बात करें तो कांग्रेस पहले यहाँ से किसी हाई प्रोफाइल चेहरे को उतारना चाह रही थी , लेकिन कांग्रेस को कामयाबी नहीं मिली।

 कांग्रेस की पहली लिस्ट में नई दिल्ली से उम्मीदवार की घोषणा नहीं हुई। दूसरी लिस्ट रविवार को नहीं आई। कांग्रेस को 12 सीटों पर फैसला करना है, जिसमें से 11 सीटों की वजह से आपसी कलह है। नई दिल्ली सीट पर कांग्रेस को चेहरा नहीं मिल रहा है यही भाजपा का भी है। दोनों पार्टियां अब तक केजरीवाल के खिलाफ उम्मीदवारों का चयन नहीं कर सकीं हैं। 

दिल्ली फतह करने के लिए शाह ने बनाया प्लान, कई मुख्यमंत्रियों सहित मैदान में उतरेंगे मंत्री, सांसद


नई दिल्ली: दिल्ली विधानसभा चुनावों के लिए भाजपा मुख्यालय में कल देर रात्रि तक बैठक चली जिसमे दिल्ली फतह करने का प्लान बनाया गया। बैठक की अध्यक्षता भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं गृह मंत्री अमित शाह कर रहे थे। सूत्रों के हवाले से मिली खबर के मुताबिक़ भाजपा के तमाम सांसदों सहित कई राज्यों के मुख्य्मंत्री अब दिल्ली में दिखेंगे। उत्तर प्रदेश से सटे क्षेत्रों में यूपी के सीएम योगी मोर्चा संभालेंगे। योगी दिल्ली में कई जनसभाओं को सम्बोधित कर सकते हैं। 

हरियाणा से सटे क्षेत्रों में सीएम मनोहर लाल सहित कई सांसद मोर्चा संभालेंगे और हिमाचल और उत्तराखंड के मुख्य्मंत्री भी दिल्ली में ही चुनावी रैली को सम्बोधित करते देखे जायेंगे। गृह मंत्री शाह भी कई रैलियों को सम्बोधित करेंगे। कई केंद्रीय मंत्रियों को भी दिल्ली में चुनावी रैली को सम्बोधित करते देखा जाएगा। 

दिल्ली चुनाव, सट्टा बाजार का केजरीवाल की तरफ झुकाव, भाजपा, कांग्रेस को बहाना पड़ेगा पसीना 


नई दिल्ली: दिल्ली विधानसभा चुनावों को लेकर देश के बड़े सट्टेबाज दिल्ली पहुँच गए हैं। सभी 70 विधानसभा क्षेत्रों में सट्टेबाजों की टीम उसी तरह पसीना बहा रही है जैसे चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशी बहा रहे हैं। लोकसभा चुनावों में दिल्ली में भाजपा की सभी सीटों पर जीत हुई थी लेकिन विधानसभा चुनावों में भाजपा उम्मीदवारों को जमकर पसीना बहाना पड़ेगा। कांग्रेस भी वापसी का प्रयास कर रही है लेकिन सट्टा बाजार की मानें तो केजरीवाल की फिर वापसी हो सकती है।

2015 में हुए विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को 70 में से 67 सीटें मिली थीं। भाजपा ने 3 सीटें जीती थीं। 2017 में उपचुनाव के बाद राजौरी गार्डन सीट भाजपा ने जीती थी। भाजपा यहाँ केंद्रीय मुद्दों पर केजरीवाल को चित करने का प्रयास करेगी लेकिन हाल के कुछ चुनावों में भाजपा को केंद्रीय मुद्दों का कोई फायदा नहीं मिला। केजरीवाल स्थानीय मुद्दों पर चुनाव लड़ रहे हैं। उन्होंने कई चीजें मुफ्त कर दी हैं जिस कारण दिल्ली की जनता का झुकाव आम आदमी पार्टी की तरफ है।

आम आदमी पार्टी को डर है कि कहीं पीएम मोदी और अमित शाह के मैदान में उतरने के बाद पाशा न पलट जाए इसलिए आप की भारी भरकम सोशल मीडिया की टीम मोर्चा संभाल रही है। प्रशांत किशोर इस टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। भाजपा, कांग्रेस अभी ये चुनाव हल्के में ले रही है जो इन पार्टियों के लिए घातक साबित हो सकता है। सट्टा बाजार का आंकड़ा गलत हो सकता है लेकिन सौ फीसदी गलत नहीं हो सकता क्यू कि उनकी टीम गली-गली तक पहुँचती है। 

राजद्रोह के केस में कांग्रेसी नेता हार्दिक पटेल गिरफ्तार


नई दिल्ली: राज द्रोह के मामले में गुजरात के कांग्रेसी नेता हार्दिक पटेल को गिरफ्तार कर लिया गया है। कल उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया गया था। बताया जा रहा है कि उन्हें अहमदाबाद के पास के एक गांव से गिरफ्तार किया गया है। 
पाटीदार आरक्षण आंदोलन के समय हुई हिंसा के कारण हार्दिक पटेल पर राजद्रोह का मामला दर्ज किया गया था। 25 अगस्त 2015 को ये हिंसा हुई थी। कई बसों और पुलिस चौकियों में आग लगाईं गई थी। इसी मामले के कारण हार्दिक पटेल लोकसभा चुनाव नहीं लड़ पाए थे। 

नए कम्बल, बिरयानी बाँट CAA के खिलाफ प्रदर्शन करवा रहे थे, UP पुलिस ने फेरा मंसूबों पर पानी 


नई दिल्ली: दिल्ली के शाहीन बाग़ में लगभग 30 से नागरिकता संशोधन क़ानून के खिलाफ प्रदर्शन चल रहा है। ऐसे प्रदर्शनों के पीछे कोई न कोई जरूर है। इन्हे हर तरह की सुविधा और बिरयानी का इंतजाम किया जा रहा है जिस कारण ये सड़क पर डटे बैठे हैं। साजिश के रचयिता देश के अन्य शहरों में भी ऐसे प्रदर्शन की साजिश रच है हैं। उत्तर प्रदेश के लखनऊ के  घण्टाघर के पास लोग सीएए के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। लखनऊ से एक तस्वीर सामने आई है जहां पर प्रदर्शनकारियों के लिए नया कंबल, खाने-पीने डिब्बे में बंद सामान लाया गया। हालांकि यह साफ नहीं हो पाया है कि सामान किसने वहां भिजवाई।

तस्वीरों को देखकर तो ऐसा लगता है कि यह आंदोलन के पीछे किसी का हाथ है।  जो सीएए के खिलाफ उबाल लाने की कोशिश कर रहा है।  मौके पर पहुंची पुलिस ने जब सामान को जब्त करने की कोशिश की तो वहां मौजूद लोग उसे ले जाने से मना करने लगे. यहां तक की वो लोग पुलिस से भीड़ गए।

कुछ दिन पहले खबर आई थी कि शाहीनबाग में लोगों को धरना प्रदर्शन करने के लिए हर रोज के 500-500 रुपए दिए जा रहे हैं।  हालांकि इसकी पुष्टि नहीं हुई।  बाद में सामने आया कि यह अफवाहें उड़ाई जा रही है। पैसे न भी दिए जा रहे हों तो नए कम्बल और बिरयानी तो दी ही जा रही है। ये प्रदर्शन कोई न कोई जरूर करवा रहा है। उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले में भी कल प्रदर्शन का प्रयास किया गया जहाँ पुलिस ने 70 महिलाओं के खिलाफ मामला दर्ज किया है। लखनऊ में पुलिस ने जब प्रदर्शनकारियों को खदेड़ा तो एक महिला पुलिस को चोर डकैत कहने लगी देखें वीडियो

सड़क दुर्घटना में अभिनेत्री शबाना आजमी गंभीर रूप से घायल


\नई दिल्ली: मुंबई-पुणे एक्सप्रेस-वे पर सड़क दुर्घटना में अभिनेत्री गंभीर रूप से घायल बताई जा रही हैं।  शबाना आजमी की कार का ऐक्सिडेंट हो गया है। उनकी कार एक ट्रक से टकरा गई थी। बताया जा रहा है कि कार में उनके पति जावेद अख्तर भी मौजूद थे। जावेद अख्तर को कोई चोट नहीं आई है। दुर्घटना के बाद शाबाना आजमी को अस्पताल ले जाया गया है।

देश में चल रहे प्रदर्शन में PFI का हाथ होने की आशंका, युवाओं को आतंकी बनाती है PFI


नई दिल्ली: साल की शुरुआत में उत्तर प्रदेश पुलिस ने पीएफआई के लगभग दो दर्जन व्यक्तियों को गिरफ्तार किया था। यूपी में हुई हिंसा में इनका शामिल होना बताया गया। उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने पीएफआई पर प्रतिबंध लगाने का प्रस्ताव तैयार कर गृह विभाग को भेजा था। डीजीपी मुख्यालय ने अपनी सिफारिश में पीएफआई के बारे में लिखा था  कि इसके ज्यादातर सदस्य इस्लामिक स्टूडेंट मूवमेंट ऑफ इंडिया (सिमी) से जुड़े रहे हैं। उत्तर प्रदेश के मंत्री मोहसिन रजा ने कहा था कि पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) युवाओं को कट्टरपंथी बनाना चाहती है और उन्हें आतंकवाद की ओर धकेलना चाहती है। 

 मोहसिन रजा ने पीएफआई के पीछे आईएसआई का हाथ होने का भी दावा किया था। दिल्ली के कई जगहों पर इस समय नागरिकता क़ानून के विरोध में प्रदर्शन हो रहा है जहाँ से ऐसे वीडियो आ रहे हैं जिनमे छोटे छोटे बच्चे पीएम और गृह मंत्री के खिलाफ आग उगल रहे हैं और मोदी-शाह को मारने की बात कर रहे हैं। अब अफवाह है कि पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया ही ये प्रदर्शन करवा रही है। पीएफआई के साथ कुछ वामपंथी जुड़ चुके हैं। प्रदर्शनकारियों को धन उपलब्ध करवाया जा रहा है। बच्चों को कट्टरपंथी बनाया जा रहा है। 

पत्रकार राहुल सिन्हा ने एक ट्वीट किया है और लिखा है कि शाहीन बाग ,खुरेजी,ज़ाफराबाद अब लखनऊ नागरिकता कानून के विरोध में लोगों को सड़को पर बैठाया जा रहा है,महिलाओं को आगे किया जा रहा है,इस विरोध में कुछ लोग पैसे जुटा रहे हैं और कुछ भीड़,क्या इसके पीछे PFI है? अगर ऐसा है तो सरकार को जल्द कदम उठाने होंगें वरना देश में अराजकता फैल सकती है।

निर्भया के कातिलों की फांसी की सजा माफ़ करने की अपील करने वाली वकील पर भड़के लोग


नई दिल्ली: सोशल मीडिया पर वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह की कल से जमकर फजीहत हो रहा है जबसे उन्होंने निर्भया की मां से अपील की है कि वे 2012 में निर्भया से गैंगरेप और हत्या के दोषियों को माफ कर दें।इंदिरा ने ट्वीट किया था कि मैं आशा देवी का दर्द पूरी तरह से समझ सकती हूं। मगर मैं उनसे अपील करती हूं कि वे सोनिया गांधी का अनुसरण करें, जिन्होंने नलिनी (पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या की दोषी) को माफ कर दिया। वे उसके लिए मौत की सजा नहीं चाहतीं। हम सभी आपके साथ हैं, लेकिन मौत की सजा के खिलाफ हैं।
 उनके इस ट्वीट के बाद निर्भया की माँ आशा देवी ने कहा कि मुझे ऐसा सुझाव देने वालीं इंदिरा जयसिंह कौन होती हैं? पूरा देश चाहता है कि दोषियों को फांसी दी जाए। उसके जैसे लोगों की वजह से दुष्कर्म पीड़ित को न्याय नहीं मिल पाता। विश्वास नहीं होता कि उन्होंने इस तरह का सुझाव दिया। मैं सुप्रीम कोर्ट में उनसे कई सालों तक मिली। उन्होंने एक बार भी मेरे बारे में नहीं सोचा और आज वे दोषियों के लिए बोल रही हैं। ऐसे लोग दुष्कर्मियों का समर्थन करके आजीविका चलाते हैं, इसलिए रेप की घटनाएं बंद नहीं हो रहीं हैं। सोशल मीडिया पर कैसे इंदिरा को लपेटा जा रहा है पढ़ें।

कश्मीरी पंडितों के भावुक वीडियो, हम वापस आएंगे हाजी साहब


नई दिल्ली: ट्विटर पर हम वापस आएंगे ट्रेंड हो रहा है जिसमे देश विदेश के कश्मीरी पंडित वीडियो पोस्ट कर रहे हैं। वीडियो में सभी बोल रहे हैं कि  हम आएंगे अपने वतन हाजी साहब, यहीं  पे दिल लगाएंगे,  यहीं पर मरेंगे, यहीं के पानी में हमारी राख बहाई जाएगी। अब तक सैकड़ों वीडियो इस ट्रेंड पर पोस्ट किये जा चुके हैं। कुछ लोगों ने अपने खंडहर हुए जम्मू-कश्मीर के मकानों के वीडियो पोस्ट किये हैं और काफी भावुक होते हुए दिख रहे हैं।
आपको बता दें कि तीस साल पहले आज के ही दिन  लाखों कश्मीरी पंडित  अपने घरों को छोड़कर बेघर होने के लिए मजबूर हुए थे। यही वो काला दिन है, जिस दिन ये निरपराध और सीधे-सादे लोग अपने ही देश में शरणार्थी बने और उनके आंखों से बहते खून के आंसू को पोंछने वाला कोई नहीं था।
मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कई ट्वीट किये हैं। उन्होंने लिखा है कि हमारे कश्मीरी पंडित भाई-बहनों के साथ जो बर्बरता हुई, उसके लिए हम शर्मिंदा हैं। अपने देश में, अपने घर में रहते हुए, जिस यातना से आप गुजरे हैं, हम उस दर्द को महसूस नहीं कर सकते हैं। भारत के इतिहास में उन दिनों को काले अक्षरों में लिखा जायेगा।
उन्होंने लिखा है कि हमारे कश्मीरी पंडित भाई-बहनों के साथ आज से तीस साल पहले जो अन्याय हुआ, सम्मान के साथ खिलवाड़ हुआ, वह कभी भुलाया नहीं जा सकता है।अपने ही देश में शरणार्थी बन जाने के उस दर्द को हम मिटा नहीं सकते हैं, लेकिन #HumWapasAayenge, यह हमारी सरकार का संकल्प है और इसे पूरा करेंगे।
कश्मीर को धरती का स्वर्ग कहते हैं और हम सब अपने प्रेम और सौहार्द से इस जन्नत की खूबसूरती को और बढ़ायेंगे। कश्मीरी पंडितों को उनका घर और हक दिलायेंगे। प्यार बढ़ेगा, घृणा मिटेगी। आइये, हम सब दिलों में प्यार लेकर कदम बढ़ाएं। कश्मीर में नये फूल खिलायें।
देखें कुछ वीडियो


शाहीन बाग़ में टुकड़े गैंग की समर्थक मीडिया के अलांवा कोई न जाये वरना जेहादी करेंगे बुरा हाल 


नई दिल्ली: सोशल मीडिया पर वाइरल हुए डाक्टर दीपा शर्मा के वीडियो पर कुछ लोग सवाल उठा रहे हैं। दीपा शर्मा का कहना है कि वो देखने गईं थीं कि शाहीन बाग़ में क्या हो रहा है लेकिन वहां वीडियो बनाते वक्त कुछ लोग उनके पीछे पड़ गए और उन्हें जान बचाकर भागना पड़ा। दीपा सच बोल रही हैं या झूंठ लेकिन हरियाणा अब तक डंके की चोट कर कह रहा है कि शाहीन बाग़ में जेहाद चल रहा है, खान मार्किट गैंग, आवार्ड वापसी गैंग, टुकड़े गैंग, आजादी गैंग, अर्बन नक्सली और देशद्रोहियों का अड्डा बन चुका है। दीपा शर्मा ने अपने वीडियो में कहा कि शाहीन बाग़ न जाएँ वहां के लोग आपका हाल बेहाल कर सकते हैं। शायद उन्होंने सच कहा है क्यू कि शाहीन बाग़ की सड़क जाम करने वालों के खिलाफ अगर कोई खबर लिख रहा है तो उसे भी धमकी दी जा रही है। अगर खबर लिखने वालों को धमकी दी जा रही है तो वहां पहुँचने वाले पत्रकारों या अन्य लोगों के साथ तो हद से ज्यादा बुरा सलूक हो रहा होगा। दिल्ली में कई जगह जेहादी सड़क पर हैं।

आज एक पुलिसकर्मी का वीडियो वाइरल हुआ जिसमे एक महिला पुलिस के जवान को दल्ला बोलती दिखी। जब पुलिस के जवानों को उनके सामने वो जेहादी ऐसा बोल सकते हैं तो आम लोगों का तो बुरा हाल करते होंगे। दिल्ली में कई जगहों पर अब प्रदर्शन चल रहा है और मुफ्त बिरयानी के चक्कर में वहां भी भीड़ पहुँच रही है। ये मुफ्त बिरयानी बनवाकर बाँट कौन रहा है। बड़े सवाल खड़े हो रहे हैं। वैसे टुकड़े गैंग को पता चल चुका है कि दीपिका पादुकोण की फिम छपाक उनकी वजह से फ्लॉप हो गई। इस गैंग को दिल्ली में प्रदर्शन करने के लिए पैसे कौन दे रहा है, बिरयानी के पैसे कौन दे रहा है, रोजाना लाखों कौन खर्च कर रहा है। दिल्ली पुलिस इस पर ध्यान दे। कोई आतंकी या कोई बड़ा नेता इन जेहादियों का साथ दे रहा है। दिल्ली में जल्द चुनाव हैं। इस वजह से जेहादियों को इतनी छूट मिली है वर्ना अब तक दूध का दूध और पानी का पानी हो गया होता। हरियाणा अब तक के पास जेहादियों के फोन आ रहे हैं, धमकी भी मिल रही है लेकिन सच जारी रहेगा। हमारे पास जेहादियों की रिकार्डिंग है। हमारे फेसबुक के हरियाणा अब तक पेज पर शाहीन बाग से जुडी खबरों पर आये कमेंट्स में आप देख सकते हैं कि जेहादी कैसे-कैसे प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। टुकड़े गैंग को बता दूँ कि हम पृथ्वीराज चौहान और महाराणा प्रताप के वंशज हैं। हम तुम दो कौड़ी लोगों की धमकियों से डरने वाले नहीं हैं। अब तुम्हे और लपेटेंगे। तुम्हारा रवीश तुम्हे ज्यादा समय तक नहीं बचा सकेगा। दिल्ली पुलिस अपने डंडे में तेल लगा रही है। 

दिल्ली भाजपा की पहली लिस्ट जारी, दुष्यंत चौटाला को गठबंधन का अब भी इन्तजार


नई दिल्ली: दिल्ली भाजपा ने आज विधानसभा चुनावों के लिए 57 उम्मीदवारों के नामों का एलान कर दिया। दिल्ली में कुल 70 सीटें हैं और 13 नामों का और एलान होना है। हरियाणा में भाजपा-जजपा की सरकार है और जजपा चीफ एवं हरियाणा के उप मुख्य्मंत्री दुष्यंत चौटाला दिल्ली विधानसभा चुनावों में अपने उम्मीदवार उतारना चाहते हैं और भाजपा से कई दिनों से गठबंधन करने का प्रयास कर रहे हैं। भाजपा की दिल्ली इकाई इस गठबंधन के खिलाफ है लेकिन कल तक कहा जा रहा है कि बात बन गई है और जजपा को आधा दर्जन के आस-पास सीटें दी जा सकती हैं। 

अब भाजपा की पहली लिस्ट आ गई है और संभव है एक दो दिन में दूसरी लिस्ट भी जारी हो जाए। अगर भाजपा-जजपा में गठबंधन होगा तो कुछ सीटें दुष्यंत की जजपा को दी जा सकती हैं। अगर बात न बनी तो भाजपा बची सभी 13 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी। सूत्रों की मानें तो दुष्यंत चौटाला को अब भी गठबंधन का इन्तजार है। आप के बागी नेता एवं दिल्ली के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा को इस बार भाजपा ने मॉडल टाउन से टिकट दी है। जानकारी मिल रही है कि उन्हें नई दिल्ली से सीएम केजरीवाल के खिलाफ मैदान में उतारने का प्रयास था लेकिन मिश्रा ने मना कर दिया था। 

19 जनवरी को लाखों कश्मीरी पंडितों के जख्मों पर नमक छिड़केंगे जेहादी, टुकड़े गैंग और वामपंथी 


नई दिल्ली: 19 जनवरी 1990 को वो दिन माना जाता है जब कश्मीर के पंडितों को अपना घर छोड़ने का फरमान जारी हुआ था।  4 जनवरी 1990 को उर्दू अखबार आफताब में हिज्बुल मुजाहिदीन ने छपवाया कि सारे पंडित कश्मीर की घाटी छोड़ दें।  अखबार अल-सफा ने इसी चीज को दोबारा छापा।  चौराहों और मस्जिदों में लाउडस्पीकर लगाकर कहा जाने लगा कि पंडित यहां से चले जाएं, नहीं तो बुरा होगा। इसके बाद लोग लगातार हत्यायें औऱ रेप करने लगे।  कहते कि पंडितो, यहां से भाग जाओ, पर अपनी औरतों को यहीं छोड़ जाओ।  सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 60 हजार परिवार कश्मीर छोड़कर भाग गये।  उन्हें आस-पास के राज्यों में जगह मिली।   
19 जनवरी 1990 को सबसे ज्यादा लोगों ने कश्मीर छोड़ा था। उस दिन लगभग 4 लाख कश्मीरी पंडितों ने कश्मीर छोड़ा था। लोगों ने रोते विलखते कश्मीर छोड़ा। कई परिवारों की महिलाओं, बहन बेटियों के साथ बलात्कार तक कर दिया गया था। कश्मीरी पंडित 19 जनवरी को शायद ही आजीवन भूल सकें लेकिन अब लगभग 30 साल बाद उनके जख्मों को कुरेदकर उस पर नमक भरने की तैयारी कहीं और नहीं दिल्ली के शाहीन बाग़ में चल रही है। टुकड़े गैंग की समर्थक कही जाने वाली स्वरा भाष्कर की मानें तो 19 जनवरी 2020 को शाहीनबाग में "जश्न ऐ शाहीन" मनाया जाएगा।
हरियाणा अब तक बार-बार अपने पाठकों को बता रहा है कि शाहीन बाग़ में बड़ा खेल चल रहा है। बड़ी साजिश रची जा रही है। वहां टुकड़े गैंग समर्थक मीडिया से ही अच्छा व्योहार किया जा रहा है। अन्य कोई मोबाइल से कोई वीडियो बनाता है तो उसके आस पास कई लोग खड़े रहते हैं और देखते रहते हैं कि वीडियो बनाने वाला क्या बोल रहा है जैसा की इस वीडियो में आज देख सकते हैं।
कश्मीरी पंडितों की बात करें तो वो  19 जनवरी को जनसंहार दिवस मनाएंगे। भारत ही नहीं  अमेरिका, इंग्लैंड सहित कई देशों में सभाएं होंगी क्यू कि  वर्ष 1990 को इसी दिन आतंकियों और कट्टरपंथियों ने उन्हें घाटी से बाहर निकल जाने को मजबूर किया था। सैकड़ों कश्मीरी पंडितों की हत्या तक कर दी थी।

टीम भड़ाना ने संभाला दिल्ली में मोर्चा, कहा सभी 70 सीटें जीतेगी AAP, नहीं खुलेगा BJP, कांग्रेस का खाता 


नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी फरीदाबाद के जिला अध्यक्ष धर्मबीर भड़ाना का दावा है कि इस बार दिल्ली चुनावों में आम आदमी पार्टी को सभी 70 सीटों पर जीत मिलेगी। भड़ाना का कहना है कि कांग्रेस और भाजपा का खाता तक नहीं खुलेगा। धर्मवीर भड़ाना ने आज अपनी टीम के साथ दिल्ली की कई विधानसभा सीटों पर मोर्चा संभाल लिया है।  भड़ाना ने साऊथ दिल्ली की जिम्मेदारी ली है जिनका कहना है कि दिल्ली में हर कोई केजरीवाल सरकार के कामकाज से खुश है। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार ने जनता का दर्द समझते हुए शिक्षा और स्वास्थ्य सहित बिजली पानी पर ध्यान दिया। 

भड़ाना के मुताबिक़ दिल्ली में निजी स्कूलों की फीस पहले से कम करवाई गई और सरकारी स्कूलों की हालत सुधारी गई। उन्होंने कहा कि दिल्ली से सटे हरियाणा में निजी स्कूलों की मनमानी अब भी जारी है और मोटी फीस वसूली जा रही है। हर साल फीस बढ़ा दी जाती है जबकि दिल्ली में ऐसा नहीं है। भड़ाना ने कहा कि दिल्ली में हर किसी के स्वास्थ्य का ख़याल रखा गया है और कोई निजी अस्पताल में भी बड़ी बीमारी का इलाज करवाता है तो सरकार लाखों के बिल का भुगतान करती है। भड़ना ने कहा कि जनता का मूड देख लग रहा है कि पार्टी को सभी 70 सीटों पर विजय मिलेगी। 

मुफ्त बिरयानी और 500 रूपये, शाहीन बाग़ के बाद अब दिल्ली के कई इलाकों में धरना शुरू 


नई दिल्ली: राजधानी में सब कुछ ठीक नहीं हो रहा है। शाहीन बाग़ के बाद कई जगहों पर प्रदर्शन शुरू हो गया है। दिल्ली के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने ट्वीट किया है जिसमे उन्होंने लिखा है कि दिल्ली में मुस्लिम भीड़ जगह जगह कब्जा करती जा रही हैं, शाहीन बाग़, जामिया, खुरेजी, तुर्कमान गेट के बाद जामा मस्जिद और सीलमपुर में भी तथाकथित धरना शुरू है। 
एक और यूजर ने लिखा है कि दिल्ली में नागरिकता कानून पर विरोध के प्वाइंट हर दिन बढ़ रहे हैं। 26Jan नजदीक है, पुलिस लोगों को असुविधा होने, सुरक्षा इंतजाम की बेवजह जरूरत के बावजूद महिला - बच्चों की आड़ में इन्हें नहीं हटा पा रही है। शाहीन बाग़, जामिया, खुरेजी, तुर्कमान गेट के बाद जामा मस्जिद&सीलमपुर में शुरू हो गया है।
दिल्ली में जल्द विधानसभा चुनावों के लिए मतदान होने हैं और नामांकन प्रक्रिया शुरू है ऐसे में एक तरह के प्रदर्शन हो रहे हैं। हो सकता है कोई पार्टी इसके पीछे हो। सोशल मीडिया पर कहा जा रहा है कि मुफ्त बिरयानी और 500 रूपये दिहाड़ी के कारण इन धरनों में भीड़ भी जमकर पहुँच रही है। 

जेहादियों, वामपंथियों के गाल पर राकेश चौरसिया का करारा तमाचा 


नई दिल्ली: देश में लगभग सवा महीने से तमाम लोग सड़कों पर चिल्ला रहे हैं कि संविधान खतरे में है। कई पार्टियों के बड़े नेता, वामपंथी, टुकड़े गैंग, खान मार्केट गैंग, आवार्ड वापसी और मोमबत्ती गैंग के लोग ऐसे कह रहे हैं। अब फरीदाबाद के वरिष्ठ पत्रकार राकेश चौरसिया ने ऐसे लोगों आइना दिखाया है। राकेश चौरसिया ने एक ट्वीट किया है जिसमे उन्होंने लिखा है कि 1975 में इमरजेंसी, 1984 में सिख दंगा, 90 में कश्मीरी हिन्दू के नरसंहार तक संविधान सुरक्षित था।  5 साल में 1300 आतंकी क्या ठोके संविधान खतरे में पड़ गया ।
आपको बता दें कि इमरजेंसी के समय देश के लाखों लोगों का बुरा हाल था और  1984 सिक्ख दंगों में 2,733 लोगों की मौत हुई थी। 1990 की बात करें तो उस समय जम्मू-कश्मीर में  300 से अधिक हिंदू महिलाओं और पुरुषों की हत्या हुई थी। कश्मीरी पंडितों का खुलेआम कत्लेआम हुआ था। बड़ी संख्या में महिलाओं और लड़कियों के साथ बलात्कार हुए थे। कई लाख कश्मीरी पंडितो को अपना सब कुछ छोड़ वहां से भागना पड़ा था।  ऐसी बड़ी बारदातों के से किसी ने नहीं कहा कि संविधान खतरे में है। 

दिल्ली पुलिस की एक चूक से शाहीन बाग़ की सड़क पर 32 दिन से बिरयानी खा रहे हैं लोग


नई दिल्ली: शाहीन बाग़ में विरोध प्रदर्शन कब तक चलेगा और कब लाखों लोगों को जाम की समस्या से निजात मिलेगी कोई पता नहीं। लोग जाम में फंसते हैं तो सोशल मीडिया पर अपना दुखड़ा बताते है कि यहाँ मैं घंटों जाम में फंसा हूँ। शाहीन बाग़ में दिल्ली पुलिस से बड़ी चूक हुई है। पुलिस की एक चूक का परिणाम ये निकला कि 32 दिन से लाखों लोग परेशान हैं। हरियाणा अब तक अपने सूत्रों से पता चला है कि 15 दिसंबर को कुछ लोग सड़क पर बैठे थे। उस दिन दिल्ली पुलिस को लगा कि सर्दी का मौसम है। कुछ घंटे प्रदर्शन कर लोग वापस चले जाएंगे। ये देखते हुए दिल्ली पुलिस ने  शाहीनबाग जाने वाली पहली रेड लाइट से लेकर कालिन्दी कुंज एमसीडी टोल प्लाज़ा के पास तक दोनों तरफ से बंद कर दिया। पुलिस से यहीं चूक हो गई और प्रदर्शनकारियों को खाली सड़क मिल गई। रातोंरात वहाँ टेंट लग गए और मुफ्त में बिरयानी बांटी जाने लगी। मुफ्त की बिरयानी की खबर आस-पास के मुस्लिम इलाकों तक पहुँची तो महिलाएं अपने बच्चों को लेकर पहुँचने लगीं और उसके बाद भीड़ बढ़ती गई।

 भीड़ में कुछ नेता अपनी राजनीति भी चमकाते हैं और फिर कुछ नेता और तथाकथित बुद्धिजीवी वहाँ पहुँच भाषण देने लगे। लोगों को नागरिकता क़ानून के खिलाफ भड़काने लगे। अफवाह है कि किराये की भीड़ भी वहां लाई जाने लगी और अब 32 दिन हो गए सड़क जाम है। लोग परेशान हैं। महिलाएं अब भी बच्चों को लेकर बिरयानी खाने पहुँच रही हैं।  बच्चों-महिलाओं को नागरिकता क़ानून के बारे में कुछ नहीं पता है। टुकड़े गैंग के लोग वहां पहुँच उन्हें और भड़काते हैं जैसे तमाम वाइरल वीडियो में दिख रहा हैं। भारत के खिलाफ प्रोपोगंडा चलाने वाले कुछ विदेशी मीडिया वाले भी वहां पहुँच रहे हैं। देश के एक दो चैनल वाले वहां पहुँच प्रदर्शनकारियों को भड़का रहे हैं। उन्हें नागरिकता क़ानून की जानकारी देने वाला एक भी नेता मौके पर नहीं पहुंचा। कभी अर्बन नक्सली वहाँ भाषण देते नगर आते हैं तो कभी टुकड़े गैंग के अन्य लोग। 10 लाख लोग सड़क जाम से परेशान हैं। तस्वीर में दावा किया जा रहा है कि ये शाहीन बाग़ की तस्वीर है। कोई पुष्टि नहीं हो सकी है। ये सच है कि वहां मुफ्त में बिरयानी परोसी जा रही है और हजारों लोगों को रोज बिरयानी कौन खिला रहा है। कौन इतना महीने भर से खर्च कर रहा है? शायद बड़ी साजिश रची जा रही है। साजिशकर्ता या तो किसी पार्टी का नेता होगा या टुकड़े गैंग का कोई बड़ा चीफ या अर्बन नक्सली जिनका यही काम ही होता है कि देश के खिलाफ कोई जहर उगले तो उसे धन उपलब्ध करवा उसका साथ दिया जाए। 

BREAKING: 26 जनवरी को बड़े हमले की साजिश रच रहे 5 आतंकी दबोचे गए 


नई दिल्ली: 26 जनवरी पर आतंकी देश में बड़ी बारदात करने का प्रयास कर रहे हैं लेकिन पुलिस भी मुस्तैद नजर आ रही है। अभी कुछ देर पहले जैश-ए-मोहम्मद के पांच आतंकियों को  गिरफ्तार किया गया है। ये आतंकी बड़ी वारदात करने की साजिश रच रहे थे।

हरियाणा अब तक को मिली जानकारी के मुताबिक़ ये आतंकी श्रीनगर के हजरतबल इलाके से गिरफ्तार किए गए हैं। इनके पास से बड़ी मात्रा में विस्फोटक और अन्य सामान बरामद किए गए हैं। पकड़े गए आतंकियों की पहचान एजाज अहमद शेख, उमर हमीद शेख, इम्तियाज अहमद, साहिल फारुख और नसीर अहमद मीर के रूप में हुई है।

रोड बन्द कर लाखों लोगों को परेशान करने वाली दिल्ली क्रांति मात्र 500 रुपये की निकली? -KPG


नई दिल्ली: जम्मू -कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद घाटी में पत्थरबाजी की घटनाएं न के बराबर हुईं लेकिन हाल में नागरिकता क़ानून के विरोध में कई राज्यों में जम्मू-कश्मीर के पत्थरबाजों जैसे कुछ पत्थरबाज दिखे। उत्तर प्रदेश में एक ही दिन में उतने पत्थरबाजों को ऊपर भेजा गया जितने शायद जम्मू कश्मीर में एक दिन में कभी नहीं भेजे गए थे। जम्मू कश्मीर में पत्थरबाजों को पत्थरबाजी के लिए पैसे मिलते थे।

अब दिल्ली के शाहीन बाग़ में चल रहे प्रदर्शन पर बड़े सवाल उठ रहे हैं। सोशल मीडिया पर वाइरल वीडियो में कहा गया कि शाहीन बाग़ में 500 रूपये दिहाड़ी पर महिलाएं प्रदर्शन के लिए लाई जाती हैं। उन्हें मुफ्त में जायकेदार बिरयानी भी मिलती है इसलिए अपने बच्चों को भी बिरयानी खिलाने लाती हैं। अब शाहीन बाग़ के प्रदर्शन पर केंद्रीय राज्य मंत्री एवं फरीदाबाद के सांसद कृषणपाल गुर्जर ने तंज कसते हुए लिखा है कि रोड बन्द कर दिन में लाखों लोगों को परेशान करने वाली दिल्ली क्रांति मात्र 500 रुपये की निकली?