Info Link Ad

Faridabad Assembly

Palwal Assembly

Faridabad Info

Showing posts with label India News. Show all posts

चिदंबरम के जेल से निकलने के वक्त एक दर्जन लोगों के मोबाईल चोरी 


नई दिल्ली: जहाँ भी ज्यादा भीड़ इकट्ठी होती है, चोरों और जेबकतरों की निगाह भी वहीं होती है। कई बार ऐसे मामले सामने आये हैं जहाँ जेबकतरे ऐसे मौकों का फायदा उठा चुके हैं। हरियाणा के बल्लबगढ़ में एक बार सीएम के रोड शो में कई दर्जनों लोगों की जेबें साफ हो गईं थीं।

 अब सोशल मीडिया पर एक पोस्ट वाइरल हो रही है जिसमे कहा गया है कि पूर्व गृह और वित्त मंत्री पी चिदंबरम कल जब जेल से बाहर आये थे तब काफी लोग जेल के बाहर मौजूद थे और उस समय एक दर्जन से ज्यादा लोगों के फोन चोरी हो गए थे। मौके पर मौजूद कई पत्रकारों के फोन भी चोरों ने चुरा लिए। सच क्या है कोई पता नहीं लेकिन कहीं भी भीड़भाड़ में जाएँ तो सावधानी बरतें क्यू कि ऐसे कई मामले आ चुके हैं जब चोर तमाम लोगों की जेबें साफ़ कर चुके हैं।

जेल से छूट, प्याज पर प्रदर्शन लेकिन जम्मू-कश्मीर पर बोल चिदंबरम ने करवाई कांग्रेस की फजीहत 


नई दिल्ली- देश में प्याज की कीमतों को लेकर सड़क से संसद तक संग्राम मचा है। पूर्व गृह एवं वित्त मंत्री पी चिदंबरम जेल से छूटते ही प्याज की कीमतों को लेकर कांग्रेसी नेताओं के साथ प्रदर्शन किया। उन्होंने पत्रकार वार्ता में भी प्याज की बढ़ी कीमतों का जिक्र किया। जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाने पर उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने जम्‍मू-कश्‍मीर से अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को समाप्त करके हिंदू-मुस्लिम कार्ड खेला है।  उन्‍होंने कहा कि यदि जम्मू-कश्मीर हिंदू बहुल राज्य होता तो बीजेपी इस राज्य का विशेष दर्जा नहीं छीनती। उन्होंने ऐसा केवल इसलिए किया क्योंकि यह मुस्लिम बहुल है।
 चिदंबरम ने जम्मू कश्मीर के बारे में जो भी कहा उससे कांग्रेस और घिरी। सोशल मीडिया पर पी चिदंबरम की जमकर खिंचाई हुई। प्याज के मुद्दे पर भी उन्होंने भाजपा सरकार को घेरा लेकिन अब वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पीएम चिदंबरम के एक पुराने वक्तव्य से उन्हें घेरा है।  निर्मला सीतारमण ने पी चिदंबरम का 7 साल पुराना बयान याद दिलाया और  कहा कि पूर्व वित्त मंत्री ने कहा था कि जब अर्बन मिडिल क्लास 15 रुपये का मिनरल वॉटर का बोतल खरीद सकता है और आइसक्रीम के लिए 20 रुपये दे सकता है तो वो क्यों कीमतों में उछाल का हल्ला करता है।

आपको बता दें कि प्रेस वार्ता में पूर्व वित्त मंत्री  पी चिदंबरम ने कहा कि जो सरकार कम प्याज खाने को कहती है, उसे चले जाना चाहिए। जो सरकार लोगों को कम प्याज और लहसुन खाने की सलाह देती है, उसे चले जाना चाहिए. अर्थव्यवस्था के मामले में ये सरकार पूरी तरह से फेल हुई है। आज सोशल मीडिया पर वर्तमान और पूर्व वित्त मंत्री की जमकर खिंचाई हुई। वर्तमान वित्त मंत्री ने कहा कि मैं प्याज नहीं खाती हूँ जिसके बाद उनकी खिंचाई शुरू हुई और जम्मू-कश्मीर के बारे में बोल पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने भी कांग्रेस की जमकर फजीहत करवाई। पोस्ट के नीचे पढ़ें कुछ कमेंट्स

एसवाईएल के मुद्दे पर पंजाब हमारी विनम्रता को अन्यथा में न लें- खट्टर


चंडीगढ़, 5 दिसंबर- हरियाणा के मुख्यमंत्री  मनोहर लाल ने कहा है कि एसवाईएल के मुद्दे पर पंजाब हमारी विनम्रता को अन्यथा में न लें। जब सर्वोच्च न्यायालय ने हरियाणा के हक में निर्णय दे दिया है तो इसके क्रियान्वयन में पंजाब कोई न कोई नया बहाना बनाकर गुमराह करने की कोशिश कर रहा है।
मुख्यमंत्री आज एसवाईएल मुद्दे पर अधिकारियों के साथ एक समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।
बैठक में मुख्यमंत्री को जानकारी दी गई कि कल नई दिल्ली में केन्द्रीय जल सचिव के साथ पंजाब व हरियाणा के मुख्य सचिवों की बैठक है। इसके अलावा, इस बात की भी जानकारी दी गई की एसवाईएल मुद्दे पर सर्वोच्च न्यायालय शायद 3 जनवरी, 2020 को अपना अंतिम फैसला देगा।
मुख्यमंत्री को अधिकारियों को इस बात के भी निर्देश दिए कि पंजाब सहित अन्य पड़ौसी राज्य जैसे कि हिमाचल प्रदेश, उत्तराखण्ड, उत्तर प्रदेश, राजस्थान व दिल्ली के साथ जितने भी छोटे-बड़े मुद्दे हैं, उनकी तुरंत एक सूची तैयार करें। 14 दिसम्बर को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के साथ उनकी एक बैठक तय है। उन्होंने कहा कि पराली व प्रदुषण के मुद्दे पर भी पंजाब हरियाणा को निशाना बनाकर देश को गुमराह कर रहा है। 

प्याज- अमित शाह ने बुलाई हाईलेवल बैठक, जल्द कम होंगे दाम


नई दिल्ली: कई शहरों में 100 रूपये किलो से ज्यादा दाम पर बिक रही प्याज से देश के करोड़ों लोग परेशान हैं और अधिकतर घरों के किचन से  अब प्याज दूर हो गई है जिसके बाद विपक्ष केंद्र सरकार को घेर रहा है। इसी दौरान केंद्र में दो मंत्रियों के बेतुका बयानों ने भाजपा को और शर्मशार कर दिया है जिसे देखते हुए गृह मंत्री अमित शाह अब ऐक्शन में आ गए हैं। जानकारी मिल रही है कि आज शाम गृह मंत्री अमित शाह की अगुवाई में एक हाईलेवल मीटिंग बुलाई गई है। 
 मंत्रियों के समूह की इस अहम बैठक में अमित शाह के अलावा केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल, केंद्रीय खाद्य मंत्री राम विलास पासवान, कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर मौजूद होंगे. इस बैठक में प्रधानमंत्री कार्यालय के अधिकारी भी शामिल होंगे. इस बैठक में प्याज की कीमतों पर काबू पाने के लिए तुरंत कदम उठाने पर चर्चा होगी। माना जा रहा है कि अमित शाह का प्रयास होगा कि किसी भी हालत में प्याज के दामों पर रोक लगाईं जाए। 

प्याज को लेकर एक और मंत्री का बेतुका बयान, चौबे बोले, शाकाहारी हूँ, प्याज नहीं खाता 


नई दिल्ली: प्याज पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के बयान के बाद जब उनकी जमकर खिंचाई होने लगी तो भाजपा उनके बचाव में उतर आई और कहा जा रहा है उनके आधे-अधूरे बयान को दिखाया जा रहा है। अब वित्त मंत्री के बाद मोदी सरकार के एक और मंत्री ने बेतुका बयान दिया है। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण केंद्रीय राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने कहा कि मैं शाकाहारी आदमी हूं और मैंने कभी प्याज चखा नहीं है, मेरे जैसे आदमी को क्या मालूम कि प्याज का क्या दाम है?  उन्होंने निर्मला सीतारमण के बयान का भी बचाव किया।

आपको  बता दें कि संसद में निर्मला सीतारमण ने कहा था कि वह प्याज नहीं खाती हैं। वह एक ऐसे परिवार से आती हैं जिसमें प्याज, लहसन खाने का शौक नहीं है। यह तब हुआ जब वित्त मंत्री सीतारमण सदन में सुप्रिया सुले के एक प्रश्न का जवाब दे रही थीं। वित्त मंत्री के बयान के बाद उनकी जिस तरह से खिंचाई हो रही थी उसी तरह केंद्रीय मंत्री चौबे की भी खिंचाई हो रही है। लोगों ने चौबे से पूंछा है कि प्याज कब से शाकाहारी हो गई? पढ़ें कैसे हो रही है मंत्री जी की खिंचाई, वीडियो के नीचे

प्याज की कीमतों को लेकर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने छिड़का करोड़ों लोगों के जख्मों पर नमक 


नई दिल्ली: बढ़ती प्याज की कीमतों के बाद मोदी की परेशानी भी अब बढ़ने लगी है। सरकार की मुसीबत सबसे ज्यादा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के उस बयान से बढ़ी है जिसमे उन्होंने संसंद में कहा कि मैं प्याज खाती ही नहीं। उन्होंने कहा कि मैं ऐसे परिवार से हूँ जहाँ प्याज- लहसुन का इस्तेमाल नहीं होता। सोशल मीडिया पर वित्त वित्त मंत्री पर तंज कसा जा रहा है। पढ़ें कैसे

पीएम मोदी ने मिटा दिया 370 नाम का कलंक, अब होगा जम्मू-कश्मीर का विकास- पप्पी


नई दिल्ली: अनुच्छेद 370 जम्मू-कश्मीर की जनता पर कलंक रहा और प्रदेश विकास से वंचित रहा लेकिन अब नहीं रहेगा क्यू कि पीएम नरेंद्र मोदी ने इस कलंक मिटा दिया है। अब यहाँ विकास की बयार बहेगी और बेरोजगार युवाओं को रोजगार मिलेंगे। ये विचार भाजपा जम्मू-कश्मीर प्रदेश ओबीसी मोर्चा के सह प्रभारी प्रेम कृष्ण आर्य उर्फ़ पप्पी का जिन्होंने कल जम्मू कश्मीर प्रदेश कार्यालय त्रिकूटा नगर में भाजपा कार्यकर्ताओं एवं स्थानीय लोगों को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किया। इस मौके पर जम्मू कश्मीर ओबीसी मोर्चा के प्रदेश पदाधिकारी एवं समस्त जिला अध्यक्ष और ओबीसी समाज के प्रबुद्ध नागरिक मौजूद रहे। मौके पर उपस्थित मीडिया से बात करते हुए पप्पी ने कहा कि कश्मीर को  धरती स्वर्ग कहा जाता है लेकिन यहाँ धारा 370 लगी होने से लोगों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता था और लोग इस स्वर्ग का नजारा नहीं ले पाते थे। यहाँ आने से डरते थे लेकिन अब पूरे देश के लोग बेहिचक इस स्वर्ग का नजारा ले सकेंगे। 

 बैठक की अध्यक्षता प्रदेश अध्यक्ष ओबीसी मोर्चा  रिसपाल वर्मा ने की। ये बैठक जम्मू कश्मीर के भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश कार्यालय पर संपन्न  हुई। जिसमें जम्मू-कश्मीर प्रदेश ओबीसी मोर्चा के सह प्रभारी प्रेम कृष्ण आर्य उर्फ़ पप्पी,  संजय कुमार राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री ओबीसी मोर्चा,  वीरा माधवराज आचार्य सह प्रभारी कर्नाटका प्रदेश ओबीसी मोर्चा ने आए हुए सभी पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं के विचार सुने। 

उन्होंने कार्यकर्ताओं  को संबोधित करते हुए कहा कि भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के ऐतिहासिक  निर्णय धारा 370 व 35a आर्टिकल हटाने का धन्यवाद किया। तथा पीएम  मोदी  ने जो पूरे देश को नारा दिया है कि सबका साथ सबका विकास के अनुरूप ही जम्मू-कश्मीर का विकास होगा। और ओबीसी समाज को भारत सरकार की तरफ से सभी सुविधाएं प्राप्त होंगी और जल्दी ही एक प्रतिनिधिमंडल राष्ट्रीय अध्यक्ष दारा सिंह चौहान  के नेतृत्व में  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  से मिलकर जम्मू कश्मीर के ओबीसी समाज की सभी समस्याओं से अवगत कराया जाएगा। बैठक में आए हुए सभी प्रदेश के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं ने जम्मू कश्मीर में प्रधानमंत्री मोदी  के ऐतिहासिक फैसले का तहे दिल से स्वागत किया स्वागत किया जिसमें कश्मीर घाटी के ओबीसी मोर्चा के पदाधिकारी भी शामिल थे।


आसमान छूने लगीं प्याज की कीमतें, कोलकाता में 150 रूपये प्रति किलो पहुंचे दाम


नई दिल्ली: देश में प्याज के दाम रुकने का नाम ही नहीं ले रहे हैं। कोलकता में इसमें दामों ने रिकार्ड बना लिया है जहाँ अब एक किलो प्याज के लिए 150 रूपये देने पड़ रहे हैं। कई राज्यों में इसके दाम 100 रूपये के आस पास हैं तो कहीं-कहीं इससे ज्यादा भी हैं। महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा प्याज की खेती होती है लेकिन वहां भी इसके दाम शतक पार कर गए हैं। 

केंद्र सरकार ने काफी समय पहले प्याज के निर्यात पर रोक लगा दी थी और अब तुर्की से चार हजार टन प्याज मंगाई जा रही है लेकिन माना जा रहा है कि पूरे दिसंबर प्याज रुलाती ही रहेगी। जनवरी में इसके दाम कम हो सकते हैं क्यू कि तब तक कई राज्यों में इसकी फसल लगभग तैयार हो जाएगी। केंद्रीय कैबिनेट ने घरेलू आपूर्ति में सुधार और कीमतों को नियंत्रित करने के लिए 1.2 लाख टन प्याज के आयात को मंजूरी दी है लेकिन ये प्याज आने में अभी वक्त लगेगा। काफी मात्रा में मिस्र से भी प्याज के आयात के आर्डर दिए गए हैं। 


WiFi फ्री:  दुनिया का पहला शहर बनने जा रहा दिल्ली- अरविन्द केजरीवाल


नई दिल्ली: चुनावों के समय नेताओं से चावल मांगने से पुलाव मिलता है। अवधी कवि रफीक शादानी ने काफी समय पहले कहा था कि जब नगीचे चुनाव आवत है, भात मांगो पुलाव आवत है। दिल्ली में जल्द चुनावी बिगुल बज जायेगा और बहुत जल्द आचार संहिता लग सकती है। आम आदमी पार्टी के चीफ एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल दुबारा सत्ता में लौटने की पूरी तैयारी कर चुके हैं और आज उन्होंने अपने एक और वादा पूरा कर दिया। सीएम केजरीवाल के मुताबिक दिल्ली में 100 फ्री WiFi हॉटस्पॉट 16 दिसम्बर से शुरू होंगे। आलनेवाले समय में 11,000 हॉटस्पॉट लगाए जाएंगे। 

उन्होंने कहा है कि दिल्ली दुनिया का पहला शहर बनने जा रहा है जहां फ्री WiFi हॉटस्पॉट का जाल पूरे शहर को कवर करेगा। इसी के साथ AAP की सरकार ने 2015 के मैनिफेस्टो का आखिरी वादा भी पूरा कर दिया है। विपक्ष के लोग सवाल उठा रहे हैं कि केजरीवाल ने चुनावों के समय ही अधिकतर वादे पूरे किये। पिछले चुनाव के बाद चार साल तक उन्होंने अधिकतर वादे नहीं पूरे किये थे। अब चुनावी साल में ऐसा कर रहे हैं। फिलहाल दिल्ली वालों के मूड की बात करें तो अधिकतर लोग केजरीवाल सरकार के कामकाज से खुश हैं। फिर वापसी संभव है क्यू कि विपक्ष के पास कोई बड़ा मुद्दा नहीं है। आने वाले डेढ़ महीने में केजरीवाल ने कोई बड़ी गलती न की तो दिल्ली में फिर आप की सरकार बन सकती है। भले ही पहले से कम सीटें मिलें। 

पी चिदंबरम को जमानत मिलने से राहुल गांधी खुश 


नई दिल्ली: आईएनएक्स मीडिया मनी लॉन्ड्रिंग मामले में जमानत मिलने के बाद पूर्व गृह एवं वित्त मंत्री पी चिदंबरम जल्द जेल से बाहर आ जायेंगे और माना जा रहा है कि कल वो संसद सत्र में भी हिस्सा ले सकते हैं। चिदंबरम को जमानत मिलने के बाद राहुल गांधी काफी खुश दिख रहे हैं। 

राहुल गांधी ने एक ट्वीट कर लिखा कि पी चिदंबरम को 106 दिन कैद में रखना बदला लेने जैसा था। सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें जमानत दे दी, जिसकी मुझे खुशी है। मुझे भरोसा है कि सही ट्रायल में वह अपनी बेगुनाही साबित जरूर करेंगे। राहुल गांधी के ट्वीट पर लोग मजे भी ले रहे हैं और लिख रहे हैं कि कांग्रेस के वरिष्ठ घोटालेबाज 100 से ज्यादा दिन तिहाड़ में गुजराने के बाद, जमानत पर बाहर आये हैं। मजे की बात ये है कि कांग्रेसी इसको जश्न समझ रहे हैं। पढ़ें कुछ कमेंट्स

निर्भया केस के दरिंदों को फांसी पर लटकाने के लिए तैयार बैठा हूँ- पवन जल्लाद


नई दिल्ली- निर्भया केस के आरोपियों को जल्द फांसी की सजा सुनाई जाये, उन्हें फांसी पर मैं लटकाऊँगा। ये कहना है पवन जल्लाद का जो हैदराबाद गैंगरेप केस से काफी दुखी हैं जिन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा है कि अगर निर्भया केस के आरोपियों को समय से फंदे पर लटका दिया जाता तो हैदराबाद केस न होता। उन्होंने कहा कि ऐसे आरोपियों को जब तक जल्द सजा नहीं मिलेगी तब तक समाज में ऐसी वारदातें होती रहेंगी। उन्होंने कहा कि निर्भया केस के आरोपियों को न जाने जेल में पालकर क्यू रखा गया है। 

उन्होंने कहा कि मैं तैयार बैठा हूँ और इन्तजार कर रहा हूँ कि निर्भया के आरोपियों को डेथ वारंट मिले और मैं तिहाड़ पहुंचूं और उन्हें फांसी पर लटकाऊँ। आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के मेरठ निवासी पवन खानदानी जल्लाद हैं। इनके पिता मम्मू जल्लाद थे, दादा कालू जल्लाद थे और परदादा लक्ष्मण जल्लाद थे। पवन के दादा कालू जल्लाद कई खूंखार मुजरिमों को फांसी पर लटका चुके हैं। कल मीडिया में खबर आई कि निर्भया केस के दरिंदों को फांसी पर लटकाने के लिए जल्लाद ढूंढें जा रहे हैं जिसके बाद पवन का ये बयान आया है। 

थाने पहुंचा किसान, बोला खेत में खड़ी प्याज की फसल चुरा ले गए चोर


नई दिल्ली: देश के कई राज्यों में लगभग दो महीने से प्याज की कीमतें आसमान पर हैं। करोड़ों लोगों ने प्याज का इस्तेमाल करना बंद कर दिया है। किसी किसी राज्य में इसके दाम 120 रूपये प्रति किलो तक पहुँच गए हैं इसलिए अब चोरों की नजर भी प्याज पर ही है। बीते दो हफ़्तों में प्याज चोरी के कई मामले आ चुके हैं। एक मामला पच्छिम बंगाल से आया जहाँ चोर कैश छोड़ गए और प्याज उठा ले गए जबकि एक और मामला मध्य प्रदेश से आया जहां पूरा ट्रक चोरी कर लिया गया। 

अब मध्य प्रदेश से ही एक और मामला आ रहा है जहां मंदसौर में चोरों में एक किसान के खेत में तांडव मचाया और खेत से हरी प्याज चुरा ले गए। किसान ने थाने पुलिस इस चोरी की लिखित शिकायत दी ,पुलिस के अनुसार किसान जितेन्द्र कुमार की 4 बीघा रकबे में बोई गई प्याज की लगभग 7 क्विंटल फसल चोरी हुई है। किसान ने शिकायत में कहा है कि खेत से कच्ची प्याज उखाड़ी गई जबकि पत्ते खेत में ही फेंक दिए गये। लगभग 30 हजार रूपये की प्याज चोरी हुई है। 

निर्भया केस के दरिंदों को जल्द हो सकती है फांसी लेकिन  तिहाड़ में जल्लाद नहीं 


नई दिल्ली- रेप केस में रेपिस्ट को अंतिम बार 2004 में फांसी पर लटकाया गया था। उस समय केंद्र में यूपीए की सरकार थी। मनमोहन सिंह पीएम थे और  डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम राष्ट्रपति थे। नाबालिग छात्रा से रेप और मर्डर केस में धनंजय चटर्जी को 14 अगस्त 2004 को फांसी पर लटकाया गया था। राष्ट्रपति के सामने धन्नजय के परिजनों फांसी की सजा में छूट की गुहार लगाईं थी लेकिन राष्ट्रपति ने उस मांग को ठुकरा दिया था। उसके बाद देश में लगभग चार लाख से अधिक रेप के मामले सामने आये लेकिन किसी भी आरोपी को फांसी की सजा नहीं मिली। 2012 में दामिनी केस के बाद देश के लोग सड़क पर उतरे लेकिन निर्भया  के दरिंदों को अब तक सजा नहीं मिली। अब हैदराबाद गैंगरेप केस के दरिंदों को फांसी की सजा की मांग की जा रही है और अब भी रोजाना कहीं न कहीं प्रदर्शन हो रहा है। लोगों की मांग है कि कम से कम एक रेपिस्ट हर महीने फांसी पर लटकाया जाए तब जाकर दरिंदों में डर पैदा होगा। 

दिल्ली के निर्भया केस में अब सूत्रों से जो जानकारी मिल रही है उसके मुताबिक़ जल्द कोई बड़ा फैसला आ सकता है लेकिन फैसला इसलिए रोका गया है क्यू कि तिहाड़ जेल में कोई जल्लाद नहीं है। उत्तर प्रदेश के कुछ गांवों में जल्लाद खोजे जा रहे हैं जहाँ पहले कुछ जल्लाद रहते थे। बताया जा रहा है कि एक महीने के अंदर फैसला  आ सकता है और उसके बाद ब्लैक वारंट जारी कर दिया जाएगा। 

CBI को बड़ी कामयाबी, 100 रूपये की रिश्वत लेने वाले 2 अधिकारियों को रंगे हाथों दबोचा 


नई दिल्ली: देश के बड़े रिश्वतखोर भले ही मौज करते रहें लेकिन छोटे रिश्वतखोर नहीं बच पाते। ताजा जानकारी के मुताबिक़ उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में डाक विभाग के दो अधिकारीयों को गिरफ्तार किया गया है। इन दोनों अधिकारियों को बड़े-बड़े घोटालों की छानबीन करने वाली केंद्रीय जांच एजेंसी (सीबीआई)  ने गिरफ्तार किया है। इन दोनों अधिकारियों को 100 रूपये की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया गया है। 
एक जानकारी के मुताबिक प्रतापगढ़ जिले के कुंडा विधानसभा क्षेत्र के एक व्यक्ति ने शिकायत दी थी  कि उसकी पत्नी गांव से डाक विभाग के बचत खाते हे लिए रकम एकत्रित करती है और कुंडा के उप डाकघर में जमा कर देती है। वो भी इस काम में वो भी पत्नी का साथ देता था। 

शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया कि पूर्व में जब वह रकम जमा करने गए थे तो दोनों डाक अधिकारियों ने रकम जमा करने के बदले सुविधा शुल्क के नाम पर 25 और 26 नवंबर को 500 रुपये और 300 रुपये लिए थे। उन्होंने आरोप लगाया कि दोनों ने प्रत्येक 20,000 रुपये जमा करने पर 100 रुपये देने या काम रोक देने को कहा। पैसे नहीं देने पर उनका काम रोकने और गड़बड़ी करने के लिए भी धमकाया था।
इसके बाद सीबीआई ने जाल बिछाकर दोनों आरोपियों को रंगे हांथों 100 रूपये लेते  गिरफ्तार कर लिया। सीबीआई के अधिकारीयों का कहना है कि रिश्वत खोर तो रिश्वतखोर है। हमारे लिए कोई छोटा बड़ा रिश्वतखोर नहीं होता। 

दो बच्चों की हत्या कर दो बीवियों के साथ आठवीं मंजिल से कूदा


नई दिल्ली: ग़ाज़ियाबाद के इंदिरापुरम में एक ही परिवार के चार लोगों की मौत से हड़कंप मच गया है। एक और महिला जिंदगी और मौत से जूझ रही है। घर में दीवार पर एक सुसाइड नोट मिला  जिसमें लिखा है कि क्रिया कर्म के पैसे, हमारी पांचों की आखिरी तमन्ना है कि हमारी लाशों को एक साथ जलाया जाए। हमारी मौत का जिम्मेदार है राकेश वर्मा। मरने वाला शख्स पांच सौ रुपये के साथ एक चेक भी छोड़ कर गया है।

स्थानीय पुलिस के मुताबिक  एक शख्स ने सोसाइटी की आठवीं मंजिल से अपनी दो पत्नियों के साथ छलंगा लगा दी है। इसमें से दो की मौके पर ही मौत हो गई जबकि एक महिला को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। एसएसपी ने बताया कि जब वह घर पहुंचे तो वहां पर दो बच्चों की लाश उन्हें मिली है। जिसमें एक 10 से 11 साल की लड़की है और दूसरा लड़का है। स्थानीय लोगों ने पुलिस को यह जरूर बताया कि घर में दो-दो बीबियों को लेकर आये-दिन तू-तू- मैं-मैं होती रहती थी। हालांकि जांच में जुटी और मौके पर मौजूद इंदिरापुरम थाना पुलिस अभी कुछ भी साफ-साफ कहने से बच रही है। आर्थिक हालत ख़राब होना भी इसका कारण बताया जा रहा है। 

हैदराबाद के दरिंदों को जेल में मटन करी खिलाने की खबर से भड़के लोग 


नई दिल्ली: पिछले बुधवार की रात्रि तेलांगना के हैदराबाद में हैवानियत हुई थी और चार दरिंदों ने एक महिला डाक्टर के साथ  हैवानियत की थी जिसके बाद उसे जला दिया गया। अब भी देश भर में लोग उन दरिंदों को फांसी पर लटकाने की मांग कर रहे हैं। जगह-जगह कैंडिल मार्च निकाला जा रहा है। ये दरिंदे जिस जेल में बंद हैं और वहां के जेल प्रशासन पर सवाल उठ रहे हैं। जानकारी मिली है कि इन दरिदों को जेल में मटन करी खिलाया गया है। सोशल मीडिया पर उठ रहे सवाल के बाद जेल प्रशासन का बयान आया है कि  ऐसा जेल के मेनू के अनुरूप ही किया गया। जेल की मेनू में उस दिन मटन-करी था, इसीलिए इन आरोपितों को भी वही खिलाया गया। देखें सोशल मीडिया पर लोगों का क्या कहना है।

खूब खा रहे थे NCR के रियल स्टेट वाले, 3 हजार करोड़ के कालेधन का खुलासा 


नई दिल्ली: देश में कुछ लोग दो वक्त के भोजन के लिए तरस रहे हैं और कुछ लोग मोटा खा रहे हैं जिस कारण देश में गरीब लोग गरीब बने हुए हैं और दो नम्बरी और अमीर होते जा रहे हैं। खाने वाले दाल में नमक नहीं नमक में दाल खा रहे हैं। हाल में रियल स्टेट ग्रुप के दर्जनों ठिकानों पर आयकर विभाग का छापा पड़ा था। एनसीआर के रियल अब ग्रुप ने तीन हजार करोड़ से अधिक की बेनामी संपत्ति की बात कबूल कर ली है। सीबीडीटी ने ये खुलासा किया है। 

अधिकारिक बयान में कहा गया है कि पिछले हफ्ते ग्रुप के 25 ठिकानों पर छापेमारी की है। यह ग्रुप इन्फ्रास्ट्रक्चर, माइनिंग और रियल एस्टेट के बिजनस में सक्रिय है। बयान में कहा गया है, 'कैश लेजर में करीब 250 करोड़ रुपये का काला धन होने की जानकारी मिली है, जिसे जब्त कर दिया गया है। इस ग्रुप ने कई प्रॉपर्टी ट्रांजेक्शन पर भी टैक्स अदा नहीं किया है। कई करोड़ रूपये की बेनामी संपत्ति भी जब्त की गई है। इस ग्रुप ने करीब 3000 करोड़ रुपये का काला धन होने की बात मानी है। 

40% तक बढ़ेंगी काल दरें, प्रियंका गांधी ने BJP को घेरा, कहा अपने अमीर दोस्तों के फायदे के लिए 


नई दिल्ली: कुछ वर्षों से लगातार सस्ती हो रही मोबाइल काल दर अब अचानक काफी मंहगी होने वाली है और इसी हफ्ते से कई मोबाइल कम्पनियाँ काल दर बढ़ाने वाली हैं। . एयरटेल और वोडाफोन-आइडिया के बाद अब मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो  ने भी मोबाइल टैरिफ बढ़ाने का ऐलान कर दिया है। जियो  6 दिसंबर से मोबाइल टैरिफ 40 फीसदी तक बढ़ा देगी जबकि एयरटेल, वोडाफोन भी जल्द अपने टैरिफ प्लान में बढ़ोत्तरी करने वाले हैं। इस बढ़ोत्तरी को लेकर कांग्रेस ने भाजपा सरकार को घेरना शुरू कर दिया है।

 प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर भाजपा को घेरते हुए लिखा है कि BJP पिछले 6 सालों से मोबाइल इंटरनेट और कॉल सस्ता करने की डींगें हाँकती थी। अब इसकी भी हवा निकल गई। भाजपा ने BSNL, MTNL को कमजोर किया और बाकी कम्पनियों के लिए कॉल और डेटा महँगा करने का रास्ता खोला। भाजपा अपने अमीर दोस्तों को फायदा पहुँचाने के लिए लगातार जनता की जेब काट रही है।

40 हजार करोड़ रूपये बचाने के लिए CM बने थे फडणवीस, BJP MP का चौंकाने वाला खुलासा


नई दिल्ली: महाराष्ट्र में शिवसेना ने कांग्रेस और एनसीपी से मिलकर कई दिन पहले सरकार बना ली लेकिन अब तक सवाल उठ रहे हैं कि जब बहुमत नहीं था तो देवेंद्र फडणवीस रातोरात सीएम क्यू बने थे। आखिर क्या कारण था कि फडणवीस ने फटाफट सीएम पद की शपथ ली और तीन दिन बाद स्तीफा दे दिया। अब भाजपा सांसद अनंत कुमार हेंगड़े ने एक चौंकाने वाला खुलासा किया है जिनका कहना है कि फडणवीस 40 हजार करोड़ बचाने के लिए सीएम बने थे। 

उनका कहना है कि सीएम फडणवीस के पास केंद्र सरकार की 40 हजार करोड़ की राशि थी। कांग्रेस-एनसीपी शिवसेना की सरकार सत्ता में आते ही इस राशि का दुरूपयोग करती इसलिए फडणवीस फटाफट सीएम बन गए और सीएम बनने के बाद ही 15 घंटे में 40 हजार करोड़ रूपये वहां पहुंचा दिया जहाँ से आया था यानि केंद्र को वापस कर दिया गया।

हत्यारा था औरंगजेब, देश में उसके नाम की सड़क शोभा नहीं देती- MS सिरसा 


नई दिल्ली:  दिल्ली में आज औरंगजेब लिखे बोर्डों पर कालिख पोत दी गई। शिरोमणि अकाली दल के विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा और दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अन्य सदस्यों ने  राजधानी दिल्ली के औरंगजेब लेन के साइन बोर्ड पर काला रंग लगा कर विरोध प्रदर्शन किया। उनकी मांग है कि मुगल बादशाह औरंगजेब का नाम देश की सड़कों और किताबों से हटाया जाए।

उन्होंने कहा कि श्री गुरू तेग बहादुर जी ने जबरन धर्म परिवर्तन के खिलाफ शहादत दी। क्रूर औरंगज़ेब भी उनकी धर्म आस्था को हिला नहीं पाया था। देश की राजधानी दिल्ली में उस औरंगज़ेब के नाम पर सड़क होना न देश को शोभा देती है और न देशवासियों को खुशी।
उन्होंने कहा कि औरंगजेब एक हत्यारा था और इसीलिए हम सड़कों और किताबों पर उसके नाम का विरोध करते हैं। सिरसा ने कहा कि सड़कों पर उसका नाम देखकर हमारी भावनाएं आहत होती हैं।