Faridabad Assembly

Palwal Assembly

Faridabad Info

Search This Blog

Recent PostAll the recent news you need to know

सेवा भारती द्वारा कोरोना महामारी से सुरक्षा हेतु सेनेटाइजेशन महाअभियान का शुभारंभ

फरीदाबाद-13जून,2021: वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण काल में सेवा भारती प्रभावित जनमानस के माध्य दिन-रात सेवाकार्य गतिविधियां चला रही है।अपने स्वयंसेवकों के माध्यम से विभिन्न कार्यों से जनसाधारण को अपने हर संभव प्रयास से जनकल्याण के कार्य कर रही है।                              

सेक्टर-15ए में जिला उपायुक्त निवास से आज फरीदाबाद जिले में कोरोना संक्रमण रोकने के लिए एक सेनेटाइजेशन वाहन शुरू किया गया है। जिसके माध्यम से जिला, शहर, सेक्टर, कालोनी और बस्तियों में स्प्रे द्वारा हर घर को सेनेटाइज किया जाएगा। जिला उपायुक्त यशपाल यादव ने इस वाहन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया है। श्री यशपाल ने सेवा भारती के इस महाअभियान की मुक्त कंठ से प्रशंसा करते हुए अन्य संगठनो से भी ऐसे सेवाकार्य करने के लिए आह्वान किया।           

इस अवसर पर कोरोना उन्मूलन अभियान के प्रांत समन्वयक श्रीमान गंगाशंकर मिश्र जी ने बताया कि कोरोना काल में सेवा भारती द्वारा संक्रमण रोकने हेतु मास्क, सैनेटाइजर, महासुदर्शन घनवटी औषधी और आक्सीजन कन्सनट्रेटर वितरण, आक्सीजन सेवा केंद्र, होम आइसोलेशन केंद्र जैसी आवश्यक गतिविधियां संचालित की गई। इस अवसर पर  भारत विकास परिषद से राजकुमार अग्रवाल, सेवा भारती के विभाग प्रमुख विजय गुप्ता जी, रामकुमार जी (जिला सचिव, सेवा भारती), राजेश महेश्वरी, गोविन्द अग्रवाल नीरज जी, संजय त्यागी जी, दिनेश जी, अजय त्यागी जी, भावेश जी आदि कार्यकर्ता बंधु उपस्थित रहे।                        

 सेनेटाइजेशन वाहन जिले में प्रतिदिन सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक निर्धारित किए गए क्षेत्र में सेनेटाइज का कार्य करेगा। प्रथम दिन सेक्टर 7, 8, 9 और 10 में  सेनेटाइजेशन का कार्य किया गया। सोमवार को सेक्टर-11,12, 13, 14 और 15 में सेनेटाइजेशन वाहन घर-घर संपर्क कर स्प्रे के माध्यम से सेनेटाइजेशन का कार्य करेगा। इस वाहन के साथ रामकुमार जी (जिला सचिव, सेवा भारती), जी एल बंसल जी (जिला अध्य्क्ष, सेवा भारती), रविकांत जी, सुनील भारद्वाज (सेवा प्रमुख), उमेश सरवाल, सुरेश जी, सुरेन्द्र बंसल आदि कार्यकर्ता बंधु क्रमवार एवं निरंतर रहकर सेवा करेंगे।       

अम्बाला छावनी में लाईट परियोजना के तहत हर लाईट की जानकारी के लिए कंट्रोल रूम बनाया जायेगा

 

चंडीगढ़, 13 जून-  हरियाणा के शहरी स्थानीय निकाय मंत्री अनिल विज के विशेष प्रयासों से अम्बाला छावनी में लाईट परियोजना के तहत हर लाईट की जानकारी के लिए नगर परिषद के कार्यालय में कंट्रोल रूम बनाया जायेगा, जो पूरी व्यवस्था पर स्मार्ट तरीके से नजर रखेगा। छावनी क्षेत्र में करीब 18 करोड़ रूपये की लागत से 12 हजार लाईंटें लगाने का बुनियादी खाका तैयार कर लिया गया है और इस कार्य के लिए करीब 4000 पोल भी स्थापित किए जायेंगे।

विज के कार्यकलापों के तहत अम्बाला छावनी क्षेत्र में स्ट्रीट व बड़ी लाइटें लगाकर छावनी की सुंदरता बढ़ाने का काम किया जा रहा है। छावनी के किसी भी कौने में अंधेरा नहीं रहने दिया जायेगा। गृह, शहरी स्थानीय निकाय एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के विशेष प्रयासों से अम्बाला छावनी विधानसभा क्षेत्र में स्वीकृत परियोजनाओं पर तेजी से कार्य किया जा रहा है। इन कार्यों के पूरा होने के बाद छावनी विधानसभा क्षेत्र की सुंदरता बढ़ेगी।

 गृह, शहरी स्थानीय निकाय एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के प्रयासों से छावनी विधानसभा क्षेत्र के लोगों को मिनी सचिवालय की सौगात मिली है। एक ही छत के नीचे विभिन्न विभागों के कार्यालय होने से लोगों को अपने कामों के लिए कहीं और नहीं जाना होगा। लघु सचिवालय बनने से लोगों को सभी सुविधाओं का लाभ एक ही जगह मिल जाएगा। करोड़ों रुपये की लागत से मिनी सचिवालय का कार्य तेजी से जारी है।

गृहमंत्री के प्रयासों से ही खिलाडिय़ों को बेहतर सुविधा मिल सके, इसके दृष्टिगत उत्तर भारत का फीफा से अप्रूवड अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का बेहतरीन फुटबाल स्टेडियम का कार्य भी तेजी से किया जा रहा है। यहां पर ऑल वैदर स्वीमिंग पूल का कार्य भी तेजी से हो रहा है। इतना ही नहीं खिलाडिय़ों के ठहरने के लिये वार हीरोज मैमोरियल स्टेडियम के सामने स्पोर्टस होस्टल का निर्माण कार्य पूरा कर लिया गया है।

विकास की दृष्टि से एवं स्वतंत्रता सेनानियों के सम्मान में अम्बाला-दिल्ली मार्ग पर करोड़ों रुपये की लागत से शहीदी स्मारक का निर्माण कार्य भी किया जा रहा है। इसके साथ-साथ यहीं पर करोड़ों रुपये की लागत से विज्ञान केन्द्र का निर्माण कार्य भी किया जा रहा है। चिकित्सा के क्षेत्र में पहले ही अम्बाला छावनी का नागरिक अस्पताल जनता को समर्पित किया जा चुका है। कैंसर केयर सेंटर का निर्माण कार्य यहां पर तेजी से किया जा रहा है तथा चिकित्सकों के लिये 96 फ्लैट भी यहां पर बनाये जा रहे हैं। सौंदर्यकरण के तहत सुभाष पार्क का जीर्णोद्धार किया गया है।

छावनी विधानसभा क्षेत्र में लोग अपने सामाजिक व अन्य कार्यक्रम वह कर सकें, इसके लिये गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने पूरे विधानसभा क्षेत्र में 100 से अधिक धर्मशालाओं का निर्माण करवाया है और इन धर्मशालाओं में सभी बेहतरीन सुविधाएं उपलब्ध करवाई गई हैं। 

 गौरतलब है कि अम्बाला छावनी क्षेत्र में मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाने का सिलसिला निरन्तर जारी है। लोगों को स्वच्छ पेयजल व्यवस्था, निर्बाध रूप से बिजली सप्लाई, सडक़ तंत्र को मजबूत करना, स्वास्थ्य सेवाएं, सफाई व्यवस्था आदि ऐसे विषय हैं जो गृह मंत्री अनिल विज के मुख्य एजेन्डे में हैं। इन पर पहले से जारी निर्देशों की अनुपालना में कार्य किया जा रहा है ।

लोगों की समस्या सुनते ही विधायक ने घुमाया फ़ोन, हल की समस्या 

 

फरीदाबाद, 13 जून। ओमैक्स स्पा विलेज के निवासियों ने आज विधायक राजेश नागर से मुलाकात कर अपनी समस्याएं बताईं। जिन्हें सुनने के बाद विधायक ने मौके पर ही बिल्डर को फोन कर लोगों की समस्याओं को दूर करने के लिए कहा।

आज ओमैक्स स्पा के निवासी विधायक के आवास पर पहुंचे। उन्होंने बताया कि बिल्डर ने एक लाइसेंस पर दो सोसाइटी बनाकर उन्हें गुमराह किया है ऊपर से उन्हें सामान्य सुविधाएं भी नहीं दी जा रही है। बिल्डर दोनों सोसाइटी के कार्य को पूरा किए बिना जनवरी 21 में हैंडओवर किए बिना भाग गया जिसका खामियाजा निवासी उठा रहे हैं। उन लोगों को मूल भूत सुविधाओं बिजली, पानी, सीवर आदि के लिए परेशान होना पड़ रहा है। निवासियों ने विधायक को बताया कि वह इन समस्याओं को लेकर तीन महीने में चार बार बिल्डर से मिल चुके हैं लेकिन उनका काम नहीं हो रहा है।

निवासियों ने विधायक राजेश नागर से मांग की कि वह बिल्डर के खिलाफ सख्त कार्रवाई करवाएं। उन्होंने कहा कि जनसुविधाओं के अभाव में उनका दैनिक जीवन परेशानियों से भर गया है।

जिस पर विधायक राजेश नागर ने मौके पर ही बिल्डर को फोन कर स्थानीय निवासियों की समस्याओं का जल्द से जल्द निस्तारण करने के लिए कहा। नागर ने बिल्डर से कहा कि वह अपने निवासियों को परेशानी में नहीं देख सकेंगे। यदि सख्त कार्रवाई से बचना है तो अपने वादों को जल्द से जल्द पूरा करें। विधायक ने कहा कि वह किसी को परेशानी नहीं होने देंगे। जल्द ही उनकी समस्याओं का समाधान होगा।

इस अवसर पर ओमैक्स स्पा विलेज आरडब्ल्यूए के प्रधान नरेश पाठक, उपाध्यक्ष तारकेश्वर पांडे, सचिव ओमेश वशिष्ठ, संयुक्त सचिव संजय कुमार, कोषाध्यक्ष प्रियंका मदान, मनोज देशवाल, आरडी शर्मा, तरनजीत सिंह, कुसुम नैनवाल, रीना आनंद, प्रभात मिश्रा, अश्वनी कम्बोज, सुहैल अहमद, शरद शर्मा, विपिन भाटिया, सुषमा मिश्रा, सौरभ अरोड़ा, वंदना वशिष्ठ, सीपी पाठक, सौरभ गुप्ता, जगदीश नैनवाल, तरुण कुमार, प्रेरणा कुमार, संजय, बलविन्द्र सिंह, वर्तिका, आरके गुप्ता, राजेंद्र कालरा, मीरा मिश्रा, बीनू विद्याधरण, संजय कुमार, एसके दास, शिवांशु मिश्रा, बिरेंद्र सकलानी, आदिस लबरू, नलिन झा आदि मौजूद थे।

कोरोना आपदा के वक्त सिख समुदाय ने बेहतरीन सेवा व समर्पण का परिचय दिया: यशपाल

 

फरीदाबाद, 13 जून - उपायुक्त  यशपाल ने कहा है कि कोरोना आपदा काल में फरीदाबाद के सिख समुदाय एवं सामाजिक संगठनों ने जिस प्रकार सेवा व समर्पण का परिचय दिया है, वह सराहनीय है।

 यहां गुरुद्वारा श्री गुरु दरबार साहिब में पंजाबी सेवादल फरीदाबाद (रजि) द्वारा आयोजित रक्तदान शिविर के अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में अपने विचार व्यक्त करते हुए उपायुक्त यशपाल ने कहा कि सेवाभाव से जो लोग रक्तदान हेतु एकत्रित हुए हैं, वह सराहनीय है।  

 पंजाबी सेवादल के चेयरमैन व सरब गुरुद्वारा कमेटी के महासचिव रविंद्र सिंह राणा ने सभी आगंतुकों का स्वागत करते हुए कहा कि सिख समुदाय सेवा के लिए सदैव आगे रहा है। आपने कहा कि बात रक्त की हो या ऑक्सीजन की लंगर की हो या प्रकृति सेवा की, सिख वर्ग ने गुरु नानक देव जी महाराज की शिक्षा के अनुरूप समाज को अपना योगदान दिया। आपने इस कार्य के लिए फरीदाबाद के सभी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटियों का आभार भी व्यक्त किया।

कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि फरीदाबाद बार एसोसिएशन के पूर्व प्रधान संजीव चौधरी ने रक्तदाताओं को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि रक्तदान से बड़ा कोई दान नहीं है, इसके लिए सभी रक्तदाता बधाई के पात्र हैं।

पंजाबी सेवा दल के महासचिव एडवोकेट नरेंद्र सिंह कंग ने आगंतुकों का स्वागत करते हुए कहा कि रक्तदान शिविर की सफलता का वास्तविक श्रेय रक्तदाताओं एवं पंजाबी सेवा दल की टीम को जाता है, जो सेवा के एक आह्वान पर एकजुट होकर खड़े हुए।

रक्तदान शिविर में 153 यूनिट रक्त एकत्रित किया गया। पंजाबी सेवा दल द्वारा रोटरी ब्लड बैंक की टीम विशेषकर वाइस चेयरमैन श्री दीपक प्रसाद, बादशाह खान अस्पताल की टीम व रक्तदाताओं का भी आभार व्यक्त किया गया, जिन की सक्रियता के चलते रिकॉर्ड रक्त एकत्रित हो सका।

इस अवसर पर सरदारनी राणा भट्टी, पंजाबी सेवा दल के प्रधान सरबजीत सिंह, फरीदाबाद बार एसोसिएशन के प्रधान बाबी रावत सहित गुरमीत सिंह, गुरविंदर सिंह, नवजीत सिंह, अमरजीत सिंह, बग्गा जी, सर्वजीत सिंह, जसविंदर सिंह, जोगिंदर सिंह, गुरमीत सिंह, कुलवंत सिंह, इंदर सिंह, आत्मा सिंह, बलजीत सिंह, सतपाल सिंह, राजू सोडी, अमरजीत वालिया, जगमोहन सिंह, मनजीत सिंह, हरीश गुलाटी, बलजीत सिंह, सुरेंद्र सिंह, चरणजीत सिंह, रविंद्र सिंह, ज्योति सिंह, बब्बू, दीपू, जसपाल सिंह पिंटू, मोहन सिंह भाटिया, राधेश्याम भाटिया, हरजीत सिंह, हरबंस सिंह काला, बरकत सिंह, इंदरजीत राजा, गुरप्रीत गोल्डी, हरबंस सेठी, हरेंद्र माटा, मनप्रीत सिंह, फकीर सिंह, तेजेंद्र सिंह, प्रितपाल सिंह, गुरचरण सिंह, मनजीत सिंह, चरणजीत सिंह चन्नी, जसविंदर सिंह, मक्खन सिंह, विजय बब्बर, रणजीत सिंह, जसविंदर सिंह, गुरविंदर सिंह, विकास मेहरा, सचिन ग्रोवर, सन्नी, जसविंदर सिंह, अमरीक सिंह, जालोर सिंह, काला सिंह सलूजा, विजय मेहरा, डीपी सिंह, हरभजन सिंह, प्रवीण कुमार, चरणदीप सिंह, दलजीत सिंह, हरमीत सिंह, भूपेंद्र सिंह, गुरमीत सिंह, हरप्रीत सिंह, रिंकू, दलजीत सिंह, रंजीत सिंह राणा सहित विभिन्न गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी से जुड़े लोगों की उपस्थिति विशेष रूप से उ

मुख्यमंत्री ने हरियाणा वाटर रिसोर्स अथॉरिटी की पहली बैठक की

 चंडीगढ़, 13 जून- हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि  किसानों को भू-जल, नदियों का पानी तथा शोधित जल की सुचारू उपलब्धता के लिए आगामी 2 वर्षों हेतु प्रदेश में केन्द्रीयकृत पानी निगरानी प्रणाली तैयार की जाए, जिसमें जिलों, ब्लॉक तथा गांवों को शामिल किया जाए। इसके लिए उन्होंने अधिकारियों को शीघ्र ही यह योजना तैयार करने के निर्देश दिए हैं।

मुख्यमंत्री ने आज हरियाणा वाटर रिसोर्स अथॉरिटी की पहली बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि राज्य में गिरते भू-जल स्तर के उत्थान के लिए वाटर रिचार्ज व उपयोग संबंधी एक समायोजित योजना की आवश्यकता है ताकि लोगों को खेती तथा घरेलू उपयोग के लिए उचित मात्रा में पानी उपलब्ध हो सके। इसे लोगों तथा जनप्रतिनिधियों की भागीदारी से गांव स्तर तक बढ़ाया जाए ताकि भावी पीढ़ी को लम्बे समय तक पानी की उपलब्ध में दिक्कत न उठानी पड़े।

उन्होंने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि राज्य के विभिन्न क्षेत्रों के आधार पर योजना बनाई जाएं और प्रत्येक गांव का जल उपलब्धता सूचकांक तैयार करें, जिससे लोगों को उनके जलीय भविष्य की जानकारी मिल सके।
मुख्यमंत्री ने कहा कि इसके साथ ही गत 5 दशकों में राज्य के कुरुक्षेत्र, करनाल, कैथल तथा पानीपत सहित कुछ जिलों में भू-जल का स्तर 80 फुट तक नीचे चला गया है, जोकि गंभीर समस्या है। जहां भू-जल का स्तर नीचे जा रहा है, वहीं किसानों की भू-जल पर निर्भरता और दोहन लगातार बढा है। इसके साथ ही पानी के तर्कसंगत उपयोग और अभाव वाले क्षेत्रों में पानी पहुंचाने के लिए वैज्ञानिक तरीकों को अपनाना होगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि गत सरकारों द्वारा कृषि के उपयोग के लिए पानी की उपलब्धता बढ़ाने पर कोई विशेष ध्यान नहीं दिया और लोगों की भू-जल पर निर्भरता बढ़ती गई । इससे ट्यूबवैल इत्यादि लगाने पर होने वाले खर्च से किसानों की माली हालत और कृषि अर्थव्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हुई है। इसलिए किसानों को चाहिए कि जिन क्षेत्रों में भू-जल नीचे चला गया है, उनमें सुक्ष्म सिंचाई व्यवस्था को प्राथमिकता दें।  उन्होंनेे कहा कि उद्योगों को शोधित जल उपलब्ध करवाने के लिए जन-स्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग समुचित पाइपलाइन बिछाने का कार्य करे और उचित देखरेख करे।  
हरियाणा वाटर रिसोर्स अथोरिटी की चेयरपर्सन केशनी आनन्द अरोड़ा ने बैठक के दौरान इस संबंध में विस्तृत जानकारी दी और सभी नवनियुक्त सदस्यों का परिचय करवाया। उन्होंने कहा कि राज्य में सभी को आवश्यकतानुसार पानी की उपलब्धता के लिए समायोजित पानी योजना तैयार की जाएगी। इसमें विभिन्न हिस्सों में भू-जल स्तर का वर्गीकरण, क्षेत्रों के आधार पर अध्ययन किया जाएगा। ऑथोरिटी भारत सरकार तथा राज्य सरकार की जल संबंधी योजना का अनुकरण करके लोगों को जागरूक करने का कार्य करेगी। इसके साथ ही उन्होंने कार्यालय की स्थापना, बजट की जानकारी तथा अन्य जानकारी साझा की।
 सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव देवेन्द्र सिंह ने कहा कि हरियाणा के 22 जिलों में से 14 जिलों में भू-जल दोहन से उत्पन्न समस्या ने विकराल रूप ले लिया है, इसके साथ ही 7 जिलों में जल भराव तथा जलीय लवणता की समस्या है। उन्होंने कहा कि भू-जल दोहने के कारण वर्ष 2004 में राज्य के 114 ब्लॉक में से 55 ब्लॉक रेड केटेगिरी में आ चुके थे, जोकि करीब 48 फीसदी थे। परन्तु 2020 में 141 ब्लॉक में से 85 ब्लॉक लाल श्रेणी में पहुंच गए हैं, जोकि 60 प्रतिशत है। इसलिए किसानों को चाहिए कि वे भू-जल की निर्भरता कम करें और फसल की विविधता को प्राथमिकता दें।
मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव डी एस ढेसी ने कहा कि हरियाणा सरकार द्वारा शुरू की गई जलीय उपयोग के लिए ‘मेरा पानी मेरी विरासत’ योजना की न केवल देश में बल्कि विश्व बैंक द्वारा भी सराहना की गई है। देश में शुरू की गई इस प्रकार की यह पहली योजना है, जोकि दूरदर्शिता का परिचायक है। उन्होंने कहा कि नहरी पानी के उपयोग एवं वितरण की जानकारी के अभाव में लोगों की निर्भरता ट्यूबवैल पर बढ जाती है, इसके एक समायोजित योजना तैयार करने की आवश्यकता है। इसके साथ ही बड़े शहरों में द्वि-जलीय पाईप लाईन का विस्तार किया जाए।
मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव वी उमांशकर ने कहा कि पानी की समस्या को हल करने के लिए स्थानीय स्तर पर ध्यान दिया जाना चाहिए। इसके साथ ही जिन क्षेत्रों में पानी में लवणता अधिक है, वहां माईक्रो शोधन प्लांट लगाए जाएं और लवणता में कमी लाकर पानी का उपयोग किया जाए। इस अवसर पर हरियाणा वाटर रिसोर्स अथोरिटी के सदस्य श्री डी पी बेनीवाल, श्री मुख्तयार सिंह लाम्बा तथा मिकाडा के प्रशासक पंकज कुमार, मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ सतबीर सिंह कादियान सहित अनेक वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

महिलाओं एवं बच्चों के लिए विभिन्न योजनाओं को क्रियान्वित कर रहा है महिला एवं बाल विकास विभाग : अनीता शर्मा

 

फरीदाबाद,13 जून। महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा जिला में उपायुक्त यशपाल के कुशल मार्ग दर्शन में लड़कियों और महिलाओं के के लिए अलग अलग स्कीमों और योजनाओं का क्रियान्वयन किया जा रहा है।

महिला एवं बाल विकास विभाग की जिला कार्यक्रम अधिकारी/सीडीपीओ अनिता शर्मा ने बताया कि बे सहारा महिलाओं के रहने के लिए वन स्टाप सेंटर की व्यवस्था की गई है। वन स्टाप सेंटर द्वारा महिलाओं को प्रताड़ना पर पुलिस सहायता, मेडिकल सुविधा, कानूनी सहायता सहित चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवाई जाती है। उन्होंने बताया कि स्थानीय नागरिक हस्पताल/ बादशाह खान अस्पताल में सरकार द्वारा जारी हिदायतों के अनुसार वन स्टाप सेंटर कार्य कर रहा है। महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा बेटियों को शिक्षित करने के लिए मां बाप को प्रेरित किया जा रहा है।

ई लाभार्थी किसी समय गलत तथ्यों के आधार पर आपकी बेटी, हमारी बेटी स्कीम का पंजीकरण करवा लेते है या लाभ प्राप्त कर लेते है, तो धोखाधड़ी की पुष्टि हो जाने पर उसकी सदस्यता रद्द करके सरकार द्वारा जारी हिदायतों के अनुसार उचित कानून कार्रवाई भी अमल में लाई जाती है।

उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि महिलाएं बाल विकास विभाग द्वारा किसी महिला के साथ किसी भी प्रकार की हिंसा हो रही है तो वे तुरंत वन शाप सेंटर के 181 टोल फ्री नंबर पर तुरंत संपर्क करें। महिलाओं को हर संभव सुविधा सरकार द्वारा जारी दिशा निर्देशो के अनुसार तुरंत उपलब्ध करवाई जाएगी।

उन्होंने बताया एक जनवरी 2021 से परिवार पहचान पत्र भी सरकारी की सभी जनकल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए सरकार द्वारा जारी हिदायतों के अनुसार अनिवार्य लागू कर दिया गया है।

महिला एवं बाल विकास विभाग की सूपरवाइजर पूनम ने बताया कि सरकार द्वारा जारी हिदायतो के अनुसार बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत आपकी बेटी हमारी बेटी स्कीम चलाई गई है। इस स्कीम के तहत अनुसूचित जाति और बीपीएल परिवार की पहली बेटी पैदा होने पर तथा दूसरी व तीसरी बेटी पैदा होने पर सभी वर्गो की जातियों के परिवारों की बेटियों को इस स्कीम में शामिल किया गया है।

 उन्होंने बताया कि इस स्कीम के अनुसार सरकार द्वारा आपकी बेटी हमारी बेटी योजना के तहत बालिका के नाम बालिका के जन्म पर ₹21 हजार रुपये की धनराशि की एकमुश्त किस्त एलआईसी में बीमा पॉलिसी के लिए जमा करवाई जाती है। यह ₹21 हजार रुपये की धनराशि महिला एवं बाल विकास विभाग की तरफ से एलआईसी को जमा करवाई जाती है। यह एलआईसी पॉलिसी बालिका के 1 वर्ष की आयु होने तक करवाई जानी सुनिश्चित है।

उन्होंने आगे बताया कि एलआईसी पॉलिसी के लिए लाभार्थी बालिका के माता-पिता द्वारा जन्म प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र आधार कार्ड सहित अन्य जरूरी कागजात महिला एवं बाल विकास विभाग के कार्यालय में आंगनवाड़ी वर्कर के माध्यम से भिजवाए जाने सुनिश्चित किए जाते हैं। उन्होंने बताया कि अट्ठारह वर्ष की आयु के उपरांत यह एलआईसी बीमा पॉलिसी मैच्योर होने के बाद लाभार्थी बालिका को मिलेगी मिलती है।

सरकार एम्स प्रस्तावित जमीन का अधिग्रहण करे, एम्स निर्माण के प्रति लोगों को आश्वस्त करे : वेदप्रकाश

13 जून 2021 स्वयंसेवी संस्था ग्रामीण भारत के अध्यक्ष एवं हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रदेश प्रवक्ता वेदप्रकाश ने सरकार से मांग कि वह निरीक्षण-निरीक्षण का खेल बंद करके मनेठी-माजरा एम्स के लिए प्रस्तावित जमीन का सबसे पहले अधिग्रहण करके सम्बन्धित किसानों को मुआवजा देकर जमीन का कब्जा लेकर एम्स निर्माण के प्रति लोगों को आश्वस्त करे। विद्रोही ने कहा कि बार-बार जमीन का निरीक्षण करने के नाम पर अधिकारियों के दौरे तब तक बेमानी है जब तक सरकार जमीन का धरातल पर कब्जा नही लेती। जमीन का कब्जा लेने के बाद ही एम्स सम्बन्धित अन्य आवश्यक औपचारिकताएं पूरी हो सकेगी। भाजपा सरकार जमीन का कब्जा लेने की बजाय बार-बार निरीक्षण के नाम पर दक्षिणी हरियाणा को यह एहसास तो जताना चाहती है कि सरकार एम्स निर्माण के प्रति गंभीर है, पर एम्स निर्माण के लिए जमीन अधिग्रहित करने के सबसे आवश्यक व मूल कार्य में अनावश्यक देरी कर रही है।

विद्रोही ने कहा कि 28 फरवरी 2019 को केन्द्रीय मंत्रीमंडल 1299 करोड रूपये के बजट के साथ मनेठी एम्स निर्माण को मंजूरी दे चुका है, पर विगत ढाई सालों से एम्स के लिए प्रस्तावित जमीन के अधिग्रहण के अभाव में एम्स निर्माण के प्रति एक भी कदम नही उठाया जा सका। महत्वपूर्ण सवाल यह है कि जब माजरा के किसानों से एम्स के लिए प्रस्तावित जमीन के संदर्भ में सरकार का समझौता हो चुका है, कोई विवाद नही बचा, तब जमीन अधिग्रहण में अनावश्यक देरी क्यों? विद्रोही ने कहा कि जब कोरोना काल में प्रदेश में एक दिन भी जमीन रजिस्ट्रिया होने की प्रक्रिया नही रूकी तो एम्स की जमीन लेने में कोरोना कहां आड़े आ रहा है? कोरोना को बहाना बनाकर माजरा के किसानों को मुआवजा देकर जमीन अधिग्रहित न करना किसी भी तरह तर्कसंगत व जायज नही है। जमीन का कब्जा लेने में देरी करने से उल्टा भाजपा सरकार की नीयत पर सवाल उठता है। विद्रोही ने मुख्यमंत्री से मांग की कि एक पल की देरी किये बिना माजरा के किसानों से एम्स के लिए जमीन अधिग्रहित करके एम्स निर्माण की अन्य कानूनी औपचारिकताओं को पूरा किया जाये।

यमुना एक्सप्रेस वे पर खड़े ट्रक में जा घुसी कार, महिला समेत 3 लोगों की मौत, 2 घायल

नई दिल्ली-  यमुना एक्सप्रेस वे पर तेज रफ़्तार का कहर आये दिन वाहन चालकों पर भारी पड़ता है। ज़रा सी असावधानी जान ले लेती है। अब जानकारी मिल रही है कि ग्रेटर नोयडा के पास यमुना एक्सप्रेस जीरो पॉइंट से 2 किलोमीटर पर खड़े ट्रक में पीछे से तेज रफ़्तार का जा घुसी और इस हादसे में महिला समेत 3 लोगों की मौत हो गई जबकि  2 लोग घायल हुए हैं। बताया जा रहा है कि कार सवार  औरैया से दिल्ली आ रहे थे। 

स्थानीय पुलिस का कहना है कि थाना बीटा-2 क्षेत्र के अन्तर्गत ताज हाइवे पर औरैया से दिल्ली जा रही ओला कार खराब खड़े ट्रक में पीछे से टक्करा गई, जिसमें 03 लोगों की मौके पर ही मृत्यु हो गयी है तथा 02 घायल है उन्हें हॉस्पिटल में एडमिट करा दिया गया है। आवश्यक कार्यवाही की जा रही है। 


पुलिसकर्मियों की कड़ी मशक्कत और जनता के सहयोग से लगा कोरोना की दूसरी लहर पर लगाम- CP ओपी सिंह 

 

फरीदाबाद:- पुलिस कमिश्नर  ओपी सिंह ने कोरोना महामारी की दूसरी लहर को कंट्रोल करने में नागरिकों के सहयोग के लिए धन्यवाद करते हुए कहा कि पुलिसकर्मियों की कड़ी मशक्कत और जनता के सहयोग से ही कोविड की दूसरी लहर पर लगाम कसने में फरीदाबाद पुलिस प्रशासन सफल हो पाया है। उन्होंने कहा कि महामारी के संक्रमण में कमी आ रही है परंतु जब तक यह पूरी तरह से कंट्रोल में नहीं आ जाती तब तक नागरिक ढील ना बरतें और उचित सावधानियों का उपयोग अवश्य करें।

इसके बारे में पुलिस आयुक्त ने वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से भी समाज में अच्छा प्रभाव रखने वाले लोगों के साथ रूबरू होकर उन्हें प्रशासन द्वारा दिए गए दिशा निर्देशों का स्वयं पालन करने के लिए उनका धन्यवाद किया तथा साथ ही इस महामारी को रोकने संबंधित सुझाव भी दिए। इस महामारी को रोकने के लिए पुलिस अपनी तरफ से कोई भी कसर नहीं छोड़ रही है। अधिक से अधिक लोगों को इसके बारे में जागरूक किया जा रहा है और नियमों की अवमानना करने वाले लोगों के चालान भी काटे जा रहे हैं।

पुलिस ने लॉकडाउन तोड़ने के जुर्म में एवं नियमों की अवहेलना करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए अभी तक 464 मामले दर्ज कर 594 दोषियों को गिरफ्तार किया है जिसमे दवाओं की कालाबाजारी करने वाले 10 तथा ऑक्सीजन सिलिंडर की कालाबाजारी करने वाले 4 आरोपी शामिल है| पुलिस द्वारा अभी तक 103410 मास्क वितरित किये गए हैं तथा 67223 लोगों की कांटेक्ट ट्रेसिंग की गई है वहीँ 37561 लोगों द्वारा मास्क न पहनने पर उनका मास्क का चालान काटकर 1.88 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया गया है|

कोविड ड्यूटी में तैनात 367 पुलिसकर्मी अभी तक कोरोना पॉजिटिव हुए हैं जिनमे से 338 पुलिसकर्मी कोरोना को मात देकर वापिस अपनी ड्यूटी पर उपस्थित हो चुके हैं। ओपी सिंह ने कहा कि कोरोना नियमों में लापरवाही बरतने से संक्रमण का खतरा फिर से बढ़ सकता है इसलिए नागरिक कोरोना संबंधित उचित सावधानियां बरतें और अपने व अपने परिवार को इस महामारी से बचाने में पुलिस प्रशासन का सहयोग करें।

एम्बुलेंस पर GST 28 % से 12 प्रतिशत, जानें क्या बोले दुष्यंत चौटाला 

चंडीगढ़ - हरियाणा के उपमुख्यमंत्री  दुष्यंत चौटाला ने बताया कि केंद्र सरकार ने एम्बुलेंस पर पहले से लगे 28 प्रतिशत टैक्स को कम करके 12 प्रतिशत कर दिया गया है, इसकी उन्होंने जीएसटी काऊंसिल से मांग की थी।

डिप्टी सीएम, जिनके पास आबकारी एवं कराधान विभाग का प्रभार भी है, ने  यह जानकारी वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से केंद्रीय वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीता रमण की अध्यक्षता में आयोजित जीएसटी काऊंसिल की बैठक में हिस्सा लेने के बाद दी।

उपमुख्यमंत्री ने बताया कि कोविड से सम्बंधित वस्तुओं पर जीएसटी निर्धारित करने के लिए बनाई गई ‘ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स’ की छह सदस्यीय कमेटी के सभी सुझाव को जीएसटी काउंसलि ने स्वीकार किया है। हरियाणा की ओर से दो सुझाव दिए गए थे, जिनमें कोविड वस्तुओं पर जीएसटी रेट की छूट की समय-सीमा बढ़ाने व विद्युत शवदाहगृह पर मौजूदा टैक्स को कम करने के संबंध में थे।

उन्होंने यह भी बताया कि प्रदेश की ओर से रखे गए सुझाव के तहत जीएसटी पर छूट की सीमा 31 अगस्त से बढ़ाकर  30 सितंबर तक कर दिया गया। साथ ही प्रदेश के सुझाव पर विद्युत शवदागृह पर मौजूदा टैक्स को कम करते हुए उसे 5 प्रतिशत कर दिया है। उन्होंने कहा कि एंबुलेंस मौजूदा समय में स्वास्थ्य सुविधाओं का प्रमुख हिस्सा है, इसी को ध्यान में रखते हुए जीएसटी काऊंसिल ने एम्बुलेंस पर जो पहले 28 प्रतिशत टैक्स लगता था उसे कम करते हुए 12 प्रतिशत कर दिया गया है। इसी प्रकार तापमान मापक यंत्र पर भी टैक्स घटाकर 5 प्रतिशत कर दिया गया है।

श्री दुष्यंत चैटाला ने कहा कि पूरे देश में एक समान टैक्स प्रणाली से कोविड से सम्बंधित वस्तुओं पर टैक्स कम किए जाने से महामारी से निपटने में मदद मिलेगी।