Faridabad Assembly

Palwal Assembly

Faridabad Info

Search This Blog

Recent PostAll the recent news you need to know

फरीदाबाद पुलिस की ट्रैफिक एडवाइजरी, ध्यान दें जिले के लोग 

 

Faridabad- बल्लभगढ़ , बाटा , नीलम आजरौंदा ओल्ड, बड़खल होते हुए बदरपुर बॉर्डर जाने वाला ट्रैफिक , मेवला महाराजपुर फ्लाईओवर पर ना चढ़कर सर्विस रोड से जाएगा ,,,

क्योंकि मेवला महाराजपुर फ्लाईओवर का वन साइड नीलम से बदरपुर की तरफ जाने वाला वन साइड L&T द्वारा लोड टेस्टिंग की वजह से आज रात दिनांक 26 फरवरी  10:00 बजे से कल शाम 4:00 बजे तक बंद रहेगा।

बदरपुर बॉर्डर से बल्लभगढ़ की तरफ जाने वाला ट्रैफिक मेवला महाराजपुर फ्लाईओवर के ऊपर से रोजमर्रा की तरह चलता रहेगा।

सेक्टर 30-31 की तरफ से आने वाला  ट्रैफिक बड़खल चौक से यू टर्न लेकर बदरपुर दिल्ली की तरफ मेवला महाराजपुर सर्विस रोड़ से एनएचपीसी चौक होते हुए अपनी मंजिल तक जाएगा।

 बड़खल चौक की तरफ से आने वाला ट्रैफिक जो सेक्टर 30, 31 एवं पुलिस लाईन की तरफ जायेगा वह ट्रफिक मेवला महाराजपुर फ्लाईओवर के नीचे से   यू टर्न ना लेकर एनटीपीसी चौक फ्लाईओवर के नीचे से यू टर्न का इस्तेमाल कर अपने मंजिल तक जाएगा।

 27 फरवरी रात 10 बजे   से ओल्ड, नीलम, बाटा चौक की तरफ से वाईएमसीए फ्लाईओवर होते हुए पलवल जाने वाला ट्रैफिक वाईएमसीए फ्लाईओवर के ऊपर न चढ़कर सर्विस रोड से जाएगा क्योंकि वाईएमसीए फ्लाईओवर कि बदरपुर से पलवल जाने वाली लाइन को L&T कंपनी द्वारा की जा रही लोड टेस्टिंग की वजह से कल दिनांक 27 फरवरी रात्रि 10:00 बजे से  दिनांक 28 फरवरी शाम 4:00 बजे तक बंद रहेगा

पलवल से बदरपुर की तरफ जाने वाला ट्रैफिक वाईएमसीए फ्लाईओवर के ऊपर से रोजमर्रा की तरह चलता रहेगा।

सेक्टर 7/8 की तरफ से आने वाला ट्रैफिक वाईएमसीए फ्लाईओवर के नीचे से राइट लेते हुए बदरपुर ना जाकर वाईएमसीए फ्लाई ओवर की रेड लाइट/चौक से लेफ्ट मुड़कर गुड ईयर चौक से यू टर्न लेकर सर्विस रोड से वाईएमसीए फ्लाईओवर की रेड लाइट क्रॉस करते हुए बाटा फ्लाईओवर होते हुए अपनी मंजिल तक जाएगा।

जो ट्रैफिक पलवल की तरफ से आएगा और जिसे सेक्टर 7/8 की तरफ जाना होगा वह वाईएमसीए फ्लाईओवर की बजाए  बाटापुल से यू टर्न लेकर अपनी मंजिल तक पहुंचेगा।

कृपया सभी वाहन चालक ध्यान दें और अपनी मंजिल तक पहुंचने के लिए एडवाइजरी के मुताबिक अपना अल्टरनेटिंग अपना मार्ग चुने और फरीदाबाद ट्रैफिक पुलिस का सहयोग करें.

शारदा राठौर की कविताओं में छुपी है बड़ी बात, जाने क्यू दिखा रहीं हैं सरकार को आइना 

 

फरीदाबाद - हरियाणा का इतिहास रहा है कि बड़े -बड़े मंत्री दुबारा चुनाव नहीं जीत पाते हैं। बहुत काम मंत्री ही दुबारा विधायक बन पाते हैं यहाँ तक कि कइयों की तो दुबारा जमानत भी जब्त हो जाती है। यही कारण है प्रदेश के किसी विधानसभा क्षेत्र का विधायक जब मंत्री बनता है तो उसका विपक्षी बहुत खुश होता है और लगता है अगली बार चांस आराम से मिल जाएगा क्यू कि सामने मंत्री जी  हैं और मंत्री जी दुबारा चुनाव जीतते हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में हरियाणा के धाकड़ मंत्री कैप्टन अभिमन्यु और राम बिलास शर्मा कई नेता विधायक भी नहीं बन सके। इसके पहले कई अन्य सरकारों में भी ऐसा ही देखा गया है। हुड्डा सरकार में प्रदेश के बड़े मंत्री रहे रणदीप सिंह सुरजेवाला जींद उप चुनाव में तीसरे स्थान पर खिसक गए। 

फरीदाबाद की बात करें तो पिछले चुनावों में बल्लबगढ़ विधानसभा सीट पर कमजोर विपक्ष के कारण मूलचंद शर्मा की बड़ी जीत हुई और मंत्री बन गए। वहाँ से कांग्रेस के आनंद कौशिक जो की फरीदाबाद तैयारी कर रहे थे और उन्हें बल्लबगढ़ से टिकट मिल गई और खास प्रदर्शन नहीं कर सके। पार्षद दीपक चौधरी आजाद मैदान में उतरे और 19 हजार के आस पास वोट लेकर बल्लबगढ़ में अपनी पकड़ मजबूत की और अब वो क्षेत्र के तीसरे नंबर के नेता माने जाते हैं। विधानसभा चुनावों के ठीक पहले वहाँ की मुख्य विपक्षी नेता कही जाने वाले शारदा राठौर को भाजपा की 75 पार की आंधी अपने पाले में बहा दे गई। प्रदेश के कई दिग्गज नेता 75 पार की हवा में बह भाजपा के पाले में चले गए और यही वजह है कि प्रदेश में दुबारा भाजपा सरकार बनी। पूर्ण बहुमत तो नहीं मिला लेकिन दुष्यंत ने भाजपा की नाव पार लगा दी। 

अब कई हफ़्तों से शारदा राठौर अलग रूप में दिख रही हैं। बल्लबगढ़ की दो बार की विधायक रह चुकीं कुमारी राठौर मुख्य संसदीय सचिव भी रह चुकी हैं और किसान आंदोलन के शुरुआत से ही उन्होंने कविता लिखना शुरू किया और किसानों का साथ देती दिख रहीं हैं। सरकार को घेर रहीं हैं। व्यंग भी उनकी कविताओं में होता है। लगता है वो फिर घर वापसी कर सकती हैं और बल्लबगढ़ से फिर चुनाव लड़ सकती हैं। उन्हें भी शायद लग रहा है कि सामने मंत्री जी होंगे और उनकी राह अपने आप आसान हो जाएगी जैसे कि प्रदेश का इतिहास रहा है। 

हरियाणा में मंत्री चुनाव हार जाते पिछले चुनाव के कुछ आंकड़े 

कैबिनेट मंत्री कविता जैन तीसरी बार विधानसभा में पहुंचने को लेकर आश्वस्त थीं, लेकिल सुरेंद्र पंवार की रणनीति ने उनका हैट्रिक लगाने का सपना तोड़ दिया। जनता की नाराजगी कविता जैन पर भारी पड़ गई और 32878 मतों की जीत के साथ कांग्रेस के सुरेंद्र पंवार के सिर पर जीत का सेहरा बंध गया। इस तरह प्रदेश सरकार में अकेली महिला मंत्री रही कविता जैन जीत की हैट्रिक बनाने से चूक गईं, जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी सुरेंद्र पंवार पहली बार विधायक बने। कविता जैन ने 10 साल पहले इस सीट को कांग्रेस से छीना था तो अब कांग्रेस ने फिर से इसे हासिल कर लिया था। 

नारनौंद विधानसभा से कैप्टन अभिमन्यु हार गए। कैप्टन अभिमन्यु जिस नारनौंद को अपना घर बताते पिछले पांच से विकास कार्यों की दुहाई दे रहे थे, उसी हलके के उनके अपने लोगों ने उन्हें न केवल हार का मजा चखाया, बल्कि करारी हार झेलने को मजबूर कर दिया। यह आलम तब , जब कैप्टन के लिए सनी देओल जैसी फिल्मी हस्ती और मुख्यमंत्री से लेकर अनेक केंद्रीय नेताओं ने प्रचार किया।  कैप्टन को इस बार 61406 वोट मिले, जबकि जेजेपी के रामकुमार गौतम को 73435 वोट प्राप्त हुए। इस प्रकार जेजेपी के रामकुमार गौतम 12029 वोटों से जीत गए थे। 

राजस्थान बार्डर पर स्थित महेंद्रगढ़ विधानसभा क्षेत्र में भाजपा प्रत्याशी रामबिलास शर्मा हार गए । रामबिलास, मनोहर सरकार में कैबिनेट मंत्री थे । ऐसे में इनकी हार से भाजपा को बड़ा झटका लगा । राम बिलास का मुकाबला कांग्रेस प्रत्याशी राव दान सिंह से था। दोनों सातवीं बार आमने-सामने थे। दोनों के बीच छह बार हुए मुकाबले में दोनों तीन-तीन बार विधायक रहे। 

कृषि मंत्री ओपी धनखड़ के चुनाव मैदान में उतरने से बादली विधानसभा सीट प्रदेश की हॉट सीटों में एक रही, लेकिन धनखड़ हार गए। धनखड़ के पक्ष में भाजपा सांसद व एक्टर सनी देओल ने प्रचार भी किया था, लेकिन वे जीत नहीं सके।उन्हें कांग्रेस के कुलदीप वत्स से करीब 13 हजार वोटों से शिकस्त दी थी। 

इसराना विधानसभा से भाजपा के दिग्गज मंत्री कृष्ण लाल पंवार 19927 वोट से हार गए । कृष्ण, मनोहर सरकार में परिवहन मंत्री रहे। इन्हें कांग्रेस के बलबीर वाल्मीकि ने हराया, जिन्हें 60825 वोट मिले थे। 

यही नहीं राज्य मंत्री कर्ण देव कांबोज और मनीष ग्रोवर भी चुनाव नहीं जीत सके। शायद यही कारण है कि शारदा राठौर के हौसले बुलंद हैं। आज उन्होंने लिखा है कि

किसान की फसल के एक-एक दाने को न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदा जाएगा- दुष्यंत चौटाला

 चंडीगढ़, 26 फरवरी- हरियाणा के उपमुख्यमंत्री  दुष्यंत चौटाला ने कहा कि प्रदेश सरकार फसल खरीद सीजन को लेकर पूरी तरह तैयार है और पहली बार जौ की फसल को न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर खरीदा जाएगा। राज्य में आगामी सीजन में पहली बार छह फसलों की न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद की जाएगी, जिनमें गेहूं, सरसों, धान व सूरजमुखी के साथ साथ चना व जौ शामिल हैं।

 डिप्टी सीएम, जिनके पास खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग का प्रभार भी है, ने बताया कि मंडियों में किसानों की फसल खरीद के लिए बेहतर व्यवस्था की जाएगी और इस बार 48 घंटे में किसानों के खातों में फसल बिक्री की राशि डाल दी जाएगी। 

उन्होंने कहा कि मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर पंजीकृत प्रत्येक किसान की फसल के एक-एक दाने को न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदा जाएगा, इसलिए किसानों से अपील है कि वे अपनी फसल  का ‘मेरी फसल-मेरा ब्यौरा’ पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन जरूर करवा लें। उन्होंने कहा कि जैसे ही आढ़ती किसानों का जे-फॉर्म काटेगा, उसके 48 घंटे में किसानों की फसल के भुगतान की राशि की अदायगी कर दी जाएगी। उन्होंने कहा कि पिछले सीजन में सरकार ने सदृढ व्यवस्थाओं के बीच एक-एक किसान की धान की फसल की खरीद करने का काम किया और खरीदी गई फसल का समय पर भुगतान किया गया। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने किसानों को समृद्घ बनाने की दिशा में पहले भी काम किया है और आगे भी किसान हितैषी कार्य जारी रहेंगे।

 बजट को लेकर बोलते हुए उप मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी वर्गों के हित तथा युवाओं से लेकर बुजुर्गों के मान-सम्मान को ध्यान में रख कर बजट पेश होगा। इसके साथ-साथ बजट में प्रदेश के इंफ्रास्टैक्चर को सुदृढ़ बनाने के लिए काम किया जाएगा। सरकार द्वारा विभागीय बैठकें कर सुझाव लिए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि आधारभूत ढांचे को मजबूत करने वाला मॉडल बजट पेश होगा, जिसमें सभी वर्गों को लाभ मिलेगा। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस प्रकार प्रदेश सरकार द्वारा आमजन के हितों को ध्यान में रखते हुए पिछली बार भी एक मॉडल बजट पेश किया गया था, जिसके परिणाम स्वरूप ही कोरोना महामारी के बावजूद प्रदेश का टैक्स कलैक्शन भी सरप्लस रहा। इसके अलावा कोरोना महामारी के दौरान आमजन को सरलता से सुविधाएं उपलब्ध करवाई गई और आम आदमी पर किसी प्रकार का कोई बोझ भी नहीं पडऩे दिया।

राहुल तेवतिया ने किया फरीदाबाद का नाम पूरे देश में गौरवान्वित : लखन सिंगला

 

फरीदाबाद। फरीदाबाद के उभरते ऑल राउंडर क्रिकेटर राहुल तेवतिया का इंगलैड के खिलाफ टी-20 सीरीज के लिए भारतीय टीम में चयन होने पर पूरे जिले में खुशी का माहौल है। अपने चहेते युवा क्रिकेटर को बधाई देने के लिए तेवतिया के निवास पर लोगों का तांता लगा हुआ है। इसी कड़ी में शुक्रवार को फरीदाबाद विधानसभा क्षेत्र से पूर्व कांग्रेस प्रत्याशी एवं वरिष्ठ कांग्रेसी नेता लखन कुमार सिंगला अपने साथियों सहित उनके सीही गांव स्थित निवास स्थान पर पहुंचकर उनके पिता एडवोकेट केपी तेवतिया को बुक्के भेंट कर बधाई दी। इस दौरान श्री सिंगला ने राहुल के पिता केपी तेवतिया की हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री एवं नेता प्रतिपक्ष चौ. भूपेंद्र सिंह हुड्डा से भी दूरभाष पर बात करवाई और श्री हुड्डा ने भी राहुल तेवतिया के टीम इंडिया में हुए सलैक्शन पर उन्हें बधाई दी और राहुल के उज्जवल भविष्य की कामना की। इस मौके पर लखन कुमार सिंगला ने केपी तेवतिया का मुंह मीठा कराते हुए कहा कि राहुल तेवतिया के टीम इंडिया का सदस्य बनने से पूरे फरीदाबाद का नाम देश में गौरवान्वित किया है। 

उन्होनें कहा कि अपनी मेहनत के दम पर इंगलैड के खिलाफ होने वाले टी-20 सीरीज के लिए भारतीय टीम में शामिल होकर राहुल ने फरीदाबाद के क्रिकेट प्रेमियों का दिल जीत लिया है और उन्हें उम्मीद है कि यह युवा ऑलराउंडर बल्ले और अपनी घातक गेंदबाजी से अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाएगा। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री चौ. भूपेंद्र सिंह हुड्डा के कार्यकाल में बेहतर खेल नीति का ही परिणाम रहा कि नए-नए खिलाडिय़ों को आगे आने का मौका मिला और उन्होंने जिले व प्रदेश का नाम रोशन किया। श्री सिंगला ने मनोहर सरकार से मांग करते हुए कहा कि राहुल तेवतिया का टीम इंडिया में सलेक्शन होने से फरीदाबाद और हरियाणा का नाम गौरवान्वित हुआ है इसलिए राहुल को सरकार द्वारा सरकारी नौकरी देकर प्रोत्साहित किया जाना चाहिए ताकि अन्य युवाओं को भी आगे बढऩे की प्रेरणा मिले। इस अवसर पर मंझावली के सरपंच राकेश कुमार, घरौंडा के सरपंच विनोद, साधु त्यागी, अजीत सिंह, कर्मबीर शर्मा, मदन कुमार, संदीप शर्मा, कपूरचंद अग्रवाल सहित अनेकों लोगों ने भी राहुल के पिता केपी तेवतिया को बधाई दी।

भाजपा राज में किसानों का खर्चा दोगुना और आमदनी आधी हो गई - दीपेंद्र हुड्डा

 भिवानी, 26 फरवरी। कृषि कानूनों के विरोध में कितलाना टोल प्लाज़ा पर चल रहे अनिश्चितकालीन धरने पर आज फिर पहुंचे युवा सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि पिछले चुनाव में भाजपा ने किसानों की आमदनी दोगुनी करने का वायदा करके वोट बटोरा था, सत्ता में आते ही खर्चा दोगुना कर दिया और आमदनी आधी कर दी। सरकार ने खाद के कट्टे का वेट घटा दिया, रेट बढ़ा दिया। खाद का जो कट्टा 800 रुपये का था वो बढ़कर 1400 का हो गया और वजन भी 5 किलो कम कर दिया गया है। इसी तरह डीजल-पेट्रोल के दाम रोज़ तेज़ी से बढ़ रहे हैं। 70 साल में डीजल-पेट्रोल सबसे ज्यादा महंगा भाजपा राज में बिक रहा है। पेट्रोल-ड़ीजल पर इतना ज्यादा टैक्स कभी नहीं लिया गया जितना ये सरकार वसूल रही है। कांग्रेस सरकार के दौरान खाद, बीज और ट्रैक्टर आदि कृषि उपकरणों पर किसी तरह का कोई टैक्स नहीं लगता था। लेकिन, आज हर चीज पर टैक्स पर टैक्स वसूला जा रहा है। इसके विपरीत किसान का जो धान कांग्रेस राज में 5000 प्रति क्विंटल की भाव से बिकता था वो आज 2500 से भी कम यानी आधी कीमत में भी नहीं बिक रहा। सांसद दीपेन्द्र हुड्डा ने कहा कि आन्दोलन में बड़ी संख्या में किसानों की जान कुर्बान होने के बावजूद सरकार ने सहानुभूति तक व्यक्त नहीं की। इससे स्पष्ट है कि इंसानियत के पैमाने पर किसानों की नैतिक जीत और सरकार की नैतिक हार हो चुकी है। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन में दी गई जान की कुर्बानी व्यर्थ नहीं जायेगी, आने वाली पीढ़ियां इसे याद रखेंगी और गर्व करेंगी।

सांसद दीपेन्द्र हुड्डा ने कहा कि आज युवा किसान दिवस मनाया जा रहा है और किसान आन्दोलन में युवा अन्नदाता की भागीदारी अहम है। तीन महीने से भी ज्यादा समय से शांतिपूर्ण ढंग से आन्दोलनरत किसानों के हौसले को सलाम करते हुए कहा कि आज़ादी के बाद देश में इतना बड़ा आंदोलन नहीं हुआ। वो किसान के युवा बेटे और एक युवा सांसद होने के नाते भी इस लड़ाई को सड़क से संसद तक पूरी ताकत से लड़ते रहेंगे। उन्होंने देश भर के युवाओं का आवाहन किया कि किसान के हक की इस लड़ाई में कंधे से कन्धा मिलाकर मजबूती से साथ दें। प्रदेश के साथ ही देश में बढ़ती बेरोज़गारी और मंदी पर सांसद दीपेन्द्र ने कहा कि अर्थव्यवस्था में लगातार मंदी के चलते 2013 के मुकाबले आज देश की बेरोजगारी दर दोगुने स्तर पर पहुंच चुकी है। हरियाणा में तो देश की सबसे ज्यादा बेरोज़गारी दर छाई है। अर्थव्यवस्था पटरी लाने से ही निजी क्षेत्र में रोज़गार की आशा जगेगी। सरकारी क्षेत्र में लम्बित भर्तियों के लिये सरकार नौकरी का इम्तिहान ले,युवाओं के सब्र का नहीं।

उन्होंने आगे कहा कि आज मंडियों में किसान की उपज को न्यूनतम भाव तक नहीं मिल रहा है और सरकार के असंवेदनशील रवैये के कारण किसान अपने खेत में फसल नष्ट करने जैसा कदम उठाने को मजबूर हैं। सांसद दीपेन्द्र हुड्डा ने सभी किसानों से अपील करी कि वे खड़ी फसल को नष्ट न करें और सरकार को चेताया कि किसानों के दर्द को समझे, अगर अन्नदाता ने फसल उगाना बंद कर दिया तो लोग खाने के लिये दाने-दाने को मोहताज हो जायेंगे। उन्होंने बताया कि प्रदेश के किसानों को याद है कि हुड्डा सरकार के समय धान का रेट एमएसपी के पार 5000 रुपये तक मिलता था। पोपुलर भी 1250 रुपये के रेट पर ख़रीदा जाता था और पोपुलर के पत्ते तक का बढ़िया भाव मिलता था। कपास और गन्ने का रेट देश में सबसे ज़्यादा था। लेकिन बीजेपी सरकार आने के बाद साढ़े 6 साल में गन्ने के रेट में बमुश्किल 40 रुपये ही इज़ाफ़ा हुआ है। जबकि, कांग्रेस सरकार ने गन्ने के रेट में रिकॉर्डतोड़ 193 रुपये की बढ़ोत्तरी करते हुए उसे 117 से बढ़ाकर 310 रुपये तक पहुंचाया था। साथ ही समय से भुगतान भी सुनिश्चित कराया, सरकार छोड़ते समय 2014 में गन्ना मिलों पर किसानों का एक पैसा बकाया नहीं था। सांसद दीपेंद्र ने किसानों को यह भी बताया कि पूर्ववर्ती हुड्डा सरकार ने हरियाणा में कर्ज न चुका पाने वाले किसान की गिरफ्तारी और जमीन की नीलामी वाले काले कानूनों को समाप्त किया।

दीपेन्द्र हुड्डा ने कहा कि आजादी के बाद के इतिहास में किसान का ऐसा उत्पीड़न कभी नहीं हुआ, जितना भाजपा सरकार में हो रहा है। तीन महीने से किसान यातनाएं सह रहे हैं। बिजली, पानी, शौचालय की व्यवस्था बंद कर दी गयी। तमाम यातनाएं सहने, दुष्प्रचार झेलने और जान की कुर्बानी देने के बावजूद देश के किसान विचलित नहीं हुए। करीब 250 किसानों ने अपनी जान कुर्बान कर दी है लेकिन इस बेरहम सरकार का दिल नहीं पिघला। अहंकार में डूबे सत्ता पक्ष ने किसानों की कुर्बानी की खिल्ली उड़ायी, जो समय आने पर भाजपा को बहुत भारी पड़ेगी। सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने नेता प्रतिपक्ष चौ. भूपेंद्र सिंह हुड्डा का धन्यवाद किया कि जब कोई भी शहीद किसानों के परिवार के आंसू पोंछने तक नहीं आया, उस समय उन्होंने कांग्रेस विधायक दल द्वारा अपनी निजी कमाई से हरियाणा के प्रत्येक शहीद किसान के परिवार को 2-2 लाख रुपये की आर्थिक मदद देने व आगे भी हर संभव मदद करने का फैसला किया। साथ ही, कांग्रेस की सरकार बनने पर हर परिवार को सरकारी नौकरी देने का एलान किया।

इस दौरान पूर्व केंद्रीय मंत्री जयप्रकाश, पूर्व विधायक चौ. रणबीर सिंह महिंद्रा, पूर्व विधायक चौ. सोमवीर सिंह, ठाकुर लाल सिंह, दादरी बार के सुरेंद्र प्रधान, धर्मेंद्र सांगवान, अनिल धनखड़, राजू मान, अमन पाल्हावास, धीरज सिंह, प्रदीप गुलिया, सुमित, बलजीत फोगाट, बलवंत प्रधान, बिरेंदर श्योराण, नरसिंह सांगवान सहित बड़ी संख्या में चौगामा खाप, सतगामा खाप, सांगवान खाप, श्योराण खाप, फोगाट खाप के गणमान्य लोग मौजूद रहे।

नीता भाभी और मुकेश भैया यह एक झलक है, फैमिली को उड़ाने का इंतजाम हो गया है

 

नई दिल्ली- रिलायंस इंडस्‍ट्रीज के चीफ मुकेश अंबानी के घर के पास कल  विस्‍फोटकों से भरी एक कार मिलने के बाद हड़कंप मच गया। स्थानीय पुलिस मामले की जांच कर रही है और पुलिस के मुताबिक़ कार चोरी की है। कार के भीतर से एक बैग मिला जिसपर 'मुंबई इंडियंस' लिखा हुआ था। एक चिट्ठी भी मिली है जिसमें अंबानी को धमकी दी गई थी। 

 चिट्ठी में लिखा था कि नीता भाभी और मुकेश भैया फैमिली, यह एक झलक है। अगली बार ये सामान पूरा होकर आएगा। पूरी फैमिली को उड़ाने के लिए इंतजाम हो गया है, संभल जाना। बताया जा रहा है कि गाड़ी पार्क करने वाले ने करीब एक महीने तक यहां की रेकी की थी।

भाटिया ने दिया इस्तीफा, बोले BJP में सब ठीक नहीं, अनैतिक कार्यों में जुटे हैं बड़े नेता और अधिकारी

फरीदाबाद - निगरानी समिति प्रमुख आनंद कांत भाटिया ने विशिष्ठ नागरिक के पद से अपना इस्तीफा दे दिया है और उन्होंने कहा है कि भाजपा राज में कुछ भी सही नहीं है। सरकारी योजनाओं के लाभ तक दिलवाने के पीछे कई पदाधिकारियों का मकसद सिर्फ पैसा कमाना है। 

 मुख्यमंत्री हरियाणा द्वारा भाजपा के प्रथम कार्यकाल के दौरान गुजरात की तर्ज पर अपनी शिकायतें सीधे उन तक पहुंचाने के लिए सीएम विंडो का प्रावधान प्रदेश की जनता के लिए किया गया था। सीएम विंडो की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए या उसे और अधिक सशक्त करने के विचार से प्रदेश की सभी 90 विधानसभा क्षेत्रों में कुल 270 विशिष्ट नागरिकों को मनोनीत किया गया था। जहां एक ओर किसी भी विधानसभा क्षेत्र का शिकायतकर्ता इस उम्मीद से सीएम विंडो पर अपनी शिकायत लगाता है कि कम से कम उसकी सुनवाई प्रदेश के मुखिया से सीधे तौर पर जुड़े हुए लोगों द्वारा तो की ही जाएगी वहीं दूसरी ओर बड़खल विधानसभा के निगरानी समिति प्रमुख आनंद कांत भाटिया ने विशिष्ठ नागरिक के पद से अपना इस्तीफा देने के बाद कई बड़े संगीन आरोप लगाए हैं। 

सीधे मुख्यमंत्री हरियाणा सरकार के पास एक ईमेल के माध्यम से प्रेषित कर शिकायतकर्ताओं की सोच पर ही प्रश्नचिन्ह लगा दिया है। यदि आनंद कांत भाटिया की माने तो भाजपा राज की सीएम विंडो पर कुछ भी सही नहीं है। अपने इस्तीफे के माध्यम से उन्होंने मुख्यमंत्री के समक्ष कई प्रकार के खुलासे करते हुए प्रशासनिक अधिकारियों के साथ साथ अपनी ही पार्टी के शीर्ष नेताओं और विभिन्न पदों पर बैठे नेताओं द्वारा सरेआम जिले में सरकारी जमीनों पर कब्जे करने एवं करवाने के साथ-साथ कई प्रकार के अनैतिक कार्यों से सरकार को राजस्व का नुकसान पहुंचाते हुए निजी फायदों के लिए धन उगाहने तक के आरोप लगाए हैं।

भाटिया का यह मानना है कि कई भ्रष्ट प्रशासनिक अधिकारी एवं ऐसे नेता जो मौकापरस्त, फिरकापरस्त हैं और पार्टी में प्रमुख पदों पर सुशोभित किए गए हैं दोनों हाथों से जिले की जनता को गुमराह करते हुए लूटने में लगे हुए हैं और कि जो पार्टी को लगातार नुकसान पहुंचाने का कार्य कर रहे हैं। अपने आत्मसम्मान को अहम मानते हुए और पार्टी के यशस्वी प्रधानमंत्री और ईमानदार मुख्यमंत्री के दिखाए मार्ग पर ना चलने दिए जाने के कारण, क्षुब्ध होते हुए अंततः बहुत सोच-विचार के बाद उन्हें अपना पद त्यागना ही एकमात्र विकल्प दिखाई दिया! 

भाटिया ने अपने प्रेषित त्यागपत्र में यह भी स्पष्ट किया है कि सरकार से जारी की गई योजनाओं से मिलने वाली कई प्रकार की सुविधाओं या सहायताओं तक को भी आम नागरिक अथवा वोटर तक पहुंचाने की एवज में कई पदाधिकारियों द्वारा अवैध रूप से धन वसूला जाने की शिकायतें भी लगातार उन्हें मिलती रहती हैं। ऐसी शिकायतें शीर्ष नेताओं तक पहुंचाने के बावजूद भी कोई हल ना निकलता देख उन्होंने अपने पद से त्यागपत्र देना ही एकमात्र उचित रास्ता समझा। अपने त्यागपत्र में भाटिया ने बार बार मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर को उन्हें इस पद पर सुशोभित कर मान सम्मान देने के लिए धन्यवाद किया है।

भाटिया से जब हमारे संवाददाता ने यह प्रश्न किया कि क्या यह मान लिया जाए कि अब वे भाजपा से दूरी बनाने जा रहे हैं तो उन्होंने स्पष्ट शब्दों में जवाब दिया कि कोई भी पद आपके आत्मसम्मान से बड़ा नहीं होता इसीलिए मैंने अपने उस पद से त्यागपत्र दिया है जिस पर रहते हुए मैं सही तरीके से काम नहीं कर पा रहा था और कि जिस मकसद से आदरणीय मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर जी द्वारा सीएम विंडो की शुरुआत की गई थी उसके शिकायतकर्ताओं को मैं न्याय नहीं दिलवा पा रहा था जो कि कहीं ना कहीं आत्मिक बोझ के रूप में मुझे महसूस होता था और विचलित करता था। मैं आदरणीय मोदी जी एवं मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर जी की नीतियों से बहुत अधिक प्रभावित हूं और उनके कार्यकर्ता के रूप में ही राष्ट्रहित में अपनी सेवाएं प्रदान करता रहूंगा।

पार्षदों के बाद अब फरीदाबाद की मेयर को भी दिखे नगर निगम में घोटालेबाज, बोलीं CM साहब पकड़ो इन्हे

नई दिल्ली/ चंडीगढ़/ फरीदाबाद: दो दशक पहले देश के कई राज्यों से ख़बरें आतीं थीं कि ठग टाइप के लोग और चोर उचक्के वहाँ गंजे को भी कंघी बेंच देते थे। भ्रष्टाचारी कागज़ पर तालाब कुआं बना करोड़ों डकार जाते थे। वर्तमान में डिजिटल युग है और अब कहा जाता है कि भ्रष्टाचार न के बराबर है लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और है। भ्रष्टाचार बढ़ता जा रहा है और पूर्वी राज्यों तक सीमित नहीं रहा। अब हरियाणा के फरीदाबाद जैसे शहर में आये दिन नगर निगम के पार्षद ही सवाल उठाते हैं कि कुछ भ्रष्ट कागज़ पर ही विकास कार्य दिखा करोड़ों डकार गए। हाल में एक कालू ठेकेदार की खबर आई थी कि वो दो सौ करोड़ से ज्यादा खा चुका है और कोई काम नहीं करवाया। नगर निगम सदन में मामला भी उठ चुका है लेकिन लगता है कालू ने कुछ लोगों को काली कमाई का हिस्सा भी दिया था इसलिए सब चुप हैं। उस पर कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है। 

चोर-चोर मिलकर मौसेरे भाई हो गए हैं और फरीदाबाद को लूट रहे हैं। शहर को नरक सिटी बना रहे हैं। सोशल मीडिया पर जब मैं पूंछता हूँ कि फरीदाबाद स्मार्ट सिटी बना या नरक सिटी तो 90 फीसदी लोग नरक सिटी बताते हैं। क्या फरीदाबाद में सच में घोटाले हो रहे हैं? किसी और की नहीं फरीदाबाद की प्रथम व्यक्ति यानी वर्तमान मेयर सुमन बाला भी अब उन लोगों की हाँ में हाँ मिलाने लगीं जो कहते हैं फरीदाबाद में घोटाले हो रहे हैं और कुछ अधिकारी जमकर लूट रहे हैं। मेयर ने बाकायदा सीएम, मुख्य सचिव, राज्य चौकसी व्यूरो  को पत्र लिखा है। पढ़ें 


यहाँ सफाई घोटाले का जिक्र किया गया है। 12 करोड़ के टॉयलेट खरीद में गड़बड़झाला। कई अन्य बड़े आरोप मेयर ने नगर निगम अधिकारियों पर लगाए हैं। अभी तो ये स्वच्छ भारत मिशन का घोटाला मेयर ने उजागर किया है। स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में कितना पैसा आया और कितना लगा और जांच हुई तो कई लोग और अधिकारी नंगे हो जाएंगे। देखते रहें आगे-आगे होता है क्या?

डिजिटल इंडिया डिजिटल इंडिया- हरियाणा देश का ऐसा 16वां राज्य बना जहां सब कुछ डिजिटल

चंडीगढ़, - प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के डिजिटलाइजेशन भारत मिशन को आगे बढ़ाने की पहल करते हुए हरियाणा देश का ऐसा 16वां राज्य बन गया है जहां पर विधान सभा के विधायी कार्यों को कागजरहित बनाने की शुरुआत करने के लिए राष्ट्रीय ई-विधान अनुप्रयोग के तहत एक त्रि-पक्षीय समझौता ज्ञापन पर आज हस्ताक्षर किए गए।

इस अवसर पर हरियाणा विधान सभा के अध्यक्ष श्री ज्ञान चंद गुप्ता की अध्यक्षता में आज विधानसभा सचिवालय में केन्द्र सरकार, प्रदेश सरकार और विधानसभा के अधिकारियों की बैठक भी हुई। इसमें  विधानसभा उपाध्यक्ष श्री रणबीर गंगवा और संसदीय कार्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव श्री सत्यप्रकाश खटाना भी उपस्थित थे । इस बैठक में राष्ट्रीय ई-विधान अनुप्रयोग के क्रियान्वयन के लिए हरियाणा विधान सभा कमेटी तथा राज्य परियोजना परिवीक्षण इकाई कमेटी के सदस्य और अधिकारी भी उपस्थित रहे ।इस अवसर पर हरियाणा विधान सभा के उपाध्यक्ष श्री रणबीर सिंह गंगवा भी उपस्थित थे।

समझौता ज्ञापन पर संसदीय कार्य मंत्रालय की ओर से संयुक्त सचिव डॉ. सत्यप्रकाश खटाना, हरियाणा सरकार की ओर से कार्मिक, प्रशिक्षण सर्तकता एवं संसदीय कार्य मामले विभागों के सचिव श्री पंकज अग्रवाल तथा हरियाणा विधान सभा की ओर से विधान सभा के सचिव श्री आर.के.नांदल ने हस्ताक्षर किए।

श्री गुप्ता ने कहा कि 20 करोड़ रुपये की लागत की इस परियोजना का व्यय केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा 60:40 अनुपात में वहन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हरियाणा के लिए   आज प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के डिजिटलाइजेशन एवं कम्प्यूटराइजेशन मिशन के स्वप्न को साकार करने के लिए ऐतिहासिक दिन है।

उन्होंने कहा कि जब से उन्होंने विधान सभा के अध्यक्ष के पद की जिम्मेवारी सम्भाली है वे ई-विधान सभा अवधारणा को लागू करने के लिए प्रयासरत हैं। कोविड-19 के चलते आज उस कड़ी में हम आगे बढ़े हैं। समझोते के तहत केन्द्रीय संसदीय कार्य मंत्रालय तीन वर्ष तक इस योजना को पूरा करने के लिए विधान सभा के कर्मचारियों के साथ-साथ आईटी सैल से जुड़े कर्मचारियों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाएगा। उन्होंने कहा कि देश में हिमाचल प्रदेश ही एक ऐसा राज्य है जिसकी विधान सभा को कागजरहित कर ई-मोड पर संचालित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हरियाणा विधानसभा का एक दल वहां विधानसभा की कार्यवाही देखने के लिए एक व दो मार्च को शिमला के अध्ययन दौरे पर जाएगा।

श्री गुप्ता ने कहा कि विधान सभा पुस्तकालय का भी डिजिटलीकरण किया जाएगा। विधान सभा की कार्यवाही के लिए बड़ी संख्या में प्रश्नकाल, ध्यानाकर्षित प्रस्ताव, अध्यादेश व बिल तथा अन्य विधायी कार्य पूरा करने के लिए सत्र के दौरान भारी मात्रा में कागज का इस्तेमाल किया जाता है। अब इस समझौते के बाद कागज की बचत होगी और लगभग 14 से 15 करोड़ रुपये वार्षिक खर्च बचाया जा सकेगा। इससे पर्यावरण संरक्षण में भी सहायता मिलेगी। 

विधान सभा कमेटी में विधान सभा अध्यक्ष श्री ज्ञान चंद गुप्ता अध्यक्ष, विधायक श्री असीम गोयल, श्रीमती नैना सिंह चौटाला, श्री प्रमोद विज, श्री सुधीर कुमार सिंगला, श्री चिरंजीव राव, श्री वरूण चौधरी तथा श्री नयन पाल रावत को सदस्य के रूप में नामित किया गया है। इसके अलावा, सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के सचिव भी इस कमेटी के सदस्य होंगे जबकि हरियाणा विधान सभा सचिवालय के सचिव इसके सदस्य सचिव होंगे। इसी प्रकार, राज्य परियोजना परिवीक्षण इकाई-सह-राष्ट्रीय ई-विधान अनुप्रयोग कमेटी में हरियाणा विधान सभा सचिवालय के सचिव अध्यक्ष होंगे जबकि सूचना प्रौद्योगिकी विभाग, वित्त विभाग एवं संसदीय कार्य  मामले विभागों के सचिव, राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केन्द्र के राज्य इनफर्मेटिक अधिकारी, राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केन्द्र के राज्य स्तरीय प्रतिनिधि इसके सदस्य होंगे। इसके अलावा, हरियाणा विधान सभा सचिवालय के संयुक्त सचिव इसके सदस्य सचिव होंगे तथा हरियाणा विधान सभा सचिवालय के सिस्टम एनालिस्ट इस कमेटी के विशेष आमंत्री होंगे।

इस अवसर पर विधायक श्री असीम गोयल, श्री नयन पाल रावत व श्री वरूण चौधरी, मुख्य सचिव श्री विजय वर्धन, तथा संसदीय कार्य मामले मंत्रालय के सचिव श्री राजेन्द्र सिंह शुक्ला, इलैक्ट्रॉनिक्स, सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग के प्रधान सचिव श्री विनीत गर्ग, वित्त विभाग के विशेष सचिव श्री मनोज खत्री, के अलावा राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केन्द्र के श्री दीपक बंसल व अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

फरीदाबाद पुलिस की ट्रैफिक एडवाइजरी, 5 दिन तक बंद रहेंगे ये प्रमुख रोड 

 

बल्लभगढ़ , बाटा एव नीलम आजरौंदा की तरफ से दिल्ली की तरफ ओल्ड, बड़खल होते हुए बदरपुर बॉर्डर जाने वाला ट्रैफिक , ओल्ड फ्लाईओवर पर ना चढ़कर सर्विस रोड से जाएगा ,,,क्योंकि ओल्ड फ्लाईओवर का वन साइड नीलम से बदरपुर की तरफ जाने वाला वन साइड l&t द्वारा लोड टेस्टिंग की वजह से 5 दिन तक बंद रहेगा।बदरपुर बॉर्डर से बल्लभगढ़ की तरफ जाने वाला ट्रैफिक ओल्ड फ्लाईओवर के ऊपर से रोजमर्रा की तरह चलता रहेगा।

ओल्ड मार्केट और सेक्टर 16 महिला थाने की तरफ से आने वाला  ट्रैफिक ओल्ड फ्लाईओवर के नीचे से राइट बदरपुर ना जाकर,,, ओल्ड फ्लाई ओवर की रेड लाईट/  चौक से लेफ्ट लेकर अजरोंदा चौक से यू टर्न लेकर सर्विस रोड़ से ओल्ड फ्लाईओवर के चौक की रेड लाइट क्रॉस करते हुए बडखल होते हुए अपनी मंजिल तक जाएगा।

जो ट्रैफिक रेलवे अंडरपास ओल्ड की तरफ से आएगा और ओल्ड मार्केट व महिला थाना सै० 16 की तरफ  जाना चाहेगा वह ओल्ड फ्लाईओवर के नीचे से सीधा ना जाकर बडकल फ्लाईओवर का यू टर्न का इस्तेमाल कर अपने मंजिल तक जाएगा।

कृपया सभी वाहन चालक ध्यान दें और अपनी मंजिल तक पहुंचने के लिए एडवाइजरी के मुताबिक अपना अल्टरनेटिंग अपना मार्ग चुने और फरीदाबाद ट्रैफिक पुलिस का सहयोग करें।