Faridabad Assembly

Palwal Assembly

Faridabad Info

सत्ता के समय होती है धनवर्षा इसलिए सत्ता पाने के लिए देश में आग लगवाते हैं कलयुगी नेता 

Haryana-Sps-News-13-Dec
हमें ख़बरें Email: psrajput75@gmail. WhatsApp: 9810788060 पर भेजें (Pushpendra Singh Rajput)
loading...

नई दिल्ली: जो नेता ऊपर वाली कुर्सी पर बैठ चुके हैं उन्हें पता है कि उनके पास जब कुर्सी थी तो उन्हें कैसे मलाई खाने को मिलती थी। कैसे बड़े-बड़े मालदार उनके पास चाय पीने आते थे और चाय पीने के बाद चुपचाप जाते वक्त उन नेताओं की जेब में कोई लिफाफा डाल जाते थे। इस लिफाफे में पुदीना होता था। ऐसे रोजाना कई मालदार उनके पास आते थे और नेताओं ने पास पुदीनों का भण्डार लग जाता था। ऊपर वाली कुर्सी पर 5-10 साल बैठे देश के सैकड़ों नेताओं के पास अरबों-खरबों की संपत्ति है। देश के कई राज्यों में सैकड़ों एकड़ के फ़ार्म हाउस हैं तो कई नेताओं के विदेशी बैंकों में खाते हैं। कई नेताओं की पोल भी खुली और कोई तिहाड़ में बंद है तो कोई बिहार की जेल में। इन सब पर पुदीना खाने का आरोप है। पुदीना का मतलब आप समझ सकते हैं।
जब इन नेताओं के पास से सत्ता गई तो इन्हे पता चला कि अब हमें पुदीना नहीं मिलेगा और जिसके पास सत्ता आई है पुदीना अब वही खायेगा। हरियाणा अब तक के पाठकों देश कंगाल नहीं है। आज अगर देश में राज कर चुके 7 दशकों के मंत्रियों, सांसदों, मुख्यमंत्रियों की संपत्ति का आकलन करें और उनकी सम्पत्तियों को बेंचा जाए तो देश के 130 करोड़ लोगों में से हर एक को कम से कम एक करोड़ रूपये मिलेंगे। देश का कोई भी व्यक्ति कंगाल या गरीब नहीं रहेगा।

आपको पता होगा कि देश पर 200 साल तक अंग्रेजों ने अत्याचार किया था और अंग्रेज वापस लौट तो गए, लेकिन इतने समय में उन्होंने हमारा काफी धन लूट लिया।  हरियाणा अब तक को अपने सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक  अंग्रेज़ों ने भारत का करीब 45 ट्रिलियन डॉलर (3,19,29,75,00,00,00,000.50 रुपये) लूटा। देश के तमाम ऐतिहासिक स्थलों पर सोने, चांदी, हीरे लगे थे। अंग्रेज सब निकाल ले गए लेकिन भारत फिर भी ज्यादा गरीब नहीं रहा। लुटेरे अंग्रेजों को भगा दिया गया। देश के तमाम देशभक्तों ने कुर्बानी दी। कुर्बानी देने वालों में सभी धर्म के लोग शामिल थे। देश के लिए कुर्बान हुए भगत सिंह ने कहा था कि भगत सिंह ने कहा था कि मैं ऐसा भारत चाहता हूं जिसमें गोरे अंग्रेजों का स्थान हमारे देश के काले दिलों वाले काले-अंग्रेज न लें। मैं ऐसा भारत नहीं देखना चाहता जिसमें व्यवस्था प्रबंधन सदस्य व्यवस्था पर प्रभावी बने रहें।  भगत सिंह ने सांप्रदायिक और जातिवाद को बढ़ावा देने वाले लोगों का हमेशा विरोध किया था। वो सत्ता में ऐसा बदलाव चाहते थे जहां आम आदमी की आवाज़ सुनी जा सके।

हँसते-हँसते देश के लिए शहीद हुए भगत सिंह जैसे कई शहीदों के सपनों को देश के नेताओं ने चकनाचूर किया। देश के लोगों को जाति धर्म के नाम पर लड़ाया जाता है। नेताओं को सिर्फ कुर्सी प्यारी है और कुर्सी इसलिए प्यारी है क्यू कुर्सी पर बैठते ही पुदीने का भंडार मिलने लगता है। यही कारण है कि ऊपर वाली कुर्सी पाने के लिए नेता हर बड़ा जुआड़ करते हैं, आग लगवाते हैं, देश में दंगे करवाते हैं। ऐसे घटिया नेताओं को देश की जनता से नहीं, ऊपर वाली कुर्सी से प्यार है इसलिए ऐसे महा घटिया नेता देश में आग लगवा अपना उल्लू सीधा करना चाहते हैं। वर्तमान समय में भी देश के कई राज्यों में एक विधेयक को लेकर आग लगी है। दो लोगों की जान भी जा चुकी है। कई जगह हिंसक झड़प हुई है और तमाम लोग घायल हो गए हैं। घायल होने वालों में जनता और पुलिस है। कोई नेता घायल नहीं हुआ है। वो तो तमाशा देख रहे हैं।

साढ़े पांच साल से देश की बागडोर भाजपा के हाथों में है। नरेंद्र मोदी दुबारा पीएम बने हैं। बड़े-बड़े फैसले ले रहे हैं लेकिन उनकी राह अब आसान नहीं है। उन्हें अपने पुदीनाखोर नेताओं पर भी ध्यान रखने की जरूरत है। मोदी सरकार के दौरान भी कई नेताओं की संपत्ति रॉकेट की रफ़्तार से बढ़ी है। देश की सड़कों के किनारे  अडानी का कारोबार दिखता है। अडानी गैस लिमिटेड के बोर्ड हर जगह दिखते हैं, अम्बानी की वजह से देश के हर घर में इंटरनेट पहुंचा लेकिन हाल में उन्होंने रेट बढ़ा दिया जिसके बाद अन्य कंपनियों ने भी रेट बढ़ाया। अब देश की जनता लुटने लगी है क्यू कि इंटरनेट की आदत पड़ चुकी है।
देश की जनता को टीवी देखने की आदत कांग्रेस सरकार के समय से पड़ चुकी थी लेकिन अब देश के लगभग 100 करोड़ से ज्यादा लोग लूटे जा रहे हैं। 2014 के पहले 100 रूपये देकर देश के 100 करोड़ से ज्यादा लोग सैकड़ों चैनल देखते थे लेकिन अब 300 से 500 रूपये हर माह देना पड़ रहा है। बड़ी लूट जारी है। मंदिर, मस्जिद, तीन तलाक, नागरिकता बिल, ये सब मोदी सरकार को ज्यादा समय तक फायदा नहीं पहुंचा सकता, देश में बड़ी लूट जारी है, इस पर भी लगाम लगाएं।
हरियाणा अब तक को अभी-अभी जानकारी मिली है कि पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले स्थित बेलडांगा रेलवे स्टेशन परिसर को नागरिकता कानून में बदलाव का विरोध कर रहे लोगों ने आग के हवाले कर दिया है। आगे ऐसी बड़ी घटनाएं होती रहेंगी क्यू कि ये सब नेता करवा रहे हैं ताकि सत्ता आये और पुदीने का भंडार मिले , उनकी जेबें भरी जाएँ, वो मालामाल हो जाएँ। सत्ता के लालची नेताओं, जनता की जान न लें, वरना आप ज्यादा समय तक सत्ता में नहीं रहेंगे।
तस्वीर, कहा गया है कि कानपुर में ये प्रदर्शन हुआ है।  दोस्तों अपने पास ख़बरों का भंडार होता है इसलिए जल्दी में ख़बरें लिखता हूँ, स्पेलिंग में गलती हो तो माफ़ करें 
फेसबुक, WhatsApp, ट्विटर पर शेयर करें

loading...

Haryana News

Post A Comment:

0 comments: