Faridabad Assembly

Palwal Assembly

Faridabad Info

गीता जयंती में करोड़ों ख़र्च करके खट्टर सरकार ने करवाई अपनी इंटरनेशनल बेइज़्ज़ती?

Geeta-Jayanti-Haryana-Sps
हमें ख़बरें Email: psrajput75@gmail. WhatsApp: 9810788060 पर भेजें (Pushpendra Singh Rajput)
loading...

चंडीगढ़: घर में नहीं दानें, अम्मा चलीं भुनाने वाली कहावत सैकड़ों वर्ष पुरानी है। देश में जिसकी कमाई ज्यादा होती है वो खर्च भी उसी हिसाब से करता है लेकिन कम कमाने वाले या जो कर्जदार हैं वो सोंच समझकर खर्च करते हैं। कोई कर्जदार अगर कोई जश्न वगैरा में करोड़ों फूंकता है तो उस पर बड़े सवाल भी उठते हैं जैसे की अब हरियाणा की भाजपा सरकार पर उठ रहे हैं।  2018 के बजट के मुताबिक़ हरियाणा सरकार पर 1 लाख 61 हजार 159 करोड़ रुपये का कर्ज था जो अब और बढ़ गया है ऐसे में सरकार ने सैकड़ों करोड़ खर्च गीता महोत्सव मनाया। रंग बिरंगे नृत्य हुए। अधिकारियों  और कई बड़े मंत्रियों ने कई दिन तक चले महोत्सव में पहुंचे। जमकर खारीरदारी हुई। अब विपक्ष खट्टर सरकार पर सवाल उसी तरह उठाने लगा है जैसे पिछले साल उठा रहा था। सरकार पर फिजूलखर्ची का आरोप लगाया जा रहा है।

 कुछ अश्लील डांस के वीडियो भी वाइरल हो रहे हैं। कुरुक्षेत्र में बड़ा समारोह और जिला स्तर पर भी छोटे समारोह आयोजित किये गए। अब विपक्ष एक वीडियो वाइरल कर रहा है और कहा जा रहा है कि खट्टर सरकार ने अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव पर हरियाणा की अंतर्राष्ट्रीय बेज्जती करवाई। वीडियो में कहा जा रहा है कि कुरुक्षेत्र की सड़कें खस्ताहाल हैं और इन्हे सड़कों से महोत्सव में तमाम विदेशी मेहमान आये गए और उन्होंने ऐसी सड़कों को देख क्या सोंचा होगा। कहा जा रहा है जितने पैसे खर्च किये गए उतने पैसे से कुरुक्षेत्र का इतना विकास हो जाता जितना कभी नहीं हुआ था। कई तरह के सवाल हरियाणा की भाजपा सरकार पर उठाये जा रहे हैं और आने वाले दिनों में और कई सवाल उठेंगे।

 कहा जा  रहा है कि इस आयोजन में जो सैकड़ों करोड़ रूपये खर्च हुए हैं वो पैसे सीएम अपनी जेब से नहीं देंगे। जो टैक्स देते हैं उन्ही की जेब या तो और ढीली होगी या और कर्ज लिया जाएगा और दोनों तरह से  हरियाणा की जनता की ही जेब ढीली होगी। कहा जा रहा है पिछली बार जिन नेताओं ने खट्टर सर्कार के ऊपर सवाल उठाया था अब वो प्रदेश के उप मुख्य्मंत्री बन चुके हैं। ये वीडियो देखें, हरियाणा भाजपा में तमाम कमियां हैं जिस कारण 75 पार टांय-टांय फुस्स हो गया। घर में रजाई-गद्दे न हों तो सर्दी में मेहमान को न बुलाएं इसलिए खट्टर सरकार को चाहिए था कि पहले कुरुक्षेत्र की सड़कों का गड्ढा ठीक करवाते फिर विदेशी मेहमानों को बुलाते। हरियाणा अब तक को सूत्रों से जानकारी मिली है कि इस आयोजन में तमाम अधिकारी अपने घरों में आयोजन में बने पकवान ले जाते थे। वास्तविक जानकारी की प्रतीक्षा है। गड़बड़ी की सूचना हरियाणा अब तक को शुरू से ही मिल रही थी। देखें वीडियो 
फेसबुक, WhatsApp, ट्विटर पर शेयर करें

loading...

Haryana News

Post A Comment:

0 comments: