Faridabad Assembly

Palwal Assembly

Faridabad Info

मंत्री अनूप धानक व उनके साथियों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज करने की मांग

Haryana-Minister-Anoop-Dhanak-Rohtak-news
हमें ख़बरें Email: psrajput75@gmail. WhatsApp: 9810788060 पर भेजें (Pushpendra Singh Rajput)
loading...

हर्षित सैनी रोहतक। इंडियन नेशनल लोकदल के प्रदेशाध्यक्ष बीरबल दास ढालिया ने हरियाणा सरकार के राज्य मंत्री अनूप धानक और उसके साथियों द्वारा रोहतक के सर्किट हाऊस में महिला वकील के साथ किए गए अभद्र व्यवहार पर नाराजगी जाहिर करते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री व गृह मंत्री से राज्य मंत्री व उनके साथियों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज करने व अनूप धानक से मंत्रिमंडल से इस्तीफा देने की मांग की है।

       इनेलो नेता ने यह भी कहा कि एक तरफ तो भाजपा सरकार प्रदेश में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का नारा दे रही है, वहीं सुप्रीम कोर्ट की महिला वकील को रात के 10 बजे सरकार के मंत्री व उनके संरक्षण प्राप्त साथियों द्वारा ही खुलेआम परेशान किया जाता है तो आम महिलाओं का क्या हाल होगा ? उन्होंने सवाल पुछा कि आए दिन मीडिया की सुर्खियों में रहने वाले प्रदेश के गृहमंत्री ने उक्त महिला की वीडियो वायरल होने व समाचार पत्रों में खबरें प्रकाशित होने के बाद भी आरोपी लोगों के विरूद्ध आवश्यक कार्यवाही करने के आदेश क्यों नहीं दिए हैं।
          हैदराबाद की हाल में हुई घटना के बाद हरियाणा पुलिस को सबक लेना चाहिए था लेकिन रोहतक सर्किट हाऊस में हुई घटना ने महिला सुरक्षा के दावों की पोल खोल कर रख दी है। उन्होंने राज्य में महिलाओं के विरूद्ध हो रहे अपराधों पर चिंता जाहिर करते हुए कहा है कि सरकार प्रदेश की बहन-बेटियों की रक्षा के दावे तो कर रही है लेकिन यह दावे हवाई साबित हो रहे हैं।

यही नहीं सर्किट हाऊस में सुप्रीम कोर्ट की महिला वकील का रात के समय श्रम मंत्री अनूप धानक की उपस्थिति में शराब पीकर कुछ लोगों द्वारा बार-बार दरवाजे पर धक्के मारने के मामले में आज अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति का प्रतिनिधिमंडल महिला वकील से मिला। 
     प्रतिनिधिमंडल में जनवादी महिला समिति की केन्द्रीय कमेटी सदस्य जगमति सांगवान, राज्य कमेटी सदस्य शीलावती, अमिता व अन्य साथी शामिल रहे। बाद में प्रतिनिधिमंडल पुलिस अधीक्षक के कैम्प आफिस में उनसे मिलने गया परन्तु उनकी अनुपस्थिति में डा. जगमति सांगवान ने उनसे फोन पर इस सम्बन्ध में बात करके कहा कि इस मामले में तुरन्त एफ.आई.आर. दर्ज करते हुए दोषियों के खिलाफ तुरन्त कार्यवाही की जाए। 
           प्रतिनिधिमंडल ने महिला वकील से बात करने के बाद यह महसूस किया कि अगर सुप्रीम कोर्ट की महिला वकील रात के समय दरवाजा धक्काए जाने से असुरक्षित महसूस करती है तो इस घटना हरगिज अन्यथा नहीं लिया जाना चाहिए। दरवाजा धक्काए जाने वाले लोगों ने शराब पीई हुई थी और जब महिला ने उनका मैडिकल चैकअप करवाने के लिए डीएसपी को अपील की तो उन्होंने ऐसा नहीं किया।
     उनका कहना था कि स्वयं एसडीएम जो मौके पर पहुंचे, उनका आचरण भी घोर आपतिजनक था। दूसरी तरफ उन्होंने जब मंत्री को फोन पर यह वाकया बताया तो मंत्री ने अपने स्टाफ का अनावश्यक बचाव करते हुए कहा कि मैं क्या कर सकता हूं।
       जगमति सांगवान ने कहा कि एक मंत्री असुरक्षित महसूस कर रही महिला को सरकारी सर्किट हाऊस में सुरक्षा की भावना प्रदान नहीं कर सकता तो पूरे मसले से संदिग्धता की बू आती है। अतः संगठन मांग करता है कि बिना विलंब के कस्टोडियल उत्पीड़न के तहत एफ.आई.आर. दर्ज करते हुए मामले की तह तक जाते हुए जनता के सामने तथ्यों को लाया जाए व महिला को न्याय दिया जाए। 
      जनवादी महिला समिति ने मांग की है कि घटनाक्रम के समय की सभी सीसीटीवी फुटेज सुरक्षित रखी जाएं ताकि निष्पक्ष ढ़ंग से जांच हो पाए। 
      उल्लेखनीय है कि रोहतक के मैना टूरिस्ट काॅम्पलैक्स में सरकार के आला अफसर द्वारा दो खिलाड़ी लड़कियों के साथ बलात्कार का मामला भी पिछले दिनों सामने आया था। आए दिन होने वाली ऐसी घटनाओं की वजह से हरियाणा की महिलाएं इन सरकारी रैस्ट हाऊसों में बेहद असुरक्षित महसूस करती हैं। देश की आधी आबादी महिलाओं के मानवाधिकारों का उल्लंघन इसमें निहित है।
फेसबुक, WhatsApp, ट्विटर पर शेयर करें

loading...

Haryana News

Post A Comment:

0 comments: