Faridabad Assembly

Palwal Assembly

Faridabad Info

पुलिसकर्मियों को पिटवाने में जुटे खट्टर, काश वेतन भी पंजाब जैसा कर दिया होता?

Haryana-Sps-news
हमें ख़बरें Email: psrajput75@gmail. WhatsApp: 9810788060 पर भेजें (Pushpendra Singh Rajput)
loading...

चंडीगढ़: अगर आप किसी विधायक के दफ्तर रोज जाते होंगे तो आपने देखा होगा कि कई बार कई पुलिसकर्मी भी आपको विधायक के दफ्तर के बाहर मिल जाते होंगे। कई पुलिसकर्मी विधायकों से फ़रियाद करते हैं कि उनकी पोस्टिंग अच्छी जगह करवाई जाए। अब ऐसे में किसी गाड़ी पर विधायक लिखा हो और उस क्षेत्र के पुलिसकर्मी उस गाड़ी का चालान कर दें ऐसा संभव इतनी जल्द नहीं हो सकता। किसी गाड़ी पर जज लिखा हो तो पुलिसकर्मी उस गाड़ी का भी चालान शायद ही काटें। अगर काटेंगे तो विधायक या जज के वो निशाने पर आ जाएंगे। विधायक उनका तबादला जंगलों में करवा सकते हैं जबकि जज साहब के कोर्ट में ऐसे पुलिसकर्मी पहुँच गए तो जज साहब भी? 
देश तेजी से बदल रहा है लेकिन इतनी तेजी भी कुछ लोगों पर भारी पड़ रही है और पड़ सकती है। हरियाणा सरकार ने भी वीआइपी कल्चर को खत्म करने के आज लिखित आदेश जारी किये  हैं। सरकारी या निजी वाहनों पर कोर्ट, आर्मी, पुलिस, प्रेस, चेयरमैन, वाइस चेयरमैन आदि शब्द लिखे जाते हैं, तो इनका चालान करने का पुलिस का अधिकार दे दिया गया है।  वाहनों पर सरपंच, आर्मी, प्रेस, पुलिस, चेयरमैन, वाइस चेयरमैन, जिला अध्यक्ष, पार्षद, मेयर, डॉक्टर आदि लिखा हुआ है, जिसे अब हटाना होगा।  

हाई कोर्ट ने इसे मोटर व्हीकल एक्ट का उल्लंघन माना है। अब सरकार ने भी लेकिन सोशल मीडिया की बात करें तो पुलिसकर्मियों को पिटवाने का काम किया गया है। लोगों का कहना है कि हरियाणा सरकार अब तक प्रदेश की पुलिस को पंजाब के सामान वेतन नहीं दे पाई। बातें हजार की जाती हैं। पुलिस कर्मियों को इतनी पावर दी जाए कि वो जज लिखी गाड़ी का चालान काटें तो उन पर कोई कार्यवाही न हो और किसी विधायक का चालान काटें तक भी ऐसा ही हो। दिमाग लगाएं तो सिर चकरा जायेगा। पुलिस चाहकर भी जजों और विधायकों का चालान शायद ही काट सके। देश भर में देखा जाता है कि कोई टोलकर्मी अगर किसी विधायक से टोल मांगते हैं तो विधायकों टोलकर्मियों को ऐसा बजाते हैं जैसे ढोल बजा रहे हों। अब ऐसे में कोई पुलिसकर्मी किसी विधायक का चालान कटेगा तो?
कोर्ट ने ऐसा आदेश दिया है और कोर्ट की बात करें तो कहा जाता है देश में अंधा कानून है। 2012 में कई दरिंदों ने दिल्ली में एक बेटी को नोच लिया और कोर्ट में उस बेटी के परिजनों को अब तक तारीख पर तारीख ही मिल रही है। निर्भया केस के बारे में आप सब अच्छी तरह से जानते होंगे। कई बार उसकी माँ विलख चुकी हैं और क़ानून में आग लगाने की बात कर चुकी हैं। 

फेसबुक, WhatsApp, ट्विटर पर शेयर करें

loading...

Haryana News

Post A Comment:

0 comments: