Faridabad Assembly

Palwal Assembly

Faridabad Info

सुपर स्मार्ट सिटी बन रहा है ग्रुरुग्राम, 38 करोड़ रुपये लेकर पहुंचे सीएम  

Haryana-CM-At-Gurugram
हमें ख़बरें Email: psrajput75@gmail. WhatsApp: 9810788060 पर भेजें (Pushpendra Singh Rajput)
loading...

चंडीगढ़, 7 दिसंबर- हरियाणा के गुरुग्राम को सुपर स्मार्ट सिटी बनाने तथा यहां पर लोगों को जनसुविधाएं तकनीक के माध्यम से उपलब्ध करवाने की दृष्टिगत मुख्यमंत्री  मनोहर लाल ने आज 38 करोड़ रुपये की लागत से गुरुग्राम के सेक्टर 44 में आईआरसीटीसी बिल्डिंग में बनाए गए इंटीग्रेडिट कमांड एंड कंट्रोल सेंटर का उदघाटन किया। ऐसी सुविधा वाला गुरुग्राम राज्य का पहला ऐसा शहर बन गया है।
इस मौके पर केन्द्रीय योजना, सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन राज्य मंत्री राव इन्द्रजीत सिंह भी उपस्थित थे।
उदघाटन अवसर पर मुख्यमंत्री, केन्द्रीय मंत्री व अन्य अतिथिगणों को अवगत कराया गया कि शहर के सभी सरकारी भवनों व पुलिस थानों को फाइवर नेटवर्क के साथ जोडा जाएगा लेकिन वर्तमान में शहर के 160 सरकारी भवनों व पुलिस थानों को फाइवर नेटवर्क के साथ जोड़ा गया है। मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि शहर में अब तक विभिन्न तीन एजेंसियों द्वारा 400 किलोमीटर का आप्टीकल फाइवर बिछाया गया है और शहर के सभी सरकारी भवनों व आस-पास की ग्राम पंचायतों को डाटा सेंटर के क्लाउट नेटवर्क के साथ जोडा जाएगा। इस सेंटर में ऑनलाईन रियल टाइम एक्सेस, निर्णयों के लिए डाटा का मूल्यांकन और रिपोर्ट, पेपरलैस कार्य, वाई-फाई के साथ हाई स्पीड बैंडविडथ और इंटरनेट की सुविधा के साथ-साथ विभिन्न कार्यालयों में वीडियों कान्फ्रेंसिंग की सुविधा भी उपलब्ध करवाई गई है।
मुख्यमंत्री को इस सेंटर में इंटीग्रेटिड स्मार्ट सर्विसज के संबंध में बताया गया कि डाटा विश्लेषण व निगरानी के लिए सीसीटीवी प्रणाली, यातायात नियंत्रण व प्रबंधन, संपत्ति व भूमि रिकार्ड प्रबंधन, सार्वजनिक यातायात, स्ट्रीट लाईट निगरानी व नियंत्रण, ठोस कचरा प्रबंधन, एसटीपी पानी की गुणवत्ता की निगरानी, पेयजल आपूर्ति की निगरानी, पर्यावरण निगरानी, शहरी सेवा सहयोग केन्द्र और मेबाईल एप के माध्यम से नागरिक भागीदारी की भी सुविधा दी गई है ताकि गुरूग्राम को एक बेहतर स्मार्ट सिटी बनाया जा सकें। इस दौरान गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री वी. उमाशंकर ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि आने वाले 6 से 9 माह के भीतर शहर के सभी सरकारी भवनों को पब्लिक वाई-फाई से सुसज्जित कर दिया जाएगा। इसके अलावा, नागरिकों को दी जाने वाली सभी नागरिक सेवाओं को एक मंच पर लाकर इस कमांड एवं कंट्रोल सेंटर हेतु एक मोबाईल एप भी विकसित किया गया है ताकि जनता मोबाईल एप के माध्यम से लाईव सुविधा को ले सकें। उन्होंने बताया कि यह एप् अभी ट्रायल पर हैं और लेकिन इसे जल्द ही लांच करवाया जाएगा। इस कंट्रोल सेंटर में भविष्य में स्मार्ट सेवाओं को एकीकृत करने के लिए जल आपूर्ति प्रणाली की निगरानी व नियंत्रण, शहर में सार्वजनिक वाई-फाई सुविधा, स्मार्ट पार्किंग, बिजली वितरण प्रणाली की निगरानी व नियंत्रण, विभिन्न संदेश संकेत  और संपति प्रबंधन को जोडा जाएगा ताकि लोगों को अधिक से अधिक त्वरित सुविधाएं देने के प्रयास किए जा सकें।
श्री उमाशंकर ने इस दौरान मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि इस सेंटर की पहुुंच बढाने के लिए 358 इंटरसेक्शन प्वांईट को चिन्हित कर योजना बनाई गई हैं और 1200 सीसीटीवी कैमरों को स्थापित किया जाएगा। फिलहाल वर्तमान में 50 इंटरसेंक्शन प्वाईंट को कवर करके 250 सीसीटीवी कैमरों को संचालित किया गया है। उन्होंने बताया कि मार्च-2020 तक 222 चैराहों पर 1200 सीसीटीवी कैमरों को संचालित कर दिया जाएगा। शहर के 28 चैराहे ऐसे हैं जहां पर अधिकतम 24 कैमरे लगाए गए हैं और वहां पर हर छोटी-बडी गतिविधि पर नजर रखी जा सकेगी। इस सेंटर में गाडी की स्पीड, पहचान, नंबर प्लेट, रंग की पहचान के अलावा हैलमेट रहित दोपहिया चालकों की पहचान की जा सकेगी। यही नहीं कैमरों के मदद से सडकों के गढढे, जलभराव और धरना प्रदर्शन की स्थिति में भीड की गणना सुविधा के साथ-साथ चेहरे की पहचान भी संभव हो पाएगी।
जीएमडीए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि इस सेंटर से स्मार्ट स्ट्रीट लाईट सुविधा को भी कंट्रोल किया जा सकता है अर्थात लाईटें यहीं से ऑन-ऑफ की जा सकती हैं और उसका पूरा रिकार्ड दर्ज होगा। इसके अलावा, ठोस कचरा प्रबंधन के कार्य में लगे वाहनों पर नजर रखने का कार्य भी इस सेंटर से हो सकेगा। इस सेंटर के साथ पेयजल आपूर्ति के मीटर को एकीकृत किया गया और एसटीपी को भी जोडा गया है। शहर के विभिन्न इलाकों में प्रदूषण की स्थिति की जांच के लिए लगाए गए स्मार्ट एंनवायरमेंट मीटर भी इस सेंटर से जुडे हुए हैं जो एक्यूआई की जानकारी देंगें।

मुख्यमंत्री को बताया गया कि इस कार्य में 25 कंपनियों ने अपना भरपूर सहयोग दिया है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने आप्टीकल फाईवर नेटवर्क से जोडे गए दो-तीन गांवों के लोगों से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से बातचीत की और बताया कि उनके गांव में फाइबर केबल आने से गांव में इंटरनेट की सुविधा मिलेगी तथा सूचनाओं का आसानी से आदान-प्रदान होगा।
पटौदी के विधायक सत्यप्रकाश जरावता, सोहना के विधायक संजय सिंह, बादशाहपुर के विधायक राकेश दौलताबाद, मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार श्री अमित आर्य, राजनीतिक सचिव अजय गौड, मेयर मधु आजाद, मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव वी. उमाशंकर, राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव धनपत सिंह, नगर एवं ग्राम आयोजना विभाग के प्रधान सचिव ए के सिंह, गुरूग्राम के पुलिस आयुक्त मोहम्मद अकील, हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के प्रशासक चंद्रशेखर खरे, गुरूग्राम के उपायुक्त अमित खत्री, करनाल के उपायुक्त विनय प्रताप सिंह, भाजपा प्रवक्ता रमन मलिक सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।
फेसबुक, WhatsApp, ट्विटर पर शेयर करें

loading...

Haryana News

Post A Comment:

0 comments: