Faridabad Assembly

Palwal Assembly

Faridabad Info

रोहतक में  कोरोना का कोई मरीज नहीं 

haryana-news
हमें ख़बरें Email: psrajput75@gmail. WhatsApp: 9810788060 पर भेजें (Pushpendra Singh Rajput)
loading...

हर्षित सैनी- रोहतक, 3 अप्रैल। रोहतक मंडल के आयुक्त डॉ. डी सुरेश ने कहा कि जिला में कोविड-19 कोरोना वायरस पूरी तरह नियंत्रण में है। जिला में इस वायरस के समुदाय संक्रमण की अब तक कोई रिपोर्ट नहीं है। जिला प्रशासन द्वारा लोकडाउन एवं धारा 144 को सख्ती से लागू किया जा रहा है तथा इनका उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा रही है।
             मंडलायुक्त डॉ. डी सुरेश आज स्थानीय लघु सचिवालय स्थित सभागार में उपायुक्त आर एस वर्मा, पुलिस अधीक्षक राहुल शर्मा, अतिरिक्त उपायुक्त महेंद्रपाल, उपमंडलाधीश राकेश कुमार सैनी व नगराधीश जगनिवास, डीडीपीओ नरेंद्र धनखड़, सिविल सर्जन डॉ. अनिल बिरला के साथ प्रेस वार्ता में प्रैस प्रतिनिधियों से बातचीत कर रहे थे।
     उन्होंने बताया कि जिला में विदेशों से लौटने वाले 153 व्यक्तियों को क्यूरेंटाइन किया गया है। 65 संदिग्ध व्यक्तियों की जांच की गई है, जिनकी रिपोर्ट नेगेटिव मिली है। जिला में कोई भी व्यक्ति कोरोना वायरस संक्रमित नहीं है।
      मंडलायुक्त ने बताया कि प्रशासन द्वारा स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से आश्रय स्थलों में रह रहे 504 प्रवासी मजदूरों को रहने व खाने की सभी सुविधाएं उपलब्ध करवाई जा रही है। जिला प्रशासन की वर्तमान हालात पर पैनी नजर बनी हुई तथा निरंतर कोरोना वायरस संक्रमण की समीक्षा की जा रही है।
         उन्होंने कहा कि जिला में कोरोना वायरस संक्रमण की 65 संदिग्ध व्यक्तियों की जांच की गई, जिनकी रिपोर्ट नेगेटिव मिली है। जिला प्रशासन द्वारा लोकडाउन एवं धारा 144 को सख्ती से लागू किया जा रहा है। धारा 144 का उल्लंघन करने वाले लगभग 350 केस दर्ज किये गये है तथा 109 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है। इस दौरान लगभग तीन हजार वाहनों का चालान किया गया है तथा 400 वाहनों को जब्त किया गया है। 
            डॉ. डी सुरेश ने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा प्रवासी मजदूरों व कामगारों के ठहरने हेतू 15 हजार व्यक्तियों की क्षमता के 45 आश्रय केंद्र स्थापित किए गए हैं। इन आश्रय केंद्रों में फिलहाल 504 प्रवासी मजदूर रह रहे है। जिला प्रशासन द्वारा इनके ठहरने के सभी प्रबंध किए गए हैं तथा स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से खाने-पीने के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं।
      जिला प्रशासन द्वारा इन संस्थाओं के साथ तालमेल करके सभी को आवश्यक खाद्य सामग्री उपलब्ध करवाई जा रही है। स्वयंसेवी संस्थाओं ने लोगों की सेवा करने का जुनून है। प्रशासन द्वारा प्रवासी मजदूरों व अन्य जरूरतमंद व्यक्तियों को खाना वितरित करने पर निगरानी हेतू समिति का गठन किया गया है। 
      उन्होंने कहा कि अभी तक जिला में विभिन्न संस्थाओं के माध्यम से 2 लाख 21 हजार खाने के पैकेट तथा लगभग 85 हजार सूखे राशन के पैकेट वितरित किए गए हैं। प्रशासन द्वारा पंचायती राज संस्थाओं के निर्वाचित जनप्रतिनिधियों तथा स्वयंसेवी संस्थाओं को जरूरतमंद व्यक्तियों की मदद करने हेतू प्रोत्साहित किया जा रहा है। गांवों में रह रहे प्रवासी मजदूरों के ठहरने एवं खाने-पीने के प्रबंध संबंधित सरपंचों अथवा किसानों द्वारा किए गए हैं।
      प्रशासन द्वारा किसी भी प्रकार की आपात स्थिति से निपटने हेतु सभी आवश्यक प्रबंध किए गए हैं तथा जरूरतमंद व्यक्तियों को तुरंत सहायता पहुंचाने हेतू भी व्यवस्थाएं की गई है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के किसी भी संदिग्ध व्यक्ति की सूचना प्राप्त होते ही जिला प्रशासन द्वारा टैस्ट करवाया जाता है। प्रत्येक टैस्ट पर 45 सौ रुपये खर्च आता है। सभी आवश्यक मेडिकल सुविधाएं भी जिला में उपलब्ध है। 
         मंडलायुक्त ने कहा कि वे स्वयं आश्रय केंद्रों में रहने वाले व्यक्तियों से मिलकर उन्हें उपलब्ध हो रही सुविधाओं की निरंतर समीक्षा कर रहे हैं। स्थानीय दयानंद मठ में हर दिन एम्बुलेंस को भेजा जा रहा है तथा आवश्यकता अनुसार इन व्यक्तियों को चिकित्सा सुविधा भी उपलब्ध करवाई जा रही है। उन्होंने कहा कि कम से कम समय में जिला प्रशासन द्वारा आपात स्थिति में लगभग तीन हजार बिस्तरों की व्यवस्था करने केे प्रबंध भी किए गए हैं।
         प्रदेश सरकार के निर्देशानुसार मजदूरों को आर्थिक सहायता उपलब्ध करवाने हेतू लगभग 10 हजार मजदूरों का पंजीकरण किया गया है। प्रशासन द्वारा स्थापित किए गए नियंत्रण कक्ष में अभी तक लगभग 3500 कॉल प्राप्त हुई है। सभी ड्यूटी मैजिस्टे्रट को निर्देश दिए गए हैं कि वे लोगों को लोकडाऊन व धारा 144 का स्वैच्छा से पालन करवाने हेतू इस वायरस के बारे में पूरी जानकारी दें ताकि वे स्वैच्छा से इसका पालन करें।
जिला में कृषि यंत्रों व वाहनों को लोकडाऊन से किया मुक्त-उपायुक्त
उपायुक्त आरएस वर्मा ने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा किसानों की सुविधा हेतू फसल कटाई के लिए कृषि यंत्रों व कृषि वाहनों को लोकडाऊन से मुक्त किया है। कृषि उपनिदेशक को कृषि यंत्रों व कृषि वाहनों को अनुमति प्रदान करने हेतू अधिकृत किया गया है। जिला में 137 हारवेस्टिंग कंबाइन उपलब्ध है।
     उन्होंने बताया कि प्रशासन द्वारा पंजाब, मध्य प्रदेश व अन्य प्रदेश से फसल कटाई हेतू आने वाली हारवेस्टिंग कंबाइन को अनुमति प्रदान की गई है तथा सभी नाकों पर तैनात पुलिस कर्मियों को इस बारे में सूचित किया गया है। जिला में किसी भी पुलिस नाके पर फसल कटाई हेतू आने वाली हारवेस्टिंग कंबाइन को नहीं रोका जा रहा है।
          वर्मा ने कहा कि जिला में राशन वितरण का कार्य चल रहा है। सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत जिला के एक लाख 8 हजार 688 कार्ड धारकों को राशन वितरित किया जा रहा है। इनमें बीपीएल कार्ड धारक, एएवाई कार्ड धारक व ओपीएच कार्ड धारक शामिल है। जिला में मिडे-मिल व आंगनवाड़ियों में भी राशन का वितरण किया जा रहा है। जिला के ग्रामीण क्षेत्र में रह रहे प्रवासी मजदूरों के रहने व खाने के प्रबंध संबंधित ग्राम पंचायत अथवा किसान द्वारा करवाए जा रहे हैं।
फेसबुक, WhatsApp, ट्विटर पर शेयर करें

loading...

Haryana News

Post A Comment:

0 comments: