Faridabad Assembly

Palwal Assembly

Faridabad Info

केबिनेट मंत्री मूलचंद शर्मा ने सभी आईटीआई में सोलर सिस्टम लगाने के  निर्देश दिए

Moolchand-Sharma-Haryana-minister
हमें ख़बरें Email: psrajput75@gmail. WhatsApp: 9810788060 पर भेजें (Pushpendra Singh Rajput)
loading...

चंडीगढ़, 20 नवंबर- हरियाणा के कौशल विकास एवं औद्योगिक प्रशिक्षण मंत्री  मूलचंद शर्मा ने सरकारी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों में अनुदेशकों की भर्ती प्राथमिकता आधार पर करने, भवन निर्माण कार्यों को जल्द से जल्द पूरा करवाने और सभी आईटीआई में सोलर सिस्टम लगाने के  निर्देश दिए हैं।
=मूलचंद शर्मा आज यहां कौशल विकास एवं औद्योगिक प्रशिक्षण विभाग, हरियाणा कौशल विकास मिशन और विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय के विकास कार्यों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। बैठक में विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री देवेंद्र सिंह, निदेशक श्री प्रभजोत सिंह तथा कौशल विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर श्री राज नेहरू भी उपस्थित थे।
= मूलचंद शर्मा ने कहा कि औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों के अपने भवन और पर्याप्त संख्या में इंस्ट्रक्टर का होना बेहद जरूरी है क्योंकि जब हमारे पास बुनियादी ढांचा मजबूत होगा तभी हम अपने युवाओं को समुचित प्रशिक्षण दे पाएंगे। उन्होंने कहा कि विभाग में इंस्ट्रक्टर समेत विभिन्न श्रेणियों के खाली पदों को प्राथमिकता आधार पर भरने के लिए हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग के साथ पैरवी की जाएगी। उन्होंने कौशल विश्वविद्यालय में दुधौला गांव के बच्चों के दाखिले की स्थिति के बारे में भी जानकारी ली। इसके अलावा, उन्होंने प्रदेश में समय-समय पर लगाए गए रोजगार मेलों के संबंध में भी जानकारी ली। उन्होंने आश्वासन दिलाया कि उनकी तरफ से विभाग के अधिकारियों को हर तरह का सहयोग मिलेगा।

बैठक के दौरान मंत्री को बताया गया कि इस समय विभाग द्वारा 172 सरकारी आईटीआई तथा क्राफ्ट्समैन ट्रेंनिग स्कीम के तहत 246 निजी आईटीआई के एक विशाल नेटवर्क के माध्यम से प्रदेश के बेरोजगार युवाओं को कौशल आधारित प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है ताकि वे कड़ी प्रतिस्पर्धा के इस दौर में निजी क्षेत्र में भी आसानी से रोजगार हासिल करने के काबिल बन सकें। इन संस्थानों में एक और दो वर्ष की अवधि के इंजीनियरिंग व गैर-इंजीनियरिंग ट्रेड कोर्स चलाए जा रहे हैं। चालू शैक्षणिक वर्ष 2019-20 के दौरान सरकारी आईटीआई में दाखिले हेतु 2610 ट्रेड यूनिटस में 57328 स्वीकृत सीटें तथा निजी आईटीआई में 1593 ट्रेड यूनिटस में 34388 सीटें थी। सत्र 2019-20 के दौरान सरकारी तथा निजी आईटीआई में 65627 प्रशिक्षुओं को दाखिला दिया गया। इस दौरान जानकारी दी गई कि वर्ष 1966 में हरियाणा गठन के समय प्रदेश में 48 सरकारी आईटीआई थी जिनकी दाखिला क्षमता 7156 थी। अब प्रदेश में सरकारी और प्राइवेट आईटीआई की संख्या 418 है जिनमें 80 विभिन्न ट्रेडों में 91716 स्वीकृत सीटें हंै।

 बैठक के दौरान अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री देवेंद्र सिंह ने विभाग के  विभिन्न कार्यक्रमों और योजनाओं का संक्षिप्त विवरण देते हुए कहा कि विभाग का उददेश्य है कि ट्रेनिंग स्टेज पर ही युवा इंडस्ट्री से जुड़ें जिसके लिए विभाग में प्रशिक्षण स्तर पर आमूल-चूल परिवर्तन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के क्रियान्वयन के लिए हरियाणा को देशभर में प्रथम स्थान मिला है। उन्होंने बताया कि विभाग द्वारा युवाओं में कौशल विकास को प्रोत्साहित करने और उन्हें रोजगार के काबिल बनाने के लिए कई तरह के कदम उठाए गए हैं। इसी दिशा में प्रदेश के औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों में प्रशिक्षण लेने के इच्छुक विद्यार्थियों के लिए आईटीआई स्टार रेटिंग पोर्टल शुरू किया गया है। यह पूरे देश में अपनी तरह का अनूठा पोर्टल है जो आईटीआई का चयन करने के संबंध में छात्रों के लिए मील का पत्थर साबित हो रहा है। इस पोर्टल को ऑनलाइन एडमिशन पोर्टल के साथ भी लिंक किया गया है।  
श्री देवेंद्र सिंह ने बताया कि हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड, भिवानी द्वारा सभी आईटीआई के विद्यार्थियों को दसवीं और 12वीं की समकक्षता देने का निर्णय लिया गया है। दसवीं की समकक्षता प्राप्त करने के लिए आईटीआई के विद्यार्थियों को दो वर्षीय कोर्स पूरा करने के बाद दसवीं स्तर की हिन्दी और अंग्रेजी विषय की परीक्षा पास करनी होगी। इसी तरह, 12वीं कक्षा की समकक्षता प्राप्त करने के लिए दो वर्षीय कोर्स पूरा करने के बाद आईटीआई के छात्रों को बोर्ड द्वारा संचालित 12वीं कक्षा की हिंदी और अंग्रेजी की परीक्षा उर्तीण करनी होगी।  
कौशल विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर श्री राज नेहरू ने बैठक के दौरान मंत्री श्री मूलचंद शर्मा को विश्वविद्यालय द्वारा चलाए जा रहे विभिन्न कार्यक्रमों की संक्षिप्त जानकारी देते हुए बताया कि विश्वविद्यालय में जर्मन भाषा में कोर्स शुरू किया गया है जिसका लाभ विशेष रूप से हरियाणा के युवाओं को हो रहा है। जर्मन भाषा में 6 मास का कोर्स करने के बाद कोई भी युवा 20-25 हजार रूपये आराम से कमा सकता है। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय द्वारा इनोवेशन स्कूल के नाम से एक फीडर स्कूल खोला जा रहा है जिसमेें खेलों में रुचि रखने वाले बच्चों को 9वीं कक्षा में दाखिला दिया जाएगा और संबंधित विधा से जुड़े लोग ही उनकी दाखिला परीक्षा लेंगे।
फेसबुक, WhatsApp, ट्विटर पर शेयर करें

loading...

Haryana News

Post A Comment:

0 comments: